अरपा को जीवित करेंगे…पिछली सरकार में कार्रवाई नहीं होती थी….पीएम से कहा शर्तों में करें शिथिलन..मांगा अधिकार

बिलासपुर… मुख्यमंत्री ने बिलासपुर प्रवास के दौरान पत्रकारों से चर्चा की। उन्होने कहा कि नरवा गरूवा,घुरवा बारी योजना को अच्छा प्रतिसाद मिल रहा है। योजना के क्रियान्यवन से ग्रामीण अंचल में आमूल चूल परिवर्तन देखने को मिलेगा। रोजगार से लेकर विकास की इबारत लिखी जाएगी पिछली सरकार में ऐसा होता था कि जांच के बाद रिपोर्ट को किनारे कर दिया जाता था। अरपा नदी से हमारा भावनात्मक रिश्ता है। इसे रियल स्टेट कारोबार से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए। अरपा को हम जीवित करेंगे। इसके लिए उपाय भी कर रहे हैं। सिवरेज का पानी अरपा में नहीं मिलने देंगे। जिस दिन अरपा में जल का ठहराव होगा। उसी समय बिलासपुर की पानी समस्या खत्म हो जाएगी। अरपा बचाओ योजना बिलासपुर की पानी समस्या दूर करने का भी उपाय है।

                              मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि अरपा हमारा से भावनात्मक लगाव है। अरपा में जल पुनर्भरण का उपाय किया जा रहा है। अभियान चलाकर अरवा को जीवित करने की कोशिश हो रही है। भूुपेश ने बताया कि अरपा को रियल स्टेट कारोबार से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए।  अरपा बिलासपुर की जीवनदायिनी नदी है। जल भराव के बाद बिलासपुर की जल समस्या खत्म होगी। बिलासपुर की जल समस्या भी अरपा से जुड़ी है। दोनों समस्याओं का निदान होगा। कार्ययोजना के अनुसार काम किया जा रहा है।

                    एक सवाल के जवाब में भूपेश बघेल ने बताया कि नरवा गरूवा घुरवा बारी को अच्छा रिस्पान्स मिल रहा है। योजना से ग्रामीण जन जीवन में आमूल चूल बदलाव देखने को मिलेगा। फिलहाल हम गौठान निर्माण पर केन्द्रित हैं। इससे शासकीय जमीन की सुरक्षा के साथ गांव के मवेशियों को सुरक्षित रहने का स्थान मिलेगा। मवेशियों से फसल को सुरक्षा मिलेगी। गोबर गैस प्लान्ट को बढ़ावा मिलेगा। दुग्ध उत्पादन से लेकर मवेशियों के नश्ल सुधार पर काम किया जाएगा। योजना के सफल क्रियान्यवन से रोजगार के अवसर मिलेंगे। लोगों के बीच योजना को लेकर काफी उत्साह है।

                 पिछले एक साल में कानन पेन्डारी में वन्य जीवों की मौत हो रही है। क्या मामले में जांच होगी..या फिर जांच रिपोर्ट को दबा दिया जाएगा। भूपेश ने बताया कि पिछली सरकार जांच रिपोर्ट किनारे करती थी..कांग्रेस सरकार नहीं…जांच रिपोर्ट में जो कुछ सामने आएगा। उसी के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

               सिवरेज योजना पर भूपेश ने कहा कि उचित कदम उठाया जाएगा। सिवरेज का पानी सीधे अरपा में डालने से रोका जाएगा। अरपा को ना केवल बचाना है। बल्कि पानी को साफ और संरक्षित भी करना है।

                             दिल्ली में प्रधानमंत्री से क्या बातचीत हुई। सीएम ने कहा…प्रधानमंत्री से चर्चा के दौरान राज्य के हितों को लेकर कई बातों को सामने रखा गया। उन्होने कहा कि केन्द्र सरकार और खाद्य विभाग में हुए एमओयू मे शिथिलन की मांग की है। हम किसानों से 25 सौ रूपए में प्रति क्विंटल धान खरीद रहे हैं। हमने केन्द्र सरकार से मांग की है कि एमओयू के बिन्दु एक में शिथिलन किया जाए। प्रोत्साहन राशि को केन्द्रीय पूल में शामिल कर अनाज खरीदा जाए। भूपेश ने बताया कि वनांचल में रहने वाले वनअधिकार अधिमान्य पट्टाधारियों को किसान सम्माननिधि 6 हजार से बढ़ाकर दस हजार रूपए किया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *