18 रन से जीता न्यूजीलैंड,वर्ल्ड कप से बाहर हुआ भारत

नईदिल्ली।बुधवार को खेले गए सेमीफाइनल मैच में न्यूजीलैंड ने भारत को हरा दिया।और न्यूजीलैंड ने फाइनल में प्रवेश किया है।240 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी टीम इंडिया की शुरुआत बेहद खराब हुई है।इंडिया और न्यूजीलैंड के बीच खेला जा रहा वर्ल्ड कप सेमीफाइनल मंगलवार को बारिश के कारण पूरा नहीं हो सका था, जिसके बाद आज रिजर्व डे के तहत यह मैच जारी है.

न्यूजीलैंड ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवरों में 239/8 बनाए.

न्‍यूजीलैंड के 239 रन के स्‍कोर के जवाब में भारतीय टीम की बेहद निराशाजनक शुरुआत हुई और शुरुआती चार ओवर में ही रोहित शर्मा, कप्‍तान विराट कोहली और केएल राहुल जैसे दिग्‍गज आउट होकर पवेलियन में जा बैठे. मजे की बात है कि ये तीनों बल्‍लेबाज 1-1 रन ही बना पाए. दूसरे ही ओवर में बड़ा झटका ‘हिटमैन’ रोहित शर्मा (1) के आउट होने से लगा. उन्‍हें तेज गेंदबाज मैट हैनरी ने विकेटकीपर टॉम लैथम से कैच कराया. दूसरे ही ओवर में विराट कोहली को क्रीज पर आना पड़ा. तीसरे ओवर में विराट को जब मैट हैनरी ने LBW किया तो भारतीय फैंस में सन्‍नाटा छा गया. विराट ने इस फैसले के खिलाफ रिव्‍यू भी लिया लेकिन फैसला अपने हक में नहीं करा सके. रही सही कसर चौथे ओवर में केएल राहुल के आउट होने से पूरी हो गई. 15 अंकों के साथ टॉप पर रहते हुए अंतिम चार में पहुंची भारतीय टीम 5 रन के स्‍कोर पर ही तीन विकेट गंवा चुकी थी. क्रीज पर अब ऋषभ पंत और दिनेश कार्तिक थे.भारतीय पारी का पहला चौका छठे ओवर में पंत ने हैनरी की गेंद पर लगाया.20 गेंद तक खाता नहीं खोल सके दिनेश कार्तिक ने अपना पहला स्‍कोरिंग शॉट बोल्‍ट की गेंद पर चौके के रूप में लगाया.न्‍यूजीलैंड को चौथे विकेट के लिए भी ज्‍यादा देर इंतजार नहीं करना पड़ा.

मैट हैनरी की गेंद पर कार्तिक (6) को नीशाम ने कैच किया. नीशाम ने जबर्दस्‍त डाइव लगाते हुए इस कैच को संभव बना. पहले 10 ओवर (पहला पावरप्‍ले)में ही भारतीय टीम 4 विकेट गंवा चुकी थी और स्‍कोर में थे महज 24  रन. कार्तिक के स्‍थान पर हरफनमौला हार्दिक पंड्या क्रीज पर आए.13वें ओवर में पंत को जीवनदान मिला जब दिनेश कार्तिक का बेहतरीन कैच लेने वाले नीशाम ने फर्ग्‍यूसन की गेंद पर आसान कैच टपका दिया.पंत और पंड्या ने टीम इंडिया के 16.5 ओवर में 50 रन तक पहुंचा दिया.भारत के लिहाज से अच्‍छी बात यही है कि विकेट पर पर्याप्‍त समय गुजारने के बाद पंत और पंड्या सेट हो चुके थे.ऐसे समय जब टीम इंडिया की हालत संभलती नजर आ रही थी, ऋषभ पंत (32 रन, 56 गेंद, चार चौके) ने हवा में शॉट खेलने की कोशिश करते हुए विकेट गंवा दिया. लेग स्पिनर मिचेल सैंटनर ने उन्‍हें कॉलिन डि ग्रैंडहोम से कैच करा दिया. अब पंड्या का साथ देने धोनी क्रीज पर थे. 25 ओवर में टीम इंडिया का स्‍कोर 5 विकेट खोकर 77 रन था.

टीम इंडिया के लिए समस्‍या यह थी कि स्‍कोर बेहद धीमी गति से बढ़ रहा था. 33वें ओवर में नीशाम की गेंद पर रवींद्र जडेजा ने पारी का पहला छक्‍का लगाया और इसके साथ ही 32.3 ओवर में  टीम इंडिया 100 रन के पार पहुंची.39वें ओवर में जडेजा ने सैंटनर को क्रीज से बाहर निकलकर छक्‍का जमाया. यह उनका दूसरा छक्‍का रहा. ओवर में 10 रन बने. जडेजा की आक्रामक अंदाज में बैटिंग से भारतीय फैंस में कुछ जोश आया लेकिन Required Run Rate 9 रन  प्रति ओवर के करीब पहुंच गया था.40 ओवर के बाद टीम इंडिया का स्‍कोर 6 विकेट खोकर 150 रन था. शेष 10 ओवर में टीम को 90 रन की जरूरत थी. धोनी और जडेजा की पार्टनरशिप 50 रन को पार कर चुकी थी. 41वें ओवर में एक बार फिर जडेजा के रडार पर सैंटनर आए और उन्‍होंने ओवर की पांचवीं गेंद छक्‍के के लिए बाउंड्री के बाहर पहुंचा दी. उनका हर शॉट भारतीय फैंस की उम्‍मीदों को बढ़ाने का काम कर रहा था. 42वें ओवर में जडेजा ने नीशाम को चौका जड़ा और इसके बाद दो रन लेकर अपना अर्धशतक पूरा किया. उनकी बिंदास बल्‍लेबाज भारत के लिए उम्‍मीद बन गई थी. जडेजा का अर्धशतक 39 गेंदों पर तीन चौके और इतने ही छक्‍कों की मदद से पूरा हुआ.किस्‍मत भी इस दौरान भारतीय बल्‍लेबाजों पर मेहरबान लग रही थी. जडेजा के कुछ शॉट हवा में गए लेकिन फील्‍डर्स की पहुंच से दूर गिरे.आखिरी छह ओवर में भारत को 62 रन की जरूरत थी. जडेजा तो मानो छक्‍कों से ही जवाब देने का आमादा थे. उन्‍होंने फर्ग्‍यूसन को छक्‍का लगाया.जरूरत अब आखिरी 5 ओवर में 52 रन की थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *