स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के 1200 पदों पर शुरू होगी भर्ती प्रक्रिया,लोकवाणी कार्यक्रम में सीएम भूपेश बघेल बोले-सरकार ने हटाई सभी तरह की भर्तियों से रोक

कृषि ऋण माफ,नरवा, गरूवा, घुरवा अउ बारी -एला बचाना है संगवारी,चार चिन्हारी,छत्तीसगढ़,जनादेश,छत्तीसगढ़ ,मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल,bhupesh baghel, cm ,chhattisgarh,news,hindi news,cg news,raipur,bemetara,सदस्यों की संख्या बढ़ाने,extended cabinet chhattisgarh,प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी,मंत्रिपरिषद,bhupesh baghel,chhattisgarh,cmo,,सांसद राहुल गांधी,मुख्यमंत्री भूपेश बघेल,किसानों की भूमि,लोहांडीगुड़ा क्षेत्र,टाटा इस्पात संयंत्र,आदिवासी बहुल बस्तर,रायपुर।मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रविवार को ’स्वास्थ्य एवं मातृशक्ति’ पर आधारित मासिक रेडियो कार्यक्रम लोकवाणी के तीसरे प्रसारण की शुरूआत दाई-बहिनी, सियान-जवान, लइका जम्मो मन ला जय जोहार से की।उन्होंने छत्तीसगढ़ी में इस सरल और सरस संबोधन के साथ पूरे वातावरण को सहज बना दिया। मुख्यमंत्री ने मासिक रेडियो वार्ता में छत्तीसगढ़ की संस्कृति में मातृशक्ति की पूजा की परम्परा का उल्लेख कर उनका नमन करते हुए अपनी बात की शुरुआत की।लोकवाणी कार्यक्रम मे साजा जिला बेमेतरा से गुलाब राम साहू, देवेन्द्र चन्द्राकर, बलौदाबाजार से नोहर लाल साहू, रायपुर से उमेश बंजारे, रवि कुमार, गुणसार प्रधान ने प्रश्न किया कि स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं का प्रशिक्षण तो हो रहा है, लेकिन भर्ती पर रोक लगा दी गई है। भर्ती प्रक्रिया प्रारंभ करने का निवेदन इन्होंने किया है।सीजीवालडॉटकॉम के व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करे

जिसपर CM भूपेश बघेल ने बताया कि हमारी सरकार ने सभी तरह की भर्तियों से रोक हटाई है और बड़े पैमानों पर विभिन्न विभागों में भर्ती की जा रही है।स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के लगभग 1200 पदों पर भर्ती प्रक्रिया शुरू की जाएगी।108 विशेषज्ञ डॉक्टरों की भर्ती संविदा से की गई है।345 डॉक्टरों की नियमित भर्ती की गई है, जबकि 122 डॉक्टरों की संविदा भर्ती की जाएगी।अन्य 400 डॉक्टरों की भर्ती वर्षान्त तक कर ली जाएगी। इस तरह हम वर्ष 2019 में 975 डॉक्टरों की भर्ती पूरी कर लेंगे।687 स्टॉफ नर्सों की भर्ती हो चुकी है, 941 की भर्ती की प्रक्रिया जारी है।228 लैब टेक्निशियन तथा 21 रेडियोग्राफर की भर्ती भी इस साल पूरी हो जाएगी। इस तरह राज्य में चिकित्सा अमला तेजी से बढ़ाया जा रहा है।

जिन स्थानों में स्वास्थ्य अधोसंरचना उपलब्ध नहीं है, वहां के निवासियों को इलाज से वंचित न होना पड़े। इसके लिए हमने ‘मुख्यमंत्री हाट-बाजार योजना’ तथा ‘मुख्यमंत्री शहरी स्लम योजना’ की शुरूआत कर दी है।इन दो योजनाओं के माध्यम से हम प्रत्येक बस्तियों और बसाहटों तक स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंचा रहे हैं, ताकि अस्पताल की सुविधाएं उन सभी लोगों तक पहुंचा दी जाए, जो इससे छूट गए हैं। इसके अलावा सार्वभौम पी.डी.एस. के माध्यम से सबको सस्ता अनाज, जरूरतमंदों को मिट्टी का तेल, आदिवासी अंचलों में नमक, चना तथा बस्तर में गुड़ आदि सुचारू रूप से प्रदान करने की व्यवस्था की है। इतना ही नहीं शहरों में ‘मुख्यमंत्री वार्ड कार्यालय योजना’ भी शुरू कर दी है। जिसका मकसद है नगर-निगम, नगर पालिका, नगर पंचायत में होने वाले कार्यों के लिए जनता को मुख्यालय तक न जाना पड़े, बल्कि अपने वार्ड स्थित कार्यालय में सबकी समस्या का हल हो जाए।इससे शहरी बस्तियों के लोगों को, अपने पोषण और स्वास्थ्य पर ध्यान देने के लिए अधिक समय मिलेगा।

loading...
loading...

Comments

  1. Reply

  2. By Rajesh

    Reply

  3. By Dileshwar Yadav

    Reply

  4. By akshay kumar pasi

    Reply

  5. By Durga Jhariya

    Reply

  6. By R K Sahu

    Reply

  7. Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...