डेढ़ हजार किलोमीटर दूर पहुंचा छत्तीसगढ़ी जायका …ठेठरी – खुरमी अब दिल्ली में भी … चीला – चटनी के स्वाद के साथ अपनेपन का अहसास

नईदिल्ली/रायपुर।छत्तीसगढ़ एक एेसा प्रदेश हैं जहां प्रचूर मात्रा में खाद्य पदार्थो का उत्पादन होता हैं।एेसे में छत्तीसगढ़ के भोजन सहित चाय ओर नाश्ते व विभिन्न अवसरों में लिया जाने वाला स्नैक्स भी देशभर में प्रसिद्ध हैं।छत्तीसगढ़ के स्नैक्स की बात हो तो मुँह में पानी आना लाज़मी हे।आज जहाँ लोग फ़ास्ट- फ़ूड से बोर हो गये हे वहीं नई दिल्ली के सरदार पटेल मार्ग में स्थित छत्तीसगढ़ भवन ने देश की राजधानी वासियों के लिए छत्तीसगढ़ के फ़्रेश स्नैक्स बिक्री हेतु उपलब्ध कराए हे ।

छत्तीसगढ़ के प्रसिद्ध स्नैक्स में ,ठेठरी – बेसन की नमकीन, सलौनी – एक नमकीन व्यंजन, पिडिहा – छेना चावल, घी, शक्कर की मिठाई ,खुर्मी – यह एक मीठा व्यंजन ,जो गेहूँ एवं चावल आटे से बना , लड्डुओं की अनेको वेरायीटी के साथ दादी- ओर माँ की याद दिला देने वाले वे सभी देशी स्नैक्स नई दिल्ली के छत्तीसगढ़ भवन में आम लोगों के बिक्री हेतु उपलब्ध हे ।

छत्तीसगढ़िया सबसे बढ़िया तो हैं ही छत्तीसगढ़ के खाने का भी कोई जवाब नहीं। चावल के आटे से बने गरम-गरम चीलो के साथ टमाटर धनिये की चटनी, कड़ी पत्ता के छौक से महकता हुआ फरा और चाय के साथ बेसन की बनी चटपटी ठेठरी। आ गया न मुंह में पानी। अब ये सब जायकेदार छत्तीसगढ़ी पकवानो का जायका आपको छत्तीसगढ़ से लगभग 1300 किलोमीटर दूर दिल्ली में गरामागरम मिल सकता है। और इसके लिए आपको जाना होगा सरदार पटेल मार्ग, चाणक्यपुरी स्थित छत्तीसगढ़ भवन में।

लगभग एक महीने पहले ही शुरू हुए छत्तीसगढ भवन के कैंटीन में छत्तीसगढ़ी खाने के साथ ही छत्तीसगढ़ी स्नैक्स भी बिक्री के लिए उपलब्ध हे । कैंटीन में आप मुनगा की सब्जी, का भी आनंद ले सकते है। ये छत्तीसगढ़ी पारंपरिक पकवान न केवल स्वादिषट् है बल्कि सेहत के नजरिये से भी बहुत फायदेमंद है। मुनगा याने सहजन न केवल रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है बल्कि पेट के रोगों से भी निजात दिलाता है।

छत्तीसगढ़ के पकवानों की शौकीन सृष्टि पंड्या का कहना है कि छत्तीसगढ़ी चीले का स्वाद दोसे से कम नहीं है। टमाटर की चटनी ने सोने पर सुहागे का काम किया है। उन्होंने कहा कि चीला ना केवल स्वादिष्ट है बल्कि सुपाच्य भी है।

आईआईटी दिल्ली में रिसर्च स्कॉलर छत्तीसगढ़  के शिरीष शुक्ला ने कहा कि घर से दूर छत्तीसगढ़ी खाने के स्वाद ने मम्मी के हाथ के खाने की याद दिला दी।

छत्तीसगढ़ भवन के कैंटीन के इंटीरियर में बैठकर न केवल आपको छत्तीसढ़ में होने का अहसास होगा बल्कि कैंटीन की किफायती दरें आपके जेब में भी वजन नहीं डालेंगी। तो अब आनंद लिजिए दिल्ली में छत्तीसगढ़ के मशहूर स्नैक्स का।

Comments

  1. By Dr Naveen Kumar Kaushik

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *