जानलेवा हमलावर गिरफ्तार….तीनों ने मिलकर किया था मौत का प्रबंध….दो नाबालिग समेत मुख्य आरोपी गया जेल

बिलासपुर—पुलिस ने धर्मेन्द्र साहनी पर चाकू से जानलेवा हमला करने वालों को गिरफ्तार कर लिया है। हमला करने वालों में दो अपचारी बालक के अलावा सरगना पाहुल अहिरवार हैं। पुलिस ने गिरफ्तारी के बाद पाहुल को  केन्द्रीय जेल और नाबालिगों को किशोर न्यायालय बोर्ड भेज दिया है। पुलिस के अनुसार तीनों मिलकर धर्मेन्द्र साहनी को प्रिन्स मसीह के खिलाफ थाने में झूठी शिकायत के लिए दवाब बना रहे थे। जब धर्मेन्द्र साहनी ने झूठी शिकायत दर्ज कराने से मना किया तो मिलकर चाकू से जान लेवा हमला कर दिया। इसके बाद तीनों धर्मेन्द्र को मरा मानकर फरार हो गए।

                        एडिश्नल एसपी ओम प्रकाश शर्मा ने बताया कि हत्या की नीयत से जानलेवा हमला करने के आरोप में  दो नाबालिगों समेत एक अन्य आरोपी को धर दबोचा गया है। तीनों को न्यायालय में पेश कर जेल और किशोर न्यायालय भेज दिया गया है। शर्मा ने जानकारी दी कि सिम्स में इलाज करा रहे धर्मेन्द्र साहनी के भाई प्रकाश साहनी ने बताया कि उसके भाई पर किसी ने जानलेवा हमला किया है। फिलहाल उसके भाई का इलाज सिम्स में चल रहा है।

                     शिकायत के बाद पुलिस ने तत्काल पुलिस कप्तान को जानकारी दी। इसके अलावा सिम्स पहुंचकर धर्मेन्द्र साहनी से मामले में पूछताछ की। पुलिस को धर्मेन्द्र ने बताया कि एक दिन पहले पाहुल अहिरवार और उसके दो नाबालिग साथियों ने घेर लिया। तीनों ने कहा कि स्टेशन की तरफ चाय पीकर आते हैं। इसके बाद तीनों ने स्टेशन जाने से पहले ही लिटिल फ्लावर स्कूल के पास स्थित मैदान में रोककर कहा कि प्रिन्स मसीह के खिलाफ थाने में झूठी शिकायत दर्ज कराये। तीनों की बातों को  उसने टाल दिया।

                           ओपी शर्मा के अनुसार धर्मेन्द्र ने जब रिपोर्ट लिखाने से इंकार कर दिया तो तीनों चाकू से पेट गर्दन और शरीर के अन्य भाग पर जानलेवा हमला कर दिया। इसके बाद आरोपी पाहुल और उसके दोनों अऩ्य नाबालिग साथी फरार हो गए। डायल 112 के सहयोग से सिम्स में दाखिल कराया गया।

               ओपी ने जानकारी दी कि पूछताछ के बाद पुलिस कप्तान को मामले से अवगत कराया गया। पुलिस कप्तान के निर्देश पर आरोपियों को धरपकड़ करने टीम का गठन किया गया। नगर पुलिस अधीक्षक एसएस पैकरा और सिविल लाइन थाना प्रभारी मोहम्मद कलीम की टीम ने आरोपियों की पतासाजी शुरू की। इसी बीच   जानकारी मिली कि मुख्य आरोपी पाहुल अहिरवार और दोनों आरोपी नाबालिग अपने निवास के आसपास चक्कर लगाते देखे गए हैं। मोहम्मद कलीम समेत पुलिस जवानों ने तीनों को धरपकड़ कर थाने लाया। पूछताछ के दौरान तीनों स्वीकार किया कि धर्मेन्द्र साहनी पर जान लेवा हमला किया है।

तीनों आरोपियों से अलग अलग पूछताछ के बाद बयान दर्ज किया।  घटना के समय उपयोग किेए गए मोटर सायकल और चाकू को भी जब्त किया गया। आरोपी के खिलाफ 307 और 34 आईपीसी की धारा के तहत गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया गया। पाहुल अहिरवार को जेल और दोनों नाबालिगों को किशोर न्यायालय बोर्ड के हवाले कर दिया गया है।

कार्यवाही में सहायक उपनिरीक्षक अवधेश सिंह, प्रधान आरक्षक चन्द्रकांत डहरिया,मनोज राजपूत, आरक्षक अविनाश पाण्डेय,गोविन्द शर्मा,विजेन्द्र रात्रे की आरोपियों को पकड़ने में अहम भूमिका थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *