कलेक्टर के निर्देश पर एनीकट गेट को किया गया बंद,जल भराव होने से भू-जल स्तर में हुई बढ़ोतरी


बेमेतरा।कलेक्टर महादेव कावरे के निर्देश पर जिले के 13 एनीकटों पर गेट को वेल्डिंग द्वारा जाम किया गया है। जिससे इस वर्ष पूर्व वर्षाें की तुलना में अधिक जलभराव हुआ है। जिले की तीन समूह जलप्रदाय योजना अमोरा, तिवरैया एवं नांदघाट में संचालित की जा रही है एवं जलभराव होने से आसपास के एक किलोमीटर नदी के किनारे भू-जलस्तर में बढ़ोत्तरी हुई है शिवनाथ नदी में जलभराव होने से रेत का अवैध उत्खनन पर भी अंकुश लगा है। जिला प्रशासन द्वारा रेत खनन की अनुमति नहीं मिलने से रेत का उत्खनन नहीं किया जा सकता।सीजीवालडॉटकॉम के Whatsapp ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

जिले की जीवनदायिनी शिवनाथ नदी का बहाव क्षेत्र जिले में लगभग 95 किलोमीटर है। जल संसाधन विभाग के कार्यपालन अभियंता कुलदीप नारंग ने बताया कि इन एनीकट की कुल जल संग्रहण क्षमता 27.28 मि.घनमीटर है। जिनसे निस्तारी पेयजल के साथ-साथ कृषकों द्वारा स्वयं के साधन से 2094 हेक्टेयर में सिंचाई हेतु जल लिया जाना प्रावधानित है।

इन एनीकटों से कुल 47 गांव लाभान्वित हो रहे है। पी.एच.ई. विभाग द्वारा समूह पेयजल योजना के अंतर्गत खम्हरिया-पाथरपूंजी एनीकट से साजा समूह पेयजल योजना के लिए, अमोरा एनीकट से बेमेतरा शहर तथा ग्रामीण समूह पेयजल योजना के लिए तथा नांदघाट-लिमतरा एनीकट से नवागढ़ समूह पेयजल येाजना हेतु पेयजल की आपूर्ति की जा रही है। जिससे खारे पानी प्रभावित इन क्षेत्र के लोगों को मीठा पेयजल उपलब्ध हो रहा हैै। इन एनीकटों से बेमेतरा विकासखंड के 57 गांव, नवागढ़ ब्लाॅक के 54 गांव एवं साजा विकासखंड के 17 ग्राम इस प्रकार जिले के कुल 130 ग्रामों को पेयजल उपलब्ध कराना प्रस्तावित है।

 वर्तमान में इन एनीकटों से उनकी जल संग्रहण क्षमता के अनुरूप पूर्ण जलभराव उपलब्ध है, बेमेतरा जिले में जल संसाधन विभाग के 35एनीकट है जिनमें शिवनाथ नदी में 13, हाफ नदी में चार, सकरी नदी में तीन, सुरही नदी में पांच, डोटू नाला में चार, करूवा नाला में एक एवं लोकल नाला में तीन एनीकट का निर्माण किया जा चुका है। शिवनाथ नदी को छोड़कर शेष नदियों के एनीकट में पानी ग्रीष्म ऋतु के कारण उपलब्ध नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *