शिक्षकों ने सीखी सांकेतिक भाषा प्रक्रिया…दिव्यांग बच्चों को सरल शिक्षा देने शासन की पहल


घरघोड़ा।
दिव्यांग बच्चों को शासकीय शालाओं में बेहतर और आधुनिक पद्धतियों से शिक्षा देने के लिए शिक्षकों का चार दिवसीय सांकेतिक भाषा का प्रशिक्षण घरघोड़ा के प्रशिक्षण स्थल बा.मा.शा.घरघोड़ा में सम्पन्न हुआ । ऐसी शासकीय शालाओं के शिक्षक जहाँ सामान्य बच्चो के साथ दिव्यांग बच्चे भी अध्ययनरत हैं के लिए दिनांक 17 सितम्बर से 20 सितम्बर तक घरघोड़ा में प्रशिक्षण आयोजित किया गया था ।प्रशिक्षण में श्रवण बाधित एवं मूक बधिर बच्चो को सुगमता से शिक्षा देने के लिए सांकेतिक भाषा के उपयोग पर मास्टर ट्रेनर्स सुमन दत्ता,चंद्रकांत दुबे एवं हरि यादव द्वारा विस्तार से प्रशिक्षण दिया गया ।इस प्रशिक्षण का जिला के अधिकारियों ने श्री रमेश देवांगन डी एम सी, दीप्ती अग्रवाल सहायक संचालक एवं भूपेंद्र पटेल ए पी सी ने आकस्मिक जायजा लिया और शिक्षकों को संबोधित करते हुए दिव्यांग बच्चों के पठन पाठन में सांकेतिक भाषा के प्रयोग पर प्रकाश भी डाला ।सीजीवालडॉटकॉम के व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करे

विकास खंड शिक्षा अधिकारी केशव प्रसाद पटेल एवं बी आर सी सी सुन्दरमणि कौंध ने बताया कि दिव्यांग विद्यार्थियों वाले स्कूलों के 44 शिक्षकों को विशेष रूप से सांकेतिक भाषा का प्रशिक्षण दिया गया है हमारी कोशिश है कि दिव्यांग बच्चों को अध्ययन में किसी प्रकार की परेशानियों का सामना न करना पड़े । शिक्षक सांकेतिक भाषा का उपयोग करके दिव्यांग बच्चों को बेहतर तरीके से अध्यापन करा पाएंगे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *