जशपुर में डीएमएफ से हुए स्कूल मरम्मत का सवाल विधायक मिंज ने विधानसभा में उठाया….CM ने दिए जाँच के निर्देश

जशपुरनगर  । छत्तीसगढ़ विधानसभा के मानसून सत्र के दौरान कुनकुरी विधायक यू डी मिंज ने मुख्यमंत्री  से 2018 19 में जशपुर जिले में डीएमएफ से कराए गए स्कूल मरम्मत एवं आदर्श स्कुल निर्माण से संबंधित प्रश्न किया है  ।
विधायक यू डी मिंज ने पूछा कि 2018- 19 में किन किन स्कूलों के मरम्मत एवं जीर्णोद्धार के लिए कितनी कितनी राशि स्वीकृत की गई  । कितने कार्य कराए गए ।   कितने पूर्ण हैं , कितने कार्य अपूर्ण है एवं कितनी राशि इन मरम्मत जीर्णोद्धार के कार्य मे व्यय की गई। उन्होंने आदर्श स्कूल निर्माण के सम्बंध में भी प्रश्न उठाया है । आदर्श स्कुल निर्माण में जशपुर जिले में डीएमएफ से किन किन स्कूलों के लिए कितनी राशि स्वीकृत की गई एवं इसमें कितना भुगतान किया गया। उपरोक्त कार्यों के लिये निर्माण एजेन्सी किसे निर्धारित किया गया था।
प्रश्न के उत्तर में  मुख्यमंत्री भूपेश बघेल  ने लिखित जानकारी दी  कि डीएमएफ मद से स्कूल मरम्मत के 162 कार्य स्वीकृत हुए   ।. जिसमें 136 पूर्ण हैं शेष 26 अपूर्ण है। विधायक यूडी मिंज ने स्कूल शिक्षा विभाग के मरम्मत एवं जीर्णोद्धार कार्य एवं आदर्श स्कूल निर्माण के जाँच एवं करवाई की पुनः माँग की।  उन्होंने बताया कि खनिज न्यास निधि के उच्चरीय जाँच कराए जाने के लिए  मुख्यमंत्री  को निवेदन किया है ।  मुख्यमंत्री  ने प्रमुख सचिव खनिज विभाग को आवश्यक करवाई करने हेतु निर्देश दिए हैं।

 

जिले में बाक्साइट खनन के लिए 05 पट्टे स्वीकृत
विधायक यूड़ी मिंज ने विधानसभा में मुख्यमंत्री   से जशपुर जिले में हुए खनिज सर्वेक्षण एवं उत्खनन के सम्बंध में  भी प्रश्न किया है। उन्होंने पूछा कि जशपुर जिले के किन किन स्थलों पर किन किन खनिज की सर्वेक्षण में प्रप्ति हुई है एवं खनिज उत्खनन हेतु क्या किया जा रहा है  । प्रश्न के जवाब में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने  बताया कि जशपुर जिले में बॉक्साइट,सोना, बेरिल,टंगस्टन,निकिल, क्रोमियम एवं प्लेटिनम ग्रुप्स ऑफ एलिमेंट का सर्वेक्षण किया गया है। जशपुर जिले में बॉक्साइट छिछली, बीजापुर,चुंदपाठ, गायबुड़ा, गरनदारा,गढ़पहड़, घोरड़ेगा ,जमुनिपाठ, खोमरापाट, लमडरापाट,मैकाल पाठ, मुरही कुरकुरिया मुर्रापाठ, नवापारा पंडरा पाठ, सरगरसारा, सारधा पाठ,सेमरा,जलेंन पाठ,सलेसा बोनाकोना,सुलेसा,रौनी ,टिनपाठ,
पखरीटोला,जमुनियां, देवड़ाड धानापाठ,हर्राडिपा, केरापाठ,कदम पाठ,दातूनपानी में प्राप्त हुआ है। जशपुर जिले में सोना बरजोर, हथगढा, तपकरा,पण्डरीपानी धौओंरासांड़,दैजबहार,पुसरा कुटानपानी,कांसाबेल ,केचुआ कानी,सिंगिबहार तुबा,कतंगखार में सर्वेक्षण में प्राप्त हुआ है।
बेरिल खनिज बोरोकछार ,टंगस्टन , चिकनीपानी, मयूरनाचा, पत्थलगांव इसी प्रकार निकिल, क्रोमियम एवं प्लेटिनम ग्रुप्स ऑफ एलिमेंट कोनपारा में हैं।
 मुख्यमंत्री ने प्रश्न के जवाब में बताया कि सर्वेक्षण में ज्ञात खनिजों में प्राप्त बॉक्साइट खनिज हेतु छत्तीसगढ़ मिनिरल्स डेवलोपमेन्ट कॉर्पोरेशन लिमिटेड को  5 खनिज पट्टे स्वीकृत किये गए हैं जिनमें खनन प्रक्रिया लंबित है।
विधायक यूडी मिंज ने कहा कि जशपुर जिला हरियाली और पर्यटन से भरा पूरा है खनन के बजाय इको टूरिज़म को सरकार प्रोत्साहित करे  । इसके लिए  मुख्यमंत्री  से बात की जाएगी। खनन वर्तमान में लंबित है ।  इसे प्रारंभ होने भी नहीँ दिया जाएगा । खनन प्रारंभ होने से क्षेत्र की आदिवासी जनता उनकी संस्कृति प्रभावित होगी जिनकी मौलिक रूप से विरासत का ध्यान रखना हमारा नैतिक कर्तव्य है ।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *