छत्तीसगढ़ भवन में चावल खरीददारों की लगी भीड़ : पहले ही दिन लगभग 200 किलो चावल की हुई बिक्री

नईदिल्ली।पहले ही दिन चावल खरीददारों का नई दिल्ली के छत्तीसगढ़ भवन में ताँता सा लग गया। लगभग 200 किलो चावल की बिक्री के साथ बड़ी मात्रा में छत्तीसगढ़ी स्नैक्स और हैंडीक्राफ्ट के विभिन्न उत्पाद छत्तीसगढ़ भवन में आने वाले ग्राहकों की पहली पसंद बने।नई दिल्ली के चाणक्यपुरी स्थित ‘छत्तीसगढ़ भवन’ में 15 से 20 मई तक चावल बिक्री मेले का आयोजन किया गया है। लोग इस मेले में निर्धारित दिन में यहाँ आकर मनपसंद छत्तीसगढ़ के एरोमेटिक चावल खरीद सकते है। यह चावल ऑर्गैनिक के साथ-साथ सेहत के लिए भी बेहद लाभकारी है।

इस मेले में फ्रेश देशी छत्तीसगढ़ी स्नैक्स और हस्तशिल्प और हथकरघा के विभिन्न आइटम आम लोगों के लिए बिक्री हेतु उपलब्ध हैं।

छत्तीसगढ़ का सुगंधित धान पूरे देश में पहचान रखता है। जवा फूल, दुबराज, विष्णु भोग, एचएमटी, श्रीराम, लुचई जैसी सुगंधित धान की किस्में राज्य की पहचान है। चाहे बिलासपुर हो या मुंगेली, महासमुंद या धमतरी, सभी जिलों में सुगंधित धान की खेती हो रही है। हर क्षेत्र में अलग-अलग किस्में।

ऑर्गेनिक और एरोमेटिक चावल के कई फायदे हैं। इसमें स्टार्च की मात्रा अधिक होती है। इसके अलावा बालियों में छोटा व पतला दाना है जो प्राकृतिक तत्वों से भरपूर होता है। इस विशेष चावल में एंटीऑक्सिडेंट की मात्रा ज्यादा है। इसके अलावा इसमें विटामिन ई, फाइबर और प्रोटीन की प्रचुरता सामान्य चावलों से भी अधिक है।

इनमें मौजूद विशेष एंटी ऑक्सीडेंट तत्व त्वचा व आंखों के लिए फायदेमंद होते हैं। इसमें मौजूद फाइबर पाचन तंत्र को दुरुस्त करने के साथ आंत की बीमारी को भी दूर करते हैं। ये चावल मोटापा कम करने के लिए भी बेहद लाभदायक हैं। दिल को स्वस्थ और मजबूत रखने के लिए भी ये सहायक है और इन सब खूबियों वाले खास चावल अब दिल्ली के छत्तीसगढ़ भवन आम लोगों के लिए उपलब्ध है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *