निगम चुनावी घमासान…कई ताक में…तो कई ने शुरू की दौड़…वार्ड 1 से 4 में संभावित प्रत्याशी टटोल रहे जन का मन..और पार्टी प्रत्याशियों की

बिलासपुर—विधानसभा लोकसभा चुनाव के बाद निकाय चुनाव ने भी दस्तक दे दिया है। एक डे़ढ़ महीने बाद आदर्श आचार संहिता लग जाएगी। प्रत्याशियों के नाम का एलान कर दिया जाएगा। खासकर 13 नगर निगम क्षेत्र में आरक्षणवार घोषणा के बाद बहरहाल सरगर्मियां भी तेज हो गयी है। नगर पंचायतों और नगरपालिकाओं में भी चुनावी की सुगबुगाहट तेज हो गयी है। बिलासपुर निगम क्षेत्र विस्तार के बाद मतदाताओं में समय से पहले संभावित प्रत्याशियों के नाम को दिलचस्पी बढ़ गयी है। स्मार्ट सिटी बनने और निगम विस्तार के बाद बिलासपुर नगर निगम का पहला चुनाव होगा। एक नगर पालिका,दो नगर पंचायत समेत 15 ग्राार् पंचायतों के जुड़ने से बिलासपुर नगर निगम की ना केवल आबादी बल्कि क्षेत्र भी बढ़ गया है। पढ़िए सीजी वाल में निगम क्षेत्र के 1 से 70 वार्डों की चुनावी रिपोर्ट–

                          स्मार्ट सिटी बनने और निगम सीमा विस्तार के बाद पहली बार बिलासपुर नगर निगम का चुनाव होगा। यद्यपि चुनाव की तारीख का अभी एलान नहीं हुआ है। लेकिन लगभग मतदाता सूची बनकर तैयार हो चुकी है। निगम का क्षेत्र ना केवल दुगुना हुआ है बल्कि आबादी भी डे़ढ गुना बढ़ गयी है। दो नगर पंचायत और एक नगर पालिका समेत 15 ग्राम पंचायत अब निगम का हिस्सा हैं। परिसीमन के बाद बिलासपुर को औसत आबादी के आधार पर कुल 70 वार्डों को आठ जोन में बांटा गया है। परिसीमन के बाद पुराने वार्डों के क्षेत्रों में काफी बदलाव हुए हैं।

                              एक जमाने में सकरी ग्राम पंचायत नगर पंचायत के बाद बिलासपुर नगर निगम का हिस्सा हो चुका है। परिसीमन के बाद सकरी नगर पंचायत की गिनती अब बिलासपुर नगर निगम का वार्ड नम्बर एक बन गया है।

वार्ड क्रमांक एक — बजरंग नगर–एससी ओपेन

               पिछले दो चुनाव में नगर पंचायत सकरी में भाजपा और कांग्रेस दोनों का बारी बारी से कब्जा रहा। 2014 चुनाव में कांग्रेस की सकरी नगर पंचायत पर कब्जा हुआ। बहरहाल सकरी नगर पंचायत बिलासपुर निगम का हिस्सा बन चुका है। बजरंग नगर वार्ड क्रमांंक एक में मतदाताओं की कुल संख्या 3900 से अधिक है। पार्टियां की तरफ से संभावित प्रत्याशियो की तलाश शुरू हो चुकी है।

                                      बजरंग नगर वार्ड अनुसचूति जाति के लिए आरक्षित है। मतदाओं में अनुसूचित जाति की संख्या अधिक है। कांग्रेस से पार्षद की दौड़ में अमित रात्रे, दरस पनिका,कामे रात्रे प्रमुख नाम हैं। अमित रात्रे को विधायक रश्मि सिंह का नजदीकी माना जाता है। युवा कांग्रेस नेता अमित रात्रे का परिवार पीढियों से कांग्रेसी है। परिवार का सतनामी समाज में रसूख है। दादा सदाशिव रात्रे 1970-71 में सकरी ग्राम पंचायत के सरपचं रह चुके हैं।

                                टिकट दौड़ में दरस पनिक का नाम भी शामिल है। दरस पनिक को आशीष सिंह का नजदीकी हासिल है। दरस की पत्नी वर्तमान मेंं सकरी नगर पंचायत की अध्यक्ष  हैं। लोगों की माने तो दरस को कांग्रेस पार्षद उम्मीदवार बनाया जा सकता है। नगर पंचायत अध्यक्ष चम्पा दरस पनिक ने सकरी में काम किया है। जनता के साथ उनका नजदीकी रिश्ता रहा है। जाहिर सी बात है कि इसका फायदा टिकट मिलने पर दरस को मिलेगा।

                                कामे रात्रे भी टिकट का दावेदार माना जा रहा है।विधानसभा चुनाव के समय कामे रात्रे कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए थे। भूपेश सरकार बनने के बाद फिर से कांग्रेस में शामिल हो गए हैं। अच्छी पहुंच और रसूख के बाद भी कामे रात्रे की ठुलमुल नीति उनके लिए घातक हो सकती है।

              भाजपा के संजय रात्रे और सुरेश रात्रे कांग्रेस भी कांग्रेस के युवा चेहरे हैं। दोनों की क्षेत्र में अच्छी पकड़ है। संगठन में दखल है। मण्डल अध्यक्ष रवि मेहर के नजदीकी होने के साथ पूर्व निकाय मंत्री के करीबी भी हैं। दोनों भाजपा के बेहतर उम्मीदवार हो सकते हैं।

वार्ड क्रमांक-2 कलामनगर–एससी ओपेन

              परिसीमन के बाद सकरी का एक क्षेत्र कलामनगर वार्ड क्रमांक दो बनाया गया है। कलामनगर में कुल मतदाताओं की संख्या करीब 8000 है। क्षेत्र यद्यपि अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है। ओबीसी मतदाताओं की संख्या भी बहुत है। यहां कांग्रेस रिटायर्ड व्याख्याता वीरसेन सिंह सूर्यवंशी को टिकट थमा सकती है। पहले भी उन्हें व्याख्याता रहते हुए नगर पंचायत चुनाव लड़ने को कहा गया था। समाज में अच्छी पकड़ रखने वाले वीरसेन को विधायक का नजदीकी माना जाता है। शत्रुघन मेहर भी कांग्रेस के मजबूत दावेदार हैं। शत्रुघन आशीष सिंह के नजदीकी हैं। सकरी नगर पंचायत में वार्ड क्रमांक 7 के पार्षद हैं। शत्रुघन कांग्रेस के अच्छे कार्यकर्ता है। संगठन में लोकप्रिय भी हैं। सकरी के पूर्व सरपंच डीपी लास्कर भी कांग्रेस पार्षद के लिए दावेदारी करेंगे।

                          भाजपा से वार्ड क्रमांक दो का सबसे बड़ा चेहरा रवि मेहर है। रवि सकरी भाजपा मण्डल के अध्यक्ष हैं। पूर्व में नगर पंचायत सकरी के अध्यक्ष भी रह चुके हैं। जनता और संगठन में अच्छी पैठ है। क्षेत्र की पॉस कालोनी सागर होम्स, नेचर सिटी, आसमा सिटी,रामा सिटी मतदाताओं के बीच दखत है। ऐसे में रवि मेहर वार्ड क्रमांक दो से भाजपा के उम्मीदवार हो सकते हैं।

                  भाजपा से ही दिलीप कोरी की दावेदारी होगी। नगर पंचायत चुनाव के समय भी टिकट का दावा किया था। जनता में अच्छी पकड़ रखते हैं। दावेदारी से रवि मेहर के लिए समस्या बन सकते हैं।

वार्ड क्रमांक-3—साँई नगर–एससी ओपेन

              अमेरी ग्राम पंचायत का आधा हिस्सा और उस्लापुर को मिलाकर बनाया गया वार्ड है। वार्ड अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है। वार्ड की कुल आबादी 9494 है। भाजपा और कांग्रेस में सांई नगर से दावेदारों की लम्बी लाइन है। क्षेत्र को कभी भाजपा की पेटी कहा जाता था। फिलहाल कांग्रेस का बर्चस्व है। भाजपा उस्लापुर के पुराने सरपंच छेदीलाल रात्रे और अमेरी के वर्तमान सरपंच शुभचन्द डहरिया पर दांव खेल सकती है। छेदीलाल उस्लापुर में दस साल तक सरपंच रह चुके हैं। पत्नी भी सरपंच रह चुकी हैं। परिवार भाजपा के प्रति समर्पित है। लेकिन छेदीलाल चुनाव लड़ने के इच्छुक नहीं है। लेकिन खुद को पार्टी का ईमानदार सिपाही कहते हैं।

                    भाजपा चेहरा शुभचन्द वर्तमान में अमेरी सरपंच है। आधा अमेरी वार्ड क्रमांक चार में चला गया है। शुभचन्द खुलकर बोलते हैं कि घर का कोई एक सदस्य चुनाव जरूर लड़ेगा। वार्ड तीन से खुद चुनाव लड सकते हैं। टिकट नहींं मिलने पर घर की किसी महिला सदस्य को वार्ड क्रमांक चार से मैदान में उतारेंगे। भाजपा से टिकट नहीं मिलने पर कांग्रेस से प्रयास करेंगे। अन्यथा अपने काम के दम पर निर्दलीय घर का कोई एक सदस्य निर्दलीय चुनाव ल़़ड़ेगा।

                  कांग्रेस से राजेश और रमेश टण्डन चुनाव लड़ने के इच्छुक हैं। राजेश टण्डन पंचायत और जनपद चुनाव लड़ चुके हैं। समाज में अच्छी पकड़ है। रमेश टण्डन उस्लापुर के उपसरपंच है। दावा हैं कि कांग्रेस जरूर टिकट देगी। चुनाव ल़ड़ेंगे और जीतेंगे भी। सुरेश टण्डन भी टिकट की दौड़ में है। पूर्व में एमआर रह चुके और वर्तमान में प्रापर्टी डीलर का काम कर रहे महेश जांगड़े भी कांग्रेस की टिकट से दावेदारी करेंगे। दुलार जोशी प्रापर्टी डीलर अमेरी से हैं। चुनाव भी लड़ना चाहते हैं।

वार्ड क्रमांक 4 …गोकुल नगर…एससी महिला

              आधा अमेरी गांव और पूरा घुरू ग्राम पंचायत को मिलाकर गोकुलनगर वार्ड बनाया गया है। कुल मतदाता की संख्या 5624 है। आबादी 11 हजार के आस पास है। कुल मतदाताओं में 31 प्रतिशत एसटी वर्ग का है। अनुसूचित वार्ड में दावेदारों की संख्या दोनों पार्टियों से अधिक हो सकती है। घुरू सरपंच राजकपूर सूर्यवंशी घर के किसी महिला सदस्य को कांग्रेस की टिकट से चुनाव लड़वाना चाहते हैं। राजकपूर खुद वार्ड क्रमांक तीन से चुनाव लड़ना चाहते हैं।

                 क्षेत्र का सबसे बड़ा चर्चि चेहरा जोगी कांग्रेस से निष्कासित डिकेश डहरिया का हैॆ। डिकेश अपनी बहन स्नेहलता डहरिया को कांग्रेस टिकट पर चुनाव लड़ना चाहते हैं। स्नेहलता तखतपुर जनपद पंचायत सदस्य रह चुकी है। क्षेत्र में लोकप्रिय भी हैं। क्षेत्र में भाई का वर्चस्व है। कांग्रेस भी डिकेश की लोकप्रियता का फायदा उठाना चाहती है। जोगी कांग्रेस के कार्यकर्ता डिकेश के साथ हैं। डिकेस का मानना है कि टिकट मिलेगी..स्नेहलता गोकुल नगर की पहली पार्षद बनेगी।

                  क्षेत्र में महाबली कोशले ऊर्फ पन्ना का दबदबा है। महाबलि का भाई नरेन्द्र कोसले पूर्व में जनपद सदस्य रह चुके हैं। बडा भाई जीसटी सहायक आयुक्त हैं। पन्ना का परिवार पढ़ा लिखा है। उन्हें विश्वास है कि भाजपा उनकी पत्नी को जरूर टिकट देगी। परिवार का क्षेत्र में मान सम्मान है। पन्ना खुद भी भाजपा के सक्रिय सदस्य हैं।

                       पूर्व सरंपच नियंता कुर्रे की रिश्तेदार शशिकला धृतलहरे भी मैदान में कांग्रेस की टिकट से किस्मत आजमाना चाहती है।शशिकला के पति बीएमओ हैं। परिवार की गिनती क्षेत्र में रसूखदार और सम्पन्न लोगों में होती है।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...