झोला छाप डॉक्टरों के विरूद्ध होगी कार्रवाई,कलेक्टर ने टीम गठित कर कार्यवाई के दिये निर्देश


बलौदाबाजार-
कलेक्टर कार्तिकेया गोयल ने झोला छाप डॉक्टरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने जिले के खासकर बिलाईगढ़ और सरसीवां क्षेत्र में झोला छाप डॉक्टरों के सक्रिय होने की सूचना पर एस.डी.एम. के नेतृत्व में गठित विकासखण्ड स्तरीय टीम को ऐसे लोगों की पहचान कर तत्काल दण्डात्मक कार्रवाई करने कहा है। श्री गोयल जिला कार्यालय के सभाकक्ष में अधिकारियों की बैठक लेकर जनहित से जुड़े महत्वपूर्ण विषयों के निराकरण के प्रगति की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में जिला पंचायत के सी.ई.ओ. एस.जयवर्धन सहित जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।सीजीवालडॉटकॉम के Whatsapp ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

कलेक्टर ने बैठक में समितियों में खाद-बीज की उपलब्धता और भीषण गर्मी में पेयजल समस्या जैसे समसामयिक विषयों की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि खरीफ बोआई का मौसम जल्द शुरू होने वाला है। किसान इसकी तैयारी में लग चुके हैं। किसानों की मांग के अनुरूप सहकारी समितियों में खाद और बीज की निरंतर उपलब्धता बनी रहनी चाहिए। खाद-बीज के लिए किसानों को किसी तरह की दिक्कत पेश नहीं आनी चाहिए।

यह भी पढे-ग्रामीण क्षेत्रों में मिट्टी तेल नहीं मिलने की शिकायत पर दुकानदारों के खिलाफ होगी कार्यवाही

कलेक्टर ने कहा कि प्रति सप्ताह सोमवार को इसकी समीक्षा की जाएगी। उप संचालक कृषि ने बताया कि संपूर्ण भण्डारण क्षमता का 49 प्रतिशत खाद्य बीज भण्डारित हो चुका है। गुणवत्ता के लिए खाद के 11 नमूने लिए गए हैं। उन्होंने कहा कि बीज-खाद की किसी भी सोसायटी में कमी नहीं है। सिंचाई विभाग के अधिकारियों ने बैठक में बताया कि टेल एरिया तक पानी पहुंच चुका है। दो-तीन दिनों में तालाब भराई का काम पूर्ण हो जाएगा।

यह भी पढे-शिक्षकों के लिए गर्मी की छुट्टी नही,BEO का आदेश-समर कैम्प से गैरहाज़िर शिक्षकों पर होगी कार्यवाई

जिला मुख्यालय में भी तालाबों के भरने से भू-जल स्तर में सुधार आया है। पेयजल तथा निस्तारी की समस्या कम करने में कामयाबी मिली है। कलेक्टर ने कहा जिला अस्पताल में आयुष विंग भी खोला जाएगा। इसके लिए राज्य सरकार से स्वीकृति मिल चुकी है। उन्होंने सी.एम.एच.ओ. को जिला अस्पताल में इसके लिए स्थान आरक्षित करके सूचित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने स्कूली बच्चों के जाति प्रमाण पत्र की भी समीक्षा की और इस संबंध में सटीक जानकारी उपलब्ध नहीं करा पाने पर स्कूल शिक्षा विभाग के प्रति नाराजगी जाहिर की।

Comments

  1. By Dr Naveen Kumar Kaushik

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *