गणना की गुत्थी को मास्टर ट्रेनर ने समझाया..अधिकारियों को दिया प्रशिक्षण…प्रोजेक्टर पर दी गयी प्रक्रिया की जानकारी

 बिलासपुर–लोक सभा निर्वाचन मतगणना के लिए इव्हीएम और वीवीपेट के लिए नियुक्त माइक्रोआब्जर्वर, पोस्टल बैलेट और इलेक्ट्रानिक ट्रांसमिटेड पोस्टल बैलेट की गणना के लिए गणना सहायकों को द्वितीय चरण में प्रशिक्षण दिया गया। जलसंसाधन विभाग के प्रार्थना भवन में मास्टर ट्रेनर शैलेष पांण्डेय ने मतगणना कर्मचारियों को विस्तार से प्रशिक्षण दिया। वर्गीकृत सेवा मतदाताओं की तरफ से इटीपीबी में चार क्यूआरकोड स्केन करना होगा। सबसे पहले लिफाफा 13 सी स्केन होगा। घोषणा पत्र 13 ए की जांच के बाद क्यूआरकोड स्केन होगा। अंत में 13 बी स्केन किया जाएगा। इस बार मतपत्र स्केन नहीं होगा।सीजीवालडॉटकॉम के व्हाट्सएप्प ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करे
                   मास्टर ट्रैनर ने बताया कि साधारण पोस्टल बैलेट के मतगणना के लिए सबसे पहले लिफाफा 13 सी की जांच होगी। इसके बाद मतपत्रों की संवीक्षा होगी। मतपत्र सही पाये जाने पर ही उसकी गणना की जाएगी। इसके बाद फार्मेट एक में गणना पत्रक बनाया जाएगा। पोस्टल बैलेट के गणना पत्रक में गणना पर्यवेक्षक, गणना एजेंट, आरओ और एआरओ का हस्ताक्षर होगा।  एक टेबल में 500 पोस्टल बैलेट की गणना होगी। गणना के लिए एक पर्यवेक्षक और दो गणना सहायक, एक माइक्रोआब्जर्वर और एक एआरओ होंगे।
        मास्टर ट्रैनर ने जानकारी दी कि डाक मतपत्रों की गणना सबसे पहले होगी। गणना प्रारंभ होने के आधे घंटे के बाद ईवीएम के मतों की गणना प्रारंभ की जाएगी। इर दौरान  मतगणना कर्मचारियों को पावर पाइंट पे्रजेंटेशन के माध्यम से प्रशिक्षण दिया गया। इस अवसर पर प्रशिक्षण के नोडल अधिकारी डिप्टी कलेक्टर दिव्या अग्रवाल, देवेंद्र पटेल, और सम्बंधित अधिकारी, कर्मचारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *