मध्यान्ह भोजन में अंडा देने की योजना का एसोसिएशन ने किया स्वागत…. लेकिन शिक्षकों को व्यवस्था से दूर रखने की मांग भी की


बिलासपुर।
कुपोषण को दूर करने सरकार के कदम का गवर्नमेंट एम्पलॉइज एसोसिएसन ने समर्थन किया है और प्रेस नोट जारी करके हुए संघ के प्रांताध्यक्ष कृष्ण कुमार नवरंग ने बताया कि मिड डे मिल में छात्रों को अंडा देने की योजना बस्तर ,सरगुजा जैसे बीहड़ व पहुंच विहीन जगहों में प्रभावी हो सकती है। वैसे भी अंडा जबदस्ती नहीं दिया जाएगा ये पूर्ण रूप से स्वेच्छा पर आधारित है। किसी भी छात्र को अंडा खाने  मजबूर नहीं किया जाएगा गरीब परिवार के बच्चों को भोजन के साथ अंडा देने की योजना से स्वास्थ्य के प्रति सरकार की गंभीर सोच का हम समर्थन करते है।सीजीवाल डॉटकॉम के व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करे

कृष्ण कुमार नवरंग ने बताया कि शिक्षा विभाग  यह जवाबदेही तय करे कि जिन स्कुलो में अंडा देने पर सहमति नही बनती है वहाँ अंडा छात्रो के घर पहुचाने और मध्यान भोजन में शिक्षको का संलग्नीकरण की भूमिका समाप्त होगी । प्रदेश के शिक्षक विभिन्न धार्मिक मान्यताओं से है ऐसे में जो शिक्षको अंडे से असहज हो उन्हें इस कार्य से दूर रखना चहिए।

नवरंग ने बताया कि शिक्षा विभाग छात्रो का अच्छा रिजल्ट शिक्षको से मांगता है। रिजल्ट अच्छा नही आने पर ग्रीष्मकालीन अवकाश में डंडी चलाई जाती है। प्राथमिक और मिडिल स्कुलो के शिक्षको पर वैसे भी बहुत गैर शिक्षकिय कार्य का दबाव रहता है। शासन शिक्षक को अंडे के फंडे से दूर करे। मिड डे मिल व्यवस्था से शिक्षको को दूर करे। यह स्व सहायत समूह का कार्य है। इस लिए सारी जवाबदारी उनकी की तय करे।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...