पीएम मोदी-अमित शाह को क्लीन चिट देने के फैसले पर चुनाव आयोग-चुनाव आयुक्त में टकराव,कांग्रेस ने बताया लोकतंत्र के लिए काला दिन


नईदिल्ली।
भारतीय निर्वाचन आयोग द्वारा आचार संहिता उल्लंघन मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को क्लीन चिट देने के बाद राजनीति गरमा गई है. एक तरफ जहां चुनाव आयोग के फैसले का विरोध करते हुए चुनाव आयुक्त अशोक लवासा ने चिट्ठी लिखी है और ईसी की बैठक में शामिल होने से इनकार कर दिया है, वहीं कांग्रेस ने चुनाव आयोग के सदस्यों के बीच जारी विवाद को लेकर हल्ला बोला है. कांग्रेस ने इसे लोकतंत्र के लिए काला दिन बताया है.

शनिवार सुबह कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट करते हुए इस मामले मे पीएम नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोला. उन्होंने कहा- मोदी सरकार में संस्थानिक एकता संकट में है. सुप्रीम कोर्ट के जज सार्वजनिक रूप से केंद्र सरकार की आलोचना करते हैं, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के गवर्नर इस्तीफा देते हैं, सीबीआई निदेशक को हटा दिया जाता है, मुख्य सतर्कता आयुक्त की अलग ही रिपोर्ट आती है और अब चुनाव आयोग के सदस्यों में टकराव देखने को मिल रहे हैं. चुनाव आयोग चुनाव आयुक्त अशोक लवासा मामले में क्या करेगा?

इलेक्शन कमिश्नर अशोक लवासा ने मुख्य चुनाव आयुक्त को एक पत्र लिखकर अपना विरोध दर्ज कराते हुए कहा है कि जब तक उनके असहमति वाले मत को ऑन रिकॉर्ड नहीं लिया तब तक वह आयोग की किसी मीटिंग में शामिल नहीं होंगे.

यह भी पढे-48 हजार शिक्षाकर्मी बदहाली का जीवन जीने को मजबूर क्यों..?प्रदीप पांडे ने कहा-कब तक वर्ष बंधन झेलेंगे शिक्षाकर्मी…?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *