अब अगर बच्चे स्कूल से बाहर घूमते मिले तो प्रिंसिपल – शिक्षक जिम्मेदार, टाइम टेबल का पालन जरूरी

रायपुर।कलेक्टर कार्तिकेया गोयल ने नए शिक्षा सत्र की आगामी कार्य योजना की समीक्षा की। उन्होंने जिला शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिए कि शिक्षा विभाग का पूरा अमला यह सुनिश्चित करे कि बच्चे स्कूल में सुबह 10 बजे से 4 बजे तक उपस्थित रहें। अगर स्कूल के समय बच्चे बाहर घूमते मिले तो जिम्मेदारी संबंधित स्कूल के प्राचार्य ,प्रधान अध्यापक और शिक्षकों की है।

उन्होंने कहा कि उन्हे इस तरह की शिकायत मिली या उनके जिला भ्रमण के दौरान किसी स्कूल में बच्चे कक्षा में पढ़ने के बजाए स्कूल के बाहर घूमते नजर आए तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी। साथ ही शिक्षकों को भी इस समय सारणी पालन करना है। सभी शिक्षक अपने निर्धारित स्कूलो में निर्धारित समय पर डयूटी पर मौजूद रहें.

उन्होंने बच्चों को पढ़ाई में गुणवत्ता लाने के लिए नियमित अंतराल पर अनिवार्य रूप से यूनिट टेस्ट लेने के निर्देश दिए।उन्होंने कहा कि इस आधार बच्चों की पढ़ाई के स्तर का आंकलन करें । कमजोर बच्चों पर विशेष ध्यान दें।

मध्यान्ह भोजन में मेनू का पालन न करने वाले समूहों को करें बर्खास्त

कलेक्टर गोयल ने कहा कि शिक्षण सत्र की शुरुआत से ही मध्यान्ह भोजन भी शुरू हो जाना चाहिए। इसलिए यह सुनिश्चित कर लें कि सभी स्कूलों में बच्चों को दोपहर का खाना मिल रहा है या नहीं।उन्होंने कहा कि इस बात की पूरी निगरानी रखी जाए कि मेनू के अनुसार ही पौष्टिक आहार मिल रहा है या नहीं। उन्होंने कहा जो समूह मेनू का पालन नहीं कर रहे हैं उनको बर्खास्त कर नए समूह बनाएं जाएं।

इस योजना के संचालन में किसी भी प्रकार की अनियमितता बर्दाश्त नहीं की जाएगी। इसके अलावा उन्होंने स्कूलो में पाठ्यपुस्तक और यूनिफॉर्म वितरण की भी समी़क्षा की.उन्होंने स्कूलों के साथ आंगनबाड़ी केंद्रों का स्तत निरीक्षण के निर्देश दिए.

Comments

  1. By Sushil kumar singh

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *