घर – घर जाकर दिया जाएगा पेंशन, कलेक्टर ने टीएल मीटिंग में दिए निर्देश

बिलासपुर।सामाजिक सहायता योजना के तहत हितग्राहियों को पेंशन भुगतान डिजी पे के माध्यम से घर-घर तक जाकर किया जाएगा। वृद्धजनों विशेषकर महिलाओं को पेंशन लेने के लिये बैंक तक जाने हेतु परेशानी होती है। उन्हें इस सुविधा से आसानी हो जायेगी। कलेक्टर डाॅ.संजय अलंग ने आज टीएल की बैठक में निर्देशित किया कि अगले माह से डिजी पे के माध्यम से हितग्राहियों को पेंशन भुगतान किया जाये। डिजी पे आधार आधारित भुगतान का एक नया तरीका है।सीजीवालडॉटकॉम के व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

इसमें अंगूठा लगाने से ही खाते में पैसा आता है। यह सुविधा उन हितग्राहियों को मिलेगी, जिनका बैंक अकाउंट आधार से लिंक है। कलेक्टर ने ग्राम पंचायतों में कैम्प लगाकर डिजी पे से भुगतान करने का निर्देश दिया।

बैठक में सिंचाई विभाग के अधिकारी ने बताया कि सिंचाई के लिये देवरीखुर्द में डायवर्सन से पानी छोड़ा जायेगा। खूंटाघाट में वर्तमान में लगभग 37 प्रतिशत जलभराव है। जलाशय में 40 प्रतिशत जलभराव होने पर ही पानी छोड़ा जायेगा। जिला शिक्षा अधिकारी ने बताया कि जाति प्रमाण पत्र बनाने के लिये 39 हजार से अधिक आवेदन भरे गये हैं तथा जिनमें 16 हजार से अधिक आवेदन तहसीलों मंे जमा किये जा चुके हैं। कलेक्टर ने जाति प्रमाण पत्र बनाने के काम में गति लाने के निर्देश दिये। जिले के 463 स्कूलों के छत मरम्मत योग्य है। जिसके लिये कार्यवाही की जा रही है।

कलेक्टर ने मरम्मत कार्य के लिये राशि जारी करने मे ंविलम्ब पर नाराजगी जताई। लोक निर्माण विभाग के अधिकारी ने बताया कि मरम्मत के लिये सभी स्कूलों में सर्वे कराया जा रहाहै।

कलेक्टर ने सभी अनुविभागीय अधिकारी राजस्व एवं तहसीलदारों को उनके क्षेत्र में डायवर्सन की समीक्षा कर प्रत्येक बुधवार को रिपोर्ट देने का निर्देश दिया। उन्होंने बताया कि मुख्य सचिव द्वारा डायवर्सन की साप्ताहिक समीक्षा की जायेगी। जन शिकायतों से संबंधित एक वर्ष से ज्यादा लंबित आवेदनों का निराकरण हर हाल करने का निर्देश दिया गया।

कलेक्टर ने बताया कि आगामी माह में अरपा-भैंसाझार सिंचाई परियोजना का लोकार्पण प्रस्तावित है। इस परियोजना क्षेत्र में विभिन्न विभागों की गतिविधियां करने हेतु योजना बनाने के निर्देश दिये। इस क्षेत्र में गौठान, चारागाह, उद्यानिकी विभाग की नर्सरी, कृषि विभाग के तहत आस्थामूलक कार्य, लाईवलीहुड, पेयजल, पशुपालन, कुपोषण से मुक्ति, चिकित्सा, शिक्षा से संबंधित कार्यों की योजना बनायी जायेगी।

बैठक में बताया गया सातवीं आर्थिक गणना के तहत 16 अगस्त से कार्य चालू हो रहा है। जिसके तहत डोर-टू-डोर सर्वे प्रगणकों के माध्यम से किया जायेगा। इस संबंध में तैयारी की समीक्षा की गयी। बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी रितेश अग्रवाल, अतिरिक्त कलेक्टर बी.एस.उईके, बी.सी.साहू सहित अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित थे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *