आदिवासी आश्रम में दर्जनों छात्र बीमार ,एआईएसएफ ने प्रशासन पर लगाया लापरवाही का आरोप

कूकानार।ऑल इंडिया स्टूडेंट फेडरेशन के प्रदेश अध्यक्ष महेश कुंजाम ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर आरोप लगाते हुए कहा कि छिंदगढ़ ब्लॉक के पाकेला पोटा केबिन आश्रम के दर्जनों स्कूली बच्चों के बीमार होने का कारण प्रशासन और संस्था प्रबंधन की लापरवाही है। उन्होंने कहा शैक्षणिक संस्थानों में यह समस्या पहली बार नहीं आ रही है। पिछले कई सालों से प्रशासन की लापरवाही से सैकड़ों मासूम बच्चों की जान चली गई। अधिकारियों की लापरवाही और कमीशन खोरी के कारण आदिवासी छात्रों का भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है।

वर्तमान में कई अधीक्षकों का तबादला कर गैर जिम्मेदार अयोग्य अधीक्षकों की नियुक्ति मनमानी लेनदेन करके की जा रही है। इससे साबित होता है कि आश्रम और पोटा केबिन छात्रावास में रहकर पढ़ाई करने वाले आदिवासी छात्र छात्राओं के साथ कोई भी शारीरिक मानसिक स्वास्थ्य और शिक्षा की गुणवत्ता विकास पर गंभीर नहीं है।

बल्कि मासिक कमीशन अधिकारी तक पहुंच जाना निश्चित समय सीमा तय है। इस और पिछले कई सालों से ऑल इंडिया स्टूडेंट फेडरेशन शासन प्रशासन को अवगत कराया है कि जिला प्रशासन समस्या को गंभीरता से नहीं ले रहा है।

जिले के सभी शैक्षणिक संस्थान छात्रावास आश्रम और पोटा केबिन के 100 से 500 सीटर के संस्थान में एक नियमित नर्स नियुक्त करने और शैक्षणिक संस्थानों में शासन के निर्देशानुसार प्रतिमा स्वास्थ्य परीक्षण करने का नियम है। आश्रम छात्रावासों में छात्रों को स्वस्थ रखने मीनू चार्ट के आधार पर भोजन खिलाया जाना है।

लेकिन प्रशासन इस नियम का पालन नहीं कर रहा है।छात्रों को छात्रावास आश्रम में हरी सब्जियां लाया जाना चाहिए। लेकिन यहां केवल दाल आलू बड़ी खिलाया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *