प्रेमी को बनाया फर्जी पिता…स्कूल से कटवा दिया नाम…पीडित ने कहा..पुलिस नही कर रही 420 के खिलाफ कार्रवाई

बिलासपुर— प्रेमी को पति बनाकर बच्चे की टीसी कटाने वालों के खिलाफ पीड़ित ने कार्रवाई की मांग की है। पीुडित पति ने पुलिस कार्यालय पहुंचकर बताया कि पत्नी और उसके प्रेमी ने मिलकर बच्चे के भविष्य को दांव पर लगाया है। तीन महीने पहले शिकायत और फिर पूछताछ के बाद भी अभी तक पुलिस ने कार्रवाई नहीं की है। जबकि प्रेमी सीना खोलकर घूम रहा है।

              मामला तोरवा थाना क्षेत्र का है। पीडित अजय छुगानी ने बताया कि वह परिवार के साथ शाकुन्तलम विहार लालखदान के पास रहता है। ट्रान्सपोर्टिंग और कपड़े के व्यवसाय से घर परिवार चलाता है। उसका एक बच्चा भी है। बच्चा पहले दयालबन्द स्थित मासूम किड्स में पढ़ा करता था। एक दिन पत्नी मुस्कान छुगानी ने बिना बताए बच्चे का स्कूल से नाम कटवाकर घर से कुछ दूर ही होलीक्रास स्कूल में भर्ती कर दिया। जानकारी मिलने के बाद मामले में पत्नी से बातचीत की। उसने बताया कि होलीक्रास स्कूल में क्लास की संख्या कम है। घर के पास है..इसलिए गीतांक छुगानी का एडमिशन कराया। उसके साथ स्कूल देखने गया। देखने का बाद अच्छा भी लगा।

पत्नी का गलत सम्बन्ध

                    अपनी शिकायत में अजय छुगानी ने बताया कि उसकी शादी के सात साल हो चुके हैं। बावजूद इसके पत्नी ने उसके साथ विश्वासघात किया है। उसका राजकिशोर स्थित शनि मंदिर के पास रहने वाले आशु आहुजा मोबाइल व्यवसायी के साथ गलत संबध है। इसकी जानकारी उसे कालोनी वासियों से मिली। चूंकि पत्नी कपड़े का काम करती है। रायपुर आना जाता है..और उसका मायका भी है। मेरी अनुपस्थिति में कपड़ा व्यवसाय के बहाने आशु आहुजा और मुस्कान छुगानी का घर से बाहर तक मिलना जुलना होता था। काफी समझाने के बाद जब बात नहीं बनी तो मैने कपड़े का काम बन्द करवा दिया।

फर्जी पिता बनकर नाम कटवाया

                                  छुगानी ने बताया कि इस बीच फरवरी 2019 में मेरी सास घर आयी। चूंकि बच्चे का स्कूल भी खत्म हो गया था। सास के साथ पत्नी और बच्चे छुट्टी मनाने रायपुर चले गए। स्कूल खुलने के बाद पत्नी को बच्चे के एडमिशन के लिए फोन किया। उसने बताया कि बच्चा अब रायपुर में ही पढ़ेगा। जवाब सुनने के बाद भाई के साथ दूसरे दिन होलीक्रास स्कूल गया। बच्चे की जानकारी मांगी। प्रबंधन ने बताया कि गीतांश छुगानी के पिता ने टीसी कटवा लिया है। मैने कहा कि चूंकि मैं पिता हूं..इसकी जानकारी उसे नहीं है। इस बात को साबित करने के लिए मैने स्कूल प्रबंधन को पत्नी के साथ शादी का फोटो दिखाया। तब उन्होेने विश्वास किया। मेरी पत्नी को फोन लगाकर प्रबंधन ने रायपुर में रह रही पत्नी को ना केवल जमकर फटकारा। साथ ही टीसी जमा करने को कहा। प्रबंधन नेबताया कि हर बार पैरेन्टस मीटिंग में मुस्कान छुगानी ने आशु आहुजा को पति और गीतांश का पिता बताया। इसलिए मांगे जाने पर टीसी दी गयी।

स्कूल प्रबंधन को दिया धोखा

                 अजय छुगानी के अनुसार आशु आहुजा और उसकी पत्नी में गलत संबध था। छुटकारा पाने के लिए उसने आशु आहुजा के साथ साजिश कर स्कूल को बच्चे की असली पिता की जानकारी नहीं दी गयी। आशु आहुजा ने हर पैरेन्ट्स मीटिंग में खुद को ना केवल अजय छुगानी बताया। बल्कि जगह जगह मेरे नाम से फर्जी हस्ताक्षर भी किए। इस बात की जानकारी उसे होने नहीं दी गयी। फिलहाल स्कूल प्रबंधन के प्रयास से टीसी वापस मिल गयी है। लेकिन तोरवा थाना में शिकायत के बाद भी ना तो आशु आहुजा के खिलाफ कार्रवाई हुई। और ना ही पत्नी के खिलाफ पुलिस ने कार्रवाई ही की है।

अभी तक कार्रवाई का इंतजार

                           पुलिस कार्यालय पहुंचकर अजय ने कहा कि तीन महीने पहले तोरवा  थाना में शिकायत की गयी थी। स्कूल प्रबंधन और पत्नी समेत मेरे से पूछताछ भी हो चुकी है। लेकिन पुलिस ने अभी तक कोई कदम नहीं उठाया है। चूंकि आशु आहुजा ने उसका घर बरबाद किया है। फर्जी पिता बनकर बच्चे के भविष्य से खिलवाड़ किया है। फर्जी हस्ताक्षर कर धोखा दिया है। उससे मेरी जान को खतरा है। इसलिए उसके और पत्नी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए।व

आशु आहुजा के खिलाफ होगी कार्रवाई

            मामले में तोरवा थाना प्रभारी रात्रे ने बताया कि अजय छुगानी की शिकायत पर कार्रवाई करते हुए पूछताछ की गयी। स्कूल प्रबंधन और अजय की पत्नी के बयान को दर्ज किया गया है। आशु आहुजा से भी पूछताछ हुई है। चुूंकि पत्नी के खिलाफ किसी प्रकार की शिकायत नहीं है। इसलिए उसके खिलाफ कार्रवाई का सवाल ही नहीं उठता है। आशु आहुजा के खिलाफ जरूर कार्रवाई करेंगे।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...