कांग्रेस ने कहा – अंतागढ़ मामले में मंतूराम के बयान के बाद डॉ रमन सिंह का षड्यंत्र कारी चेहरा बेनकाब

Abhishek Singhvi, Election Commission, Chunav Result, Election Result, Modi Prachar Sanhita,,Congress Delhi Candidates List,Agusta Westland Case, Christian Michel, Ed, Rahul Gandhi, Sonia Gandhi,,Rajasthan Election, Congress Manifesto, Jan Ghoshna Patra, Farm Loans, Congress Manifesto Rajasthan, Congress Jan Ghoshna Patra, Sachin Pilot, Rajasthan,रायपुर।पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह अंतागढ़ मामले मंतूराम पवार के न्यायालय में 164 के बयान के बाद बगुला भगत बनने की नौटंकी कर रहे हैं। प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि अंतागढ़ मामला भारत के लोकतंत्र का काला अध्याय है। रमन सिंह अब भोले बनने की नौटंकी करना बंद करे। मंतूराम के बयान के बाद रमन सिंह के चेहरे के पीछे का अधिनायकवादी और षड्यंत्रकारी चेहरा बेनकाब हो गया है। सभी समझ रहे है मंतूराम के चुनाव मैदान से हटने का किसको फायदा होने वाला था ? क्यों रमन के मंत्री मूणत ने खरीद फरोख्त के लिए 7 करोड़ दिए थे? प्रदेश की जनता भली भांति जान चुकी है कि तत्कालीन मुख्यमंत्री रमन सिंह और पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने कांग्रेस के प्रत्याशी को चुनाव मैदान से हटाने का अलोकतांत्रिक षड्यंत्र रचा था। मंतूराम के कोर्ट में दिए गए बयान से यह भी साफ हो गया है कि पूरे मामले में काली कमाई के 7 करोड़ रु. की सौदेबाजी हुई थी।सीजीवालडॉटकॉम के whatsapp ग्रुप से जुडने के लिए यहाँ क्लिक करे

प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि आज जब उनके गुनाह का खुलासा हो रहा तब वे विपक्ष के प्रताड़ित होने की दुहाई देकर बचने का रास्ता तलाश रहे है। जब अंतागढ़ उपचुनाव में कांग्रेस के प्रत्याशी को मैदान से हटाने के लिए धन बल और सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग कर सत्ता का नंगा नाच करवाया था तब विपक्ष के अधिकारों की याद नही आई थी। मंतूराम के नाम वापसी के बाद कांकेर पहुंचे तत्कालीन प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल के होटल की बिजली कटवा कर भय फैलाने के लिए पुलिस के जवानों की परेड करवाते समय उन्हें विपक्ष के अधिकारों की याद नही आई थी।

अंतागढ़ उपचुनाव के निर्दलीय प्रत्याशियों को कांग्रेस पदाधिकारी के घर से दरवाजा तोड़ कर जबरिया उठवाते समय रमन सिंह को लोकतंत्र में विपक्ष के संरक्षण की याद नही आई तब तो सत्ता बल में भूल गए थे कि जिस जनता ने उन्हें मुख्यमंत्री बनाया था वह जनता अहंकार और सत्ता के अतिवादी चरित्र को पसंद नही करती। आज जब कानून अपना काम कर रहा तब रमन सिंह और अजीत जोगी के षड्यंत्र बूमरेंग बन कर उन पर ही प्रहार कर रहे तब उनको लोकतंत्र और विपक्ष के प्रजातांत्रिक अधिकार याद आ रहे।

रमन सिंह ठीक कह रहे विपक्ष कभी समाप्त नही हो सकता इसका उदाहरण कांग्रेस और तत्कालीन विपक्ष के प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल है। रमन सिंह और अजीत जोगी के कांग्रेस और भूपेश बघेल की राजनीति को खत्म करने के तमाम कोशिशें षड्यंत्र विफल हो गयी। जनता ने भाजपा रमन-जोगी को नकार दिया। आज तीन चैथाई बहुमत से राज्य में कांग्रेस की सरकार है भूपेश बघेल मुख्यमंत्री.

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...