लाठीचार्ज घटनाः जांच करने पहुंचे एडिश्नल कलेक्टर…किया कांग्रेस कार्यालय का निरीक्षण..कांग्रेसियों ने बताई आपबीती

बिलासपुर— विधानसभा चुनाव के करीब पांच छः महीने पहले कांग्रेस भवन में घुसकर पुलिस लाठीचार्ज मामले में आज पहली बार प्रशासन की एक सदस्यीय जांच टीम कांग्रेस कार्यालय पहुंची। जांच टीम के प्रमुख एडिश्नल कलेक्टर बीएस उइके ने कांग्रेस कार्यालय पहुंचकर घटना स्थल का बारीकी से जायजा लिया। कांग्रेस कार्यालय के अन्दर और बाहर के अलावा पहली मंजिल का भी मुआयना किया। करीब घंटे तक बैठकर मौजूद कांग्रेस नेताओं के साथ बातचीत की। घटना की सिल सिलेवार जानकारी को नोट किया।

                                           विधानसभा चुनाव के करीब पांच छः महीने पहले कांग्रेस कार्यालय में पुलिस की लाठीचार्ज घटना को लेकर आज पहली बार प्रशासन की एक सदस्यी टीम कांग्रेस कार्यालय का निरीक्षण करने पहुंची। टीम प्रमुख एडिश्नल कलेक्टर बीएस उइके ने कांग्रेस नेताओं से मिलकर घटना की जानकारी को लेकर विस्तार से बातचीत की। एडिश्नल कलेक्टर के निरीक्षण कार्यक्रम के दौरान प्रदेश कांग्रेस महामंत्री अटल श्रीवास्तव, जिला कांग्रेस ग्रामीण अध्यक्ष विजय केशरवानी, जिला कांग्रेस शहर अध्यक्ष नरेन्द्र बोलर,देवेन्द्र सिंह, सुभाष सिंह और हरमेन्द्र शुक्ला समेत अन्य कांग्रेस नेता मौजूद थे।

          बताते चलें कि विधानसभा चुनाव के पहले कांग्रेस नेताओं ने प्रशासन की अनुमति पर शासन के खिलाफ धरना प्रदर्शन किया। साथ ही स्थानीय मंत्री के घर का घेराव का भी एलान किया। रणनीति के तहत कांग्रेस के स्थानीय आला नेता कार्यकर्ताओं के साथ रूट बदलकर कांग्रेस भवन से अमर अग्रवाल के घर पहुंचे। इस दौरान जमकर नारेबाजी की।पुलिस के अनुसार कांग्रेसियों ने मंत्री के निवास में कचरा फेका। दरअसल विरोध प्रदर्शन सफाई अभियान को लेकर था।

                            इस दौरान पुलिस को पता ही नहीं चला कि कांग्रेसी मंत्री के बंगले तक किस रास्ते से पहुंचे। जबकि सिविल लाइन थाना और राजेन्द्र नगर चौक में पुलिस प्रशासन का सख्त पहरा था। लेकिन पुलिस ताकती रह गयी। प्रदर्शन के बाद कांग्रेसियों ने गिरफ्तारी देने का प्रयास किया। लेकिन मौके पर मौजूद एडिश्नल एसपी नीरज चन्द्राकर ने किसी भी कांग्रेसी को गिरफ्तार नहीं किया।

                          मंत्री बंगले के सामने धरना प्रदर्शन के बाद सैकडो कांग्रेसी जिला कांग्रेस कार्यालय पहुंचे। पहुंचने के करीब आधे घण्टे के अन्दर पुलिस बल भी कांग्रेस कार्यालय पहुंच गयी। सभी के हाथों में डंडा था। पुलिस बल की अगुवाई एडिश्नल एसपी नीरज चन्द्राकर कर रहे थे। उन्होने कांग्रेस के आला नेताओं को बताया कि हम गिरफ्तार करने आए हैं। इतना सुनते ही कांग्रेसी नाराज हो गए। उन्होने कहा कि किस बात की गिरफ्तारी। जबकि हम लोग अै। अपने कार्यालय में है। गिरफ्तारी की आशंका को देखते हुए कांग्रेस नेता कार्यलय के सामने और कैम्पस  अन्दर रामधुन गाने लगे। कई कांग्रेस नेता कार्यालय के अन्दर रणनीति बना रहे थे।

                       करीब दो घंटे बाद पुलिस ने कांग्रेस कार्यालय के अन्दर घुसकर लाठी बरसाना शुरू कर दिया। बाहर खड़ी गाड़ियों में बैठाकर घायलों को थाने भेज दिया। जानकारी मिलते ही तात्कालीन प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल रायपुर से सीधे बिलासपुर पहुंचे। घायलों को सिम्स में भर्ती किया गया। लाठीचार्ज की घटना को गंभीरता से लेते हुए तात्कालीन मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने मजिस्ट्रेट जांच का एलान किया। नीरज चन्द्राकर को निलंबित कर पीएचक्यू में अटैच करने का आदेश जारी किया।

                            सीएम के आदेश के बाद मजिस्ट्रेट जांच कमेटी का गठन किया गया। घटना की जांच के लिए सात बिन्दु  बनाए गए। जांच बिन्दु सामने आने के बाद कांग्रेसियों ने बिन्दुओ का विरोध किया। तात्कालीन समय विजय केशरवानी, नरेन्द्र बोलर और अटल श्रीवास्तव ने प्रशासन से बताया कि जांच बिन्दु में घटना स्थल का जिक्र नहीं किया गया है। जबकि लाठी चार्ज की घटना कांग्रेस कार्यालय के अन्दर हुई है। लेकिन उसे स्थानीय मंत्री के घर के सामने होना बताया जा रहा है। कांग्रेसियों के लगातार प्रदर्शन और सरकार बदलने के बाद जांच बिन्दु फिर से निर्धारित किए गए।

                         इसी क्रम में शनिवार को जांच अधिकारी एडिश्नल कलेक्टर बीएस उइके कांग्रेस कार्यालय का मुआयना किया। मौके पर मौजूद कांग्रेस नेताओं के साथ घंटों बातचीत की।

घटनाक्रम की दी गयी जानकारी…अटल

                         प्रदेश महामंत्री अटल श्रीवास्तव ने बताया कि जांच अधिकारी उइके को घटनाक्रम की विस्तार से जानकारी दी गया है। उन्हे बताया समय  कांग्रेस कार्यकर्ता क्या कुछ कर रहे थे। कोई कैम्पस के अन्दर रामधुन में व्यस्त था। कोई सीनियर नेता के मार्गदर्शन में पार्टी निर्देशों के अनुसार कार्यक्रम में व्यस्त थे। अटल ने जानकारी दी कि जांच टीम को सभी पहलुओं से परिचित कराया गया है।

बिन्दुओं को लेकर था एतराज..जांच में करेंगे सहयोग– विजय

                  जिला कांग्रेस अध्यक्ष विजय केशरवानी ने बताया कि जांच करने पहुंचे अधिकारी को पूरा सहयोग किया गया है। कांग्रेस कार्यालय का एक एक कोना घुमाया गया। पुलिस ने कार्यालय के अन्दर घुसकर कहां कहां कार्यकर्ताओं पर लाठियां बरसाई…विस्तार से बताया गया। उस स्थान तक जांच अधिकारी को लेकर गए जहां से कार्यकर्ताओं ने पहली मंजिल से छलांग लगाया था।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...