आगर नदी का रौद्र रूप…राहत शिविर में सैकड़ों परिवार…प्रशासन का बचाव कार्य तेज…मौके पर पहुंचे कलेक्टर और जनप्रतिनिधि

बिलासपुर— आगर नदी के रौद्र रूप से जनता और जिला प्रशासन सकते में है। लगातार बचाव कार्य किया जा रहा है। गोतखोर और एक्सपर्ट टीम दिन रात एक कर आम नागरिकों को सुरक्षित स्थान  पर पहुंचा रहे हैं। वही जनमानस में चर्चा का विषय है कि आगर ने रास्ता रोकने वालों से हिसाब चुकता कर लिया है।

                       कांग्रेस नेता चुरावन मंगेश्कर ने जिला कलेक्टर डॉ.सर्वेश नरेन्द्र भूरे से मिलकर राहत कार्य के बारे में विस्तार से चर्चा की। मंगेश्कर ने कलेक्ट्रर के साथ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया। मंगेश्कर ने जिला प्रशासन के राहत कार्यों को लेकर त्वरित कार्रवाई को काबिल-ए तारीफ बताया।

                              रविवार दोपहर से मुंगेली में आगर का रौद्र रूप देखकर स्थानीय लोगों डरे हुए हैं। आगर में आयी बाढ़ से आम जनता को बहुत नुकसान हुआ है। लेकिन जिला प्रशासन की राहत तैयारी ने जान माल के नुकसान पूरी तरह से रोका है जिला कलेक्टर लगातार हालात का जायजा ले रहे हैं। स्थानीय जनप्रतिनिधियों के साथ मौके पर पहुंचकर वस्तुस्थिाति पर लगातार नजर रख रहे हैं। बाढ प्रभावित लोगों के बीच पहुंचकर उपलब्ध सुविधाओं पर गंभीरता के साथ मानिटरिग भी कर रहे हैं।

पूर्व विधायक चुरावन मंगेश्कर ने बताया कि निश्चित रूप से आगर के रौद्र रूप से मुंगेली में दहशत है। यकायक आई बाढ़ से कई बस्तियां पानी के बीच फंस गयी है। लेकिन जिला प्रशासन ने बिना देरी किए सभी लोगों को बचा लिया है। रविवार दोपहर से राहत बचाव कार्य जारी है। खुशी की बात है कि अभी तक किसी प्रकार की जानमाल की खबर नहीं है। चुरावन ने बताया कि हम जिला कलेक्टर के साथ लगातार मौके पर पहुंचकर जायजा ले रहे हैं। तहसीलदार,नायब तहसीलदार समेत राजस्व प्रशासन का एक एक अधिकारी लगातार लोगों को बचाने का अभियान चला रहा है। बचाव कार्य्र को लेकर किसी प्रकार की कोताही सामने नहीं आयी है।

जानकारी जरूर मिली है कि एसडीएम स्तर के कुछ कर्मचारी बचाव कार्य में किन्ही कारणों से नजर नहीं आए। बावजूद इसके जिला प्रशासन की त्वरित कार्रवाई ने लोगों का दिल जीत लिया है। कांग्रेस नेता ने बताया कि अभी तक बाढ़ में फंसे सैकड़ों लोगों को बचाया जा चुका है। बस्तियां टापू में तब्दील हो चुकी है। राहत बचाव कार्य भी बदस्तुर जारी है।

जिला प्रशासन अधिकारी और चुरावन ने बताया कि सूरीघाट के लोगों को पुूरी तरह से सुरक्षित बचा लिया गया है। एक दिन पहले करीब 18 लोग बाढ़ में चारो तरफ से फंस गए थे। फिलहाल सभी लोग सुरक्षित है। जानकारी यह भी है कि लोगों को बचाने में जिला प्रशासन के अधिकारी भी बाढ़ के चपेट में आ गए। लेिन सभी लोगों को बचा लिया गया। जानकारी है कि रविवार को 100 से अधिक लोगों को बाढ़ की चपेट में आने से पहले सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।

तहसीलदार अमित सिन्हा ने बताया कि जिला कलेक्टर डॉ.सर्वेश भूरे की विशेष दिशा निर्देश में राहत बचाव कार्य किया जा रहा है। लोगोंं को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने में लगातार सहयोग मिल रहा है। कलेक्टर की 24 घंंटे एक एक गतिविधियों पर नजर है।

वहींं चुरावन ने बताया कि  मुंगेली स्थित तिलक वार्ड, बधनी भांवर में आगर के रौद्र रूप से लोग डरे हुए हैं। एक समय ऐसा भी लगा कि आगर किसी को नहींं छोड़ेगी। लेकिन समय रहते जिला प्रशासन की टीम ने रेस्क्यू कर सभी को बचाे लिया है। अभी भी संभावित खतरे के स्थान में रहने वालों को बाढ़ की चपेट में आने से पहले ही रेस्क्यू कर हटाकर सुरक्षित स्थान पर पहुंंचाया जा रहा है।

 

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...