कलेक्टर ने जताया खेद…इंजीनियरों ने लिया यू टर्न…कहा…गलती मानने के बाद कार्यक्रम निरस्त

बिलासपुर—छत्तीसगढ़ डिप्लोमा अभियंता संघ और अधिकारी कर्मचारी फेडरेशन ने कलेक्टर कांकेर की तरफ से खेद प्रकट किए जाने के बाद धरना प्रदर्शन को वापस ले लिया है। जिला छत्तीसगढ़ डिप्लोमा संघ और जिला समिति ने प्रेस नोट जारी कर बताया कि कलेक्टर कांकेर ने आश्वासन दिया है कि भविष्य में इस प्रकार की गललियों की पुनरावृत्ति नहीं होगी।
                     बताते चलें की 30 सितम्बर को कांकेर में गढिया महोत्तव का आयोजन किया गया था। आयोजन में प्रदेश के मुखिया भूपेश बघेल ने शिरकत किया। इसी दौरान किसी बात को लेकर कलेक्टर नाराज हो गए। सार्वजनिक रूप से अनुविभागीय कार्यपालन अभियंता को जमकर फटकारा। इस दौरान कलेक्टर ने आपा खोते हुए डी.राम को अश्लील गालियों के अलावा जाति सूचक गाली भी दी। इतना ही नहीं कलेक्टर ने एसडीओ को निर्देश दिया कि डी.राम को पुलिस के हवाले किया जाए। अनुविभागीय अधिकारी ने डी.राम के अधीनस्थ कर्मचारियों के अलावा बाबू को अश्लील गालियां दी। साथ ही यह भी कहा कि यदि मुंह खोला तो जेल भेज दूंगा।
            कलेक्टर के निर्देश और एसडीओ के कहने पर मौके पर पहुंचकर पुलिस ने कार्यपालन अभियंता को हिरासत में थाने गयी। डी.राम को करीब 6 घंटे बाद थाने से छोड़ा गया। मामले में प्रदेश के साथ बिलासपुर में भी इंजीनियरों ने कलेक्टर के व्यवहार की निंदा की। 4 अक्टूबर को छत्तीसगढ़ डिप्लोमा अभियंता संघ और कर्मचारी अधिकारी इंजीनियर संघ ने कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर विरोध प्रदर्शन किया।
                            विरोध प्रदर्शन के दौरान नाराज इंजीनियरों ने जिला प्रशासन को सचिव के नाम लिखित शिकायत कर कलेक्टर और एसडीओ के खिलाफ सख्त कदम उठाए जाने की मांग की। इंजीनियरों ने अल्टीमेटम भी दिया कि यदि 9 सितम्बर तक शासन ने किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं किया तो 10 सितम्बर को प्रदेश स्तर पर जिला कार्यालय के सामने  धरना प्रदर्शन किया जाएगा।
                     छत्तीसगढ़ डिप्लोमा अभियंता संघ ने बताया कि लगातार दबाव और विरोध के मद्देनजर कलेक्टर कांकेर ने अपने व्यवहार को लेकर खेद प्रकट किया है। साथ ही आश्वासन दिया है कि इस प्रकार की पुनरावृत्ति नहीं होगी। कलेक्टर के खेद प्रकट किये जाने के बाद अभियंता संघ ने पूर्व निर्धारित धरना प्रदर्शन कार्यक्रम को निरस्त कर दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *