पढिये निगम चुनाव घमासानः दोनों दलों में प्रत्याशियों का टोंटा…वार्ड 60 में भाजपा दावेदारों की भरमार..नए चेहरे पुराने पर पड़ रहे भारी

बिलासपुर—-विधानसभा लोकसभा चुनाव के बाद निकाय चुनाव ने भी दस्तक दे दिया है। एक डे़ढ़ महीने बाद आदर्श आचार संहिता लग जाएगी। प्रत्याशियों के नाम का एलान कर दिया जाएगा। खासकर 13 नगर निगम बिलासपुर में आरक्षण निर्धारण के बाद चुनावी सरगर्मियां तेज हो गयी है। नगर पंचायतों और नगरपालिकाओं में भी चुनावी सुगबुगाहट देखने को मिल रहा है । बिलासपुर निगम क्षेत्र विस्तार के बाद मतदाताओं में समय से पहले संभावित प्रत्याशियों के नाम जानने की दिलचस्पी भी बढ़ गयी है। स्मार्ट सिटी बनने और सीमा विस्तार के बाद बिलासपुर नगर निगम का पहला चुनाव होगा। एक नगर पालिका,दो नगर पंचायत समेत 15 ग्राम पंचायतों के शामिल होने से बिलासपुर नगर निगम की ना केवल आबादी बढ़ी है…बल्कि क्षेत्र भी बढ़ गया है। पढ़िए सीजीवाल में निगम क्षेत्र के 1 से 70 वार्डों की चुनावी रिपोर्ट–सीजीवालडॉटकॉम के व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

                                                धीरे धीरे निकाय चुनाव नजदीक आता जा रहा है। इसी के साथ भाजपा और कांग्रेस नेताओं की बैठक संख्या भी बढ़ती जा रही है। प्रत्याशी चयन के साथ दावेदारों की सामाजिक,आर्थिक और व्यावहारिक पहलुओं पर जमकर चर्चा हो रही है। बिलासपुर निगम क्षेत्र मूलतः दो भागों में बांटकर देखा जाता है। एक भाग मुख्य बिलासपुर तो दूसरा अरपा पार सरकन्डा क्षेत्र का होता है। सरकन्डा क्षेत्र के कई वार्ड बिलासपुर विधानसभा में शामिल है तो कई वार्ड बेलतरा विधानसभा का हिस्सा हैं। पढ़िए वार्ड क्रमांक 56 से 60 वार्ड की स्थिति और परिस्थितियों की जानकारी….।

वार्ड क्रमांक—56…विजय नगर.सामान्य वर्ग…महिला

                    परिसीमन के बाद वार्ड में चांटीडीह और चिंगराज पारा को शामिल किया गया है। सीपत रोड होते हुए साइंस कालेज के सामने विजयापुरम तक वार्ड फैला है। वार्ड में कुल मतदाताओं की संख्या 4863 है।

                    परिसीमन के बाद वार्ड का पहली बार चुनाव होगा। कांग्रेस से गौरव तिवारी की पत्नी शिल्पी तिवारी टिकट की प्रबल दावेदार हैं। परिवार की पृष्ठभूमि राजनीतिक है। परिवार में कृष्ण कुमार तिवारी का नाम जाना पहचाना है। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के राष्ट्रीय सदस्य विष्णु यादव यहां से परिवार की किसी महिला सदस्य को मैदान में उतारना चाहते हैं। कांग्रेस पार्टी विष्णु यादव के अलावा परिवार के सदस्य को टिकट देती है या नहीं। बतना बहुत आसान है। नियमानुसार परिवार के किसी एक सदस्य को ही टिकट मिलेगी। मतलब विष्णु का चुनाव लड़ना निश्चित है। ऐसी सूरत में शिल्पी तिवारी की दावेदारी मजबूत है। कांग्रेस नेता सुशील मौर्य भी घर से किसी महिला सदस्य के लिए टिकट चाहते हैं।

                   भाजपा की तरफ से वर्तमान पार्षद रेखा पाण्डेय की दावेदारी है। रेखा पाण्डेय के पति भाजपा नेता ओमप्रकाश का प्रयास लगातार जारी है। युवा मोर्चा मण्डल अध्यक्ष गुप्ता अपनी चाची पूर्व पार्षद रूपाली गुप्ता को पार्षद बनाना चाहते हैं।

वार्ड क्रमांक–57…अशोक नगर….सामान्य

                       वार्ड में ग्रामीण क्षेत्र खमतराई और बहतराई को शामिल किया गया है। क्षेत्र विस्तार..डीएलएस कालेज के पीछे अटल आवास,बैमा नगोई चौक से अशोक नगर,गीतांजली फेस-2 से प्रारम्भ होकर बहतराई सीमा तक है। वार्ड में कुल मतदाताओं की संख्या 5095 है।

                          कांग्रेस से पार्टी के वरिष्ठ नेता बसंत शर्मा प्रमुख और प्रबल दावेदार हैं। बसंत शर्मा निगम नेता प्रतिपक्ष भी रह चुके हैं। पार्टी में उन्हें अच्छे और योग्य वक्ता के रूप में देखा जाता है। राजनीति की अच्छी समझ रखते हैं। संगठन में गहरी पैठ भी है। क्षेत्र के मतदाताओं से अच्छी तरह से परिचित हैं। युवा जगत भी पसंद करता है।

                      इसके अलावा कांग्रेस का युवा चेहरा सिद्धांशु मिश्रा ने तेजी से लोकप्रियता हासिल किया है। सिद्धांशु मिश्रा कांग्रेस से टिकट के सशक्त दावेदार हैं। विधानसभा चुनाव में उन्होने पसीना बहाया है। सिद्धांशु को महामंत्री अटल श्रीवास्तव का करीबी माना जाता है। पोस्टर के माध्यम से चेतनदास महंत का भी नाम टिकट दावेदारों में शामिल है। क्षेत्र में साहू समाज की बहुलता है। ऐसे में ब्लाक कांग्रेस अध्यक्ष विनोद साहू भी गंभीरता के साथ टिकट की दावेदारी करेंगे।

                                 भाजपा से बेलतरा विधायक रजनीश सिंह के बालसखा राजेन्द्र अग्रहरी की मजबूत दावेदारी है। अन्दरखाने की मानें तो राजेन्द्र अग्रहरी को तैयारी का आदेश दिया गया है। यदि उलटफेर नहीं हुआ तो अग्रहरी को टिकट मिलना तय है। ओमप्रकाश पाण्डेय भी प्रबल दावेदार है। चूंकि 56 से पत्नी की दावेदारी है। संभावना है कि दावेदारी वापस ले लें। यहां भी मेयर किशोर राय के एमआईसी सदस्य बंशी साहू भी बेमन से ही सही लेकिन जोर आजमाइश करेंगे।

वार्ड क्रमांक—58,,रानी दुर्गावती नगर….सामान्य महिला

                      वार्ड में ग्राम पंचायत बिरकोना और खमतराई को शामिल किया गया है। क्षेत्र विस्तार अशोकनगर चौक से डीपी लॉ कालेज,बिजली आफिस,अटल आवास,मुरूम खदान, रामा ग्रीन सिटी.हाउसिंग बोर्ड कालोनी, को शामिल किया गया है। सोनगंगा कालोनी भी शामिल है। मतदाताओं की कुल संख्या 9268 है।

               कांग्रेस की तरफ से पार्टी कार्यकर्ता पवन चन्द्राकर पत्नी को चुनाव लड़ाना चाहते हैं। फिलहाल विजया चन्द्राकर के अलावा किसी अन्य बड़े चेहरे ने दावेदारी नहीं की है। कामाक्षी पाटनवार भी चुनाव लड़ना चाहती हैं।

                  भाजपा की तरफ से दो दौर की बैठक के बाद भगवती साहू का नाम प्रमुखता से सामने आया है। भगवती साहू मेयर पिंगले के कार्यकाल से पहले पार्षद रह चुके हैं। नारद साहू अपनी पत्नी सुखबाई के लिए प्रयास कर रहे हैं। सच है कि अभी चुनाव में समय है। इसलिए संभावित प्रत्याशी अपनी जड़ की मजबूती को परख रहे हैं।

वार्ड क्रमांक–59…शहीद मंगल पाण्डेय नगर…अनुसूचित जनजाति

                          चांटीडीह और जबड़़ापारा का बहुत बड़ा हिस्सा वार्ड में शामिल है। इरानी मोहल्ला, राजस्व कालोनी और पेट्रोल पम्प क्षेत्र वार्ड में शामिल है। वार्ड की कुल मतदाता संख्या 8062 है।

                     दोनों दलों का मानना है कि वार्ड अप्रत्याशित रूप से अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित हुआ है। इसकी उम्मीद नहीं थी। फिलहाल दोनों तरफ से प्रत्याशियों की तलाश हो रही है। कांग्रेस पार्टी को कार्यकर्ता महेन्द्र नेताम का नाम हाथ लगा है।  भाजपा में अनिका प्रधान के अलावा संजय ध्रुव का नाम सामने आया है। शशि ध्रुव का नाम मजबूती के साथ उभरा है। बावजूद इसके अभी  दोनों दलों को सशक्त दावेदारों के नाम का इंतजार है।

वार्ड क्रमांक–60..कपिल नगर…सामान्य

                            वार्ड में कपिलनगर के अलावा जबड़ापारा का बाहरी हिस्सा,मुक्तिधाम समेत सरकन्डा के बहुत बड़े क्षेत्रो को शामिल किया गया है। वार्ड में मतदाताओं की कुल संख्या..4906 है।

                           कांग्रेस पार्टी में टिकट दावेदारी करने वालों में सशक्त और प्रबल दावेदार राजेश शुक्ला का नाम सबसे आगे है। राजेश शुक्ला वर्तमान पार्षद भी हैं। पूर्व पार्षद पुष्पेन्द्र मिश्रा भी चुनाव लड़ना चाहते हैं। पार्टी कार्यकर्ता नारायण शुक्ला भी जोर आजमा रहे हैं।

           भाजपा खेमें में दावेदारों की लम्बी फेहरिस्त है। वार्ड पार्षद बनने के अनुभवी और युवा चेहरा टिकट के दावेदार हैं। भाजपा में दबंग छवि ऱखने वाले पूर्व पार्षद और एल्डरमैन विजय ताम्रकार एक बार फिर चुनाव लड़ना चाहते हैं। विजय की पत्नी ममता ताम्रकार वर्तमान में पार्षद है। चूंकि मेयर का चुनाव अप्रत्यक्ष होना है। इसलिए विजय ताम्रकार मौके को गवाना नहीं चाहते हैं। बबला श्रीवास भी चुनाव लड़ने के इच्छुक है। बैठक में स्थानीय लोगों ने बबला श्रीवास का नाम  आगे बढ़ाया है। युवा मोर्चा महामंत्री ज्योतिन्द्र उपाध्याय , अटल विश्वविध्यालय छात्रसंघ के पहले अध्यक्ष केतन सिंह की भी दावेदारी मजबूत है।

                      अन्दर की माने तो अप्रत्यक्ष चुनाव घोषणा से पहले तक संगठन में महर्षि बाजपेयी को वार्ड से प्रमुख दावेदार के रूप में देखा जा रहा था। कमोबेश महर्षि की दावेदारी आज भी मजबूत है। महर्षि को पूर्व निकाय मंत्री अमर अग्रवाल का प्रिय माना जाता है। बूथ प्रभारी से लेकर भाजपा युवा मोर्चा मे मंत्री की जिम्मेदारी में रहे हैं। वार्ड में लगातार सक्रियता आज भी कायम है। खबर है कि कुछ दावेदारों ने बैठक में टिकट वितरण के समय पुराने चेहरों पर नए चेहरों को प्राथमिकता देने की बात कही है। यदि ऐसा होता है तो महर्षि और बबला का नाम सबसे उपर होगा।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...