मास्टर ट्रेनर ने बताया…पल पल की गतिविधियों की होगी वीडियोग्राफी….पुलिस सुरक्षा की बीच होगी गणना

 बिलासपुर—बिलासपुर लोकसभा निर्वाचन के मतगणना के लिए बुधवार को रिटर्निंग अधिकारी, सभी आठ विधानसभा क्षेत्रों के सहायक रिटर्निंग अधिकारियों और अन्य अधिकारियों का प्रशिक्षण दिया गया। मतगणना के लिए प्रशासकीय, प्रबंधकीय व्यवस्था, सुरक्षा व्यवस्था की तैयारियों को लेकर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय रायपुर के मास्टर ट्रेनर्स ने टिप्स दिए। प्रशिक्षण कार्यक्रम में बिलासपुर कलेक्टर डाॅ संजय अलंग और मुंगेली कलेक्टर सर्वेश्वर नरेन्द्र भूरे भी मौजूद थे।
               मंथन सभागार में मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय के असिस्टेंट सीईओ मनीष मिश्रा और आशीष टिकरिहा ने मतगणना व्यवस्था को लेकर भारत निर्वाचन आयोग के दिशा निर्देशों की जानकारी दी। डाक मतपत्रों, ईवीएम में दर्ज मतों, वीवीपैट से गणना के संबंध में प्रशिक्षण दिया गया। गणना के लिए प्रत्येक टेबल में पर्यर्वेक्षक, गणना सहायक के कार्यो के संबंध में जानकारी दी गयी।  बताया कि राजपत्रित अधिकारियों को गणना पर्यवेक्षक और केंद्रीय सरकार के अधिकारियों को माइक्रोआब्जर्वर नियुक्त किया जाना है। मतगणना के बाद किन-किन प्रपत्रों की सिलिंग करनी है इसकी भी जानकारी दी गी। स्ट्रांग रूम से गणना कक्ष के टेबलों तक इवीएम को लाने के लिए परिवहन अधिकारी और प्रत्येक टेबल के लिए भृत्य  नियुक्त किए जाने के बार में भी बताया।
                       मास्टर ट्रैनर ने बताया कि मतगणना स्थल पर सुरक्षा के लिए मजिस्ट्रेट नियुक्त किया जाएगा।  निर्वाचन के अधिकारियों से तालमेल बनाकर कार्य करेंगे। रिजर्व गणना स्टाफ भी तैनात रहेगा। मतगणना स्थल पर इंटरनेट, फोन की सुचारू व्यवस्था के लिए बीएसएनएल अधिकारी कर्मचारी उपस्थित रहेंगे। विद्युत, फायर ब्रिगेड और लोक निर्माण विभाग के स्टाफ भी पूरी तैयारीसे तैयार रहेगा। मतगणना स्थल पर पूरी प्रक्रिया की विडियोग्राफी भी करायी जाएगी। वीवीपैट के पर्ची की गणना की भी विडियोग्राफी होगी। मतगणना प्रारंभ होने से पहले प्रारूप 17 सी भाग-1 पीठासीन के डायरी को अच्छे से देखेगा। मतगणना स्थल में प्रवेश के लिए विधानसभा वार कलर कोड वाला पास जारी किया जा सकता है। प्रत्येक विधानसभा के 5-5 वीवीपेट की गणना की जाएगी।
                     प्रशिक्षण के दौरान मतगणना संबंधित वैधानिक प्रावधानों को विस्तार से बताया गया। सुरक्षा व्यवस्था के लिए पुलिस की भूमिका के संबंध में आयोग के महत्वपूर्ण निर्देशों की जानकारी दी गयी। बताया गया कि मतगणना स्थल में मोबाइल, पेन, केल्कुलेटर अन्य इलेक्ट्रानिक डिवाइस प्रतिबंधित रहेंगे।
                   कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी ने भी अधिकारियों को आवश्यक मार्गदर्शन दिया। बताया कि मतगणना प्रक्रिया में कहीं भी कोई समस्या हो तो सदर्भ ग्रंथ का अध्ययन करें..इसके बाद निर्णय लें। भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशों का अक्षरशः पालन हो। कोई भी प्रक्रिया प्रारंभ करने के पूर्व प्रपत्रों का गहराई से जांच करें और कोई त्रुटि हो तो उसे ध्यान में लाएं।
                                                प्रशिक्षण कार्यक्रम में बिलासपुर और मुंगेली जिले के आठ विधानसभा क्षेत्राें के सहायक रिटर्निंग, रिजर्व और मतगणना सहायक रिटर्निंग अधिकारी, पोस्टल बैलेट के सहायक रिटर्निंग अधिकारी के अलावा दोनों जिलों के  उप जिला निर्वाचन अधिकारी और सभी विधानसभा क्षेत्रों के मास्टर ट्रेनर उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *