पाकिस्‍तान में घुसकर दुश्‍मन एयरक्राफ्ट को मार गिराने वाले जांबाज पायलट अभिनंदन वर्तमान को मिलेगा वीर चक्र

नईदिल्ली।बालाकोट एयर स्‍ट्राइक के बाद पाकिस्‍तान के दुस्‍साहस का मुंहतोड़ जवाब देने और अमेरिकी F-16 लड़ाकू विमान को मार गिराने वाले वीर जांबाज भारतीय वायु सेना (IAF) के विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान को वीर चक्र से सम्‍मानित किया जाएगा. गुरुवार को स्‍वतंत्रता दिवस पर उन्‍हें वीर चक्र दिया जाएगा. इसके अलावा भारतीय वायुसेना के स्‍क्‍वाड्रन लीडर मिंटी अग्रवाल को बालाकोट में 27 फरवरी को हवाई संघर्ष के दौरान एक लड़ाकू नियंत्रक के रूप में उनकी भूमिका के लिए युद्ध सेवा मेडल से सम्‍मानित किया जाएगा.

27 फरवरी को भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान ने पाकिस्‍तान के F-16 का उस वक्‍त पीछा किया था, जब वह भारतीय सीमा में घुस आया था. 90 सेकंड की डॉग फाइट (Dog Fight) के बाद अंतत: अभिनंदन वर्तमान ने पाकिस्‍तान के F-16 को उड़ा दिया. भारतीय उपमहाद्वीप के आसमान में इस डॉग फाइट को न सिर्फ एक अनोखा कारनामा के रूप में देखा जा रहा है, बल्कि इसे भारतीय वायुसेना के पायलट के कौशल का शानदार नमूना भी करार दिया जा रहा है. अभिनंदन वर्तमान ने अमेरिका निर्मित F-16 फाइटर जेट को रूस निर्मित मिग -21 से उड़ाया. वायुसेना के जानकार इसे बड़ी कामयाबी मान रहे हैं.

बालाकोट हवाई हमले के अगले दिन सुबह करीब 10 बजे भारतीय वायुसेना के रडार ने भारतीय सीमा में घुस रहे पाकिस्‍तान के वायुसेना के विमान के बारे में सूचना दी. विभिन्न मीडिया रिपोर्टों में तब कहा गया था कि पाकिस्तान वायु सेना के बेड़े में 24 फाइटर जेट्स शामिल थे. NDTV की एक रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान के स्ट्राइक दस्ते में आठ F-16s, चार मिराज -3 विमान, चार चीनी निर्मित JF-17 “थंडर” फाइटर शामिल थे.


इससे पहले 25 और 26 फरवरी की रात को भारतीय वायु सेना (IAF) ने लगभग 3:30 बजे LoC पार बालाकोट में आतंकी ठिकानों पर हवाई हमले किए. रिपोर्ट्स के मुताबिक, 12 मिराज 2000 भारतीय फाइटर जेट्स ने 1,000 किलो के बम गिराए, जिससे नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पार जैश-ए-मोहम्मद (जेएम) के कई प्रशिक्षण शिविर नष्ट हो गए
थे. यह एयर स्‍ट्राइक 14 फरवरी के पुलवामा आतंकी हमले के जवाब में की गई थी, जिसमें पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्‍मद के एक आत्‍मघाती हमलावर ने विस्फोटक से भरे वाहन को सीआरपीएफ के कानवाई से टक्कर मार दी थी. इसमें सीआरपीएफ के 40 जवान मारे गए थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *