निगम चुनाव घमासान…रेलवे के वार्डों में दिग्गजों का दावा…परिसीमन के बाद पुराने पार्षद हुए बेकाम…कहीं प्रत्याशियों का टोंटा

बिलासपुर।विधानसभा लोकसभा चुनाव के बाद निकाय चुनाव ने भी दस्तक दे दिया है। एक डे़ढ़ महीने बाद आदर्श आचार संहिता लग जाएगी। प्रत्याशियों के नाम का एलान कर दिया जाएगा। खासकर 13 नगर निगम बिलासपुर में आरक्षण निर्धारण के बाद चुनावी सरगर्मियां तेज हो गयी है। नगर पंचायतों और नगरपालिकाओं में भी चुनावी सुगबुगाहट देखने को मिल रहा है । बिलासपुर निगम क्षेत्र विस्तार के बाद मतदाताओं में समय से पहले संभावित प्रत्याशियों के नाम जानने की दिलचस्पी भी बढ़ गयी है। स्मार्ट सिटी बनने और सीमा विस्तार के बाद बिलासपुर नगर निगम का पहला चुनाव होगा। एक नगर पालिका,दो नगर पंचायत समेत 15 ग्राम पंचायतों के शामिल होने से बिलासपुर नगर निगम की ना केवल आबादी बढ़ी है…बल्कि क्षेत्र भी बढ़ गया है। पढ़िए सीजीवाल में निगम क्षेत्र के 1 से 70 वार्डों की चुनावी रिपोर्ट–सीजीवालडॉटकॉम के व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

                                            मेयर कौन चर्चा के बीच संभावित पार्षद प्रत्याशी बिलासपुर से रायपुर का चक्कर काट रहे हैं।अपने नेताओं को खुद की वस्तुस्थिति से अवगत कराते हुए टिकट की मांग कर रहे हैं।नाराजगी भी जाहिर कर रहे हैं कि जीते हुए पार्षदों को दरकिनार कर प्रायोजित मेयर प्रत्याशी को बर्दास्त नहीं किया जाएगा। बहरहाल इन तमाम चर्चाओं के बीच पेश है बेलतरा विधानसभा के तीन और रेलवे क्षेत्र की दो वार्डों की वस्तुस्थिति । बताते चलें कि इस बार रेलवे के सात वार्डों को मिलाकर दो वार्ड बनाए गए हैं।

वार्ड क्रमांक—66—पंडित शिव दुलारे मिश्रा नगर– सामान्य-महिला

                                   वार्ड में माता चौक,दैहानपारा,नूतन कालोनी,इंदिरा विहार,इमलीभाठा छोर,बघवा मंदिर,महमाया क्षेत्र को शामिल कर बनाया गया है। भारतीय जनता पार्टी के पार्षद और एमआईसी सदस्य श्याम साहू की बहन ने वार्ड से टिकट की प्रमुख दावेदार हैं। उत्तरा साहू 2009-2014 में निर्दलीय प्रत्याशी होकर वार्ड क्रमांक 48 से चुनाव जीत चुकी है। है। उत्तरा साहू को भरोसा है कि पार्टी टिकट देगी और जीतेंगी भी।

                       मेघदूत नगर दैहानपारा निवासी पत्रकार विनोद सिंह की पत्नी समीक्षा सिह ने भी मजबूत दावेदारी पेश की है। समीक्षा सिंह का मानना है कि प्रधानमंत्री का जादू सिर चढ़कर बोल रहा है। यद्यपि निकाय चुनाव स्थानीय समस्याओं को लेकर होता है। चुनाव में सामाजिक संबधों का महत्व होता है। पिछले कई साल से महिला समिति की सक्रिय सदस्य होने के कारण क्षेत्र के एक एक घर से नजदीकी रिश्ता है। लोगों की सुख दुख में सक्रिय भागीदारी भी है। स्थानीय लोग चाहते हैं कि चुनाव लड़ूं। इसलिए दावेदारी की है। भाजपा संगठन के नेताओं ने बताया कि चुनाव दूर है। दावेदारों की कमी भी नहीं है। समय रहते प्रत्याशी का चयन कर लिया जाएगा।

                       इधर कांग्रेस में बंधवापारा से खांटी कांग्रेसी परिवार की सदस्य पूर्णिमा मिश्रा ने टिकट की मांग की हैष। पुर्णिमा मिश्रा ब्लाक कांग्रेस कमेटी में पदाधिकारी हैं।  राजनीतिक और सामजिक गतिविधियों में लगातार सक्रियता है। खुद को टिकट की प्रबल दावेदार मानती है। कांग्रेस ब्लाक 3 के उपाध्यक्ष सूर्यमणि तिवारी चाहते हैं कि पत्नी पार्षद बने। सूर्यमणि की पत्नी ने पति के साथ मिलकर टिकट की दावेदारी भी की है। वार्ड क्रमांक 59 से पार्षद प्रत्याशी रह चुके देवेन्द्र मिश्रा ऊर्फ गुड्डा भी पत्नी के लिए टिकट की दावेदारी कर रहे हैं। बृजेश साहू समर्थक लखन श्रीवास भी पत्नी को चुनाव लड़वाना चाहते हैं। पिछली बार वार्ड क्रमांक 55 के प्रत्याशी रह चुके हैं।

वार्ड क्रमांक—67–विद्या सागर नगर…अनुसूचित जाति

                 नया परिसीमन के बाद वार्ड क्रमांक 59 का आधा हिस्सा पंडित शिवदुलारे नगर वार्ड क्रमांक 66 और आधा हिस्सा विद्यासागर वार्ड क्रमांक 67 में शामिल किया गया। वार्ड में सतनामी पारा, मेन रोड लक्ष्मी निवास,कृषि महाविद्यालय,अटल आवास, देवनगर,कोनी पेट्रोल पम्प,दैहानपारा, कृष्णा पब्लिक स्कूल,केन्द्रीय विश्वविद्यालय,इंजीनियरिंग कालेज,कोनी थाना क्षेत्र को शामिल किया गया है। क्षेत्र में कांग्रेस से निष्कासित नेता त्रिलोक श्रीवास कांग्रेस का खेल जरूर बिगाड़ेंगे।

                                  कांग्रेस की तरफ से युवा चेहरा सतनामी चेहरा दिनेश सूर्यवंशी को फिलहाल टिकट का प्रबल दावेदार माना जा रहा है। दिनेश की अन्य जाति धर्माें में अच्छआ मेल मिलाप है। संगठन में सक्रियता होने के साथ समाज के बहुत बड़े वोट बैंक पर कब्जा भी है। कोनी पंचायत में समाज के साथ अन्य जाति वालों में दिनेश का उठना बैठना है। कांग्रेस नेता भी मानते हैं कि दिनेश की दावेदारी मजबूत है। कोनी ग्राम पंचायत सरपंच मनीष गढ़ेवाल अभी दुविधा में हैं। कभी भाजपा से तो कभी कांग्रेस  से चुनाव लड़ना चाहते हैं। लेकिन टिकट के प्रबल दावेदार हैं। बिरकोना पंचायत के देवनगर निवासी संजय भास्कर ने यद्पि अभी तक टिकट की दावेदारी नहीं की है।  लेकिन इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है कि टिकट की दावेदारी नहीं करेंगे। संजय भास्कर को मंत्री शिव डहरिया का बहुत ही करीबी माना जाता है। सतनामी समाज के संत महात्माओं का घर आना जाना है।

                            कांग्रेस की तरह यहां भी बहुत अधिक चर्चित चेहरा टिकट दावेदारों में शामिल नहीं है। मण्डल पदाधिकारी चित्रेश परिहार का नाम टिकट दावेदारों में मजबूती के साथ सामने आ रहा है। यहां भी कोनी सरपंच मनीष गढ़ेवाल की गिनती भाजपा में टिकट दावेदारों में हो रही है।

वार्ड क्रमांक—68–रामकृष्ण परमहंस नगर–अन्य पिछ़ड़ा वर्ग महिला

             वार्ड क्रमांक 68 में शिवघाट,कृष्णा चौक,लोधीपारा,नाकापारा,कोनी बायी तरफ की आबादी और थाना क्षेत्र को शामिल किया गया है। वार्ड में कोनी क्षेत्र के मतदाताओं की संख्या सर्वाधिक है। रणनीति के तहत भाजपा  कोनी से किसी चेहरे को मैदान में उतारना चाहती है। यद्पि अभी दावेदारों का इंतजार है। लेकिन कोनी निवासी रमेश जायसवाल की पत्नी संगीता जायसवाल के नाम की चर्चा है। संगीता को मैदान में उतारा जा सकता है। रमेश जायसवाल भाजपा विचारधारा से हैं। परिवार का भाजपा नेताओं से अच्छा नाता है। जाहिर सी बात है कि संगीता अग्रवाल भाजपा  का चेहरा हो सकती हैं।

                          कांग्रेस में भी प्रत्याशियों का टोंटा है। शायद चुनाव में पर्याप्त समय होना भी हो सकता है। खबर है कि कोनी के उप-सरपंच महेश साहू को टिकट का प्रबल दावेदार माना जा रहा है। चुनाव के दौरान साहू समाज की अच्छी भूमिका होगी। फिलहाल महेश साहू दावेदारों में आगे हैं। वार्ड क्रमांक 59 के वार्ड अध्यक्ष कन्हैया श्रीवास भी टिकट के दावेदार हैं। फिलहाल उनका मुकाबला महेश साहू से है।

वार्ड क्रमांक—69—बिलासा दाई केवटिन नगर–सामान्य

                                   परिसीमन के बाद रेलवे के तीन वार्डों को मिलाकर वार्ड 69 बनाया गया है। वार्ड क्रमांक 60,61,62 को नया वार्ड 69 में शामिल किया गया है। वर्तमान में प्रकाश यादव वार्ड क्रमांक 60, मीना उरांव 61 और अजय फ्रांसिस ऊर्फ सुब्बाराव 62 के पार्षद हैं। वार्ड क्रमांक 69 में भाजपा  के संभावित प्रत्याशी को लेकर पार्टी  के अन्दर और बाहर से गुदगुदाने वाली बातें सामने आ रही हैं। इन बातों की वजह मात्र पार्टी का संभावित प्रत्याशी बनने के अलावा और अर्थ भी नहीं है।

                           रेलवे मण्डल क्षेत्र में व्ही.रामाराव भाजपा के सबसे बड़े और कद्दावर नेता है। इसमें कोई शक नहीं कि इस बार पांचवी बार व्ही.रामारामव पार्षद के लिए चुनाव लड़ेंगे। लेकिन इस बार संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है कि पिछले चार बार से रिकार्ड जीत जीत के रामाराम पांचवी जीत हासिल कर मेयर के लिए प्रयास करें। फिलहाल थोड़ा मुश्किल है..क्योंकि संगठन में समर्थकों की संख्या कम हुई है। कई लोग तो चाहते हैं कि रामाराव को टिकट से दूर रखा जाए। लेकिन रामाराव ने तमाम बातों को दरकिनार करते हुए कहा टिकट मिलेगी और पांचवी बार भी जीतकर रिकार्ड भी बनाएंगे।

                                 पुराने वार्ड क्रमांक 60 के पार्षद प्रकाश यादव भाजपा की तरफ से प्रबल और मजबूत दावेदार हैं। सुब्बाराव बेशक रामा और प्रकाश की छाया में हो लेकिन दावेदारों में उनकी गिनती है। मीना उरांव दावेदार हो सकती है लेकिन यहां से चुनाव नहीं लड़ेंगी।

                                                   कांग्रेस की तरफ से दावेदारों की संख्या भी कम नहीं है। पार्टी के सक्रिय कार्यकर्ता अभिलाष चुनाव लड़ना चाहते हैं। मेहनत भी कर रहे हैं। पुराने वार्ड 61 का अध्यक्ष भी रह चुके हैं। सामाजिक और खेल गतिविधियों में हमेशा सक्रिय भूमिका में रहते हैं। युवाओं में अच्छी पकड़ है। वरिष्ठ मतदाताओं से भी मधुर रिश्ता है। अभिलाष का परिवार पुराना कांग्रेसी है। अभिलाष को भरोसा है कि यदि शेख गफ्फार का आशीर्वाद मिलेगा। वर्तमान में अभिलाष कांग्रेस संगठन में रेलवे ब्लाक युवा कांग्रेस अध्यक्ष पद पर हैं। खुद को टिकट का सबसे बड़ा दावेदार भी मानते हैं।

                    2009 में रामाराव से करारी हार झेलने वाले रामकुमार सेट्ठी भी कांग्रेस से टिकट चाहते हैं। सेट्ठी की क्षेत्र में लगातार सक्रियता भी है। वरिष्ठ कांग्रेस नेता विनोद जवाहर सराफ अपने परिवार के लिए टिकट मांग कर रहे हैं।आटो संघ में अच्छी दखल रखने वाले मोरिस हेल  भी चुनाव लड़ना चाहते हैं। मोरिस हेल को विधायक शैेलेष पाण्डेय का करीबी माना जा रह है।

वार्ड क्रमांक—70–त्रिपुर सुंदरी नगर…अन्य पिछड़ा वर्ग

                   रेलवे के चार वार्ड 63, 64, 65 और 66 को मिलाकर वार्ड क्रमांक 70 त्रिपुर सुंदरी वार्ड बनाया गया है। इसमें कुछ एक बूथ को वार्ड क्रमांक 69 में शामिल किया गया है। वार्ड में आरटीएस कालोनी,एनई कालोनी,बापू नगर,न्यू लोको कालोनी,त्रिपुर सुंदरी नगर,तारबाहर अन्डर ब्रिज क्षेत्र शामिल हैं। भाजपा से टिकट दावेदारी में सबसे आगे नीरजा सिन्हा का नाम शामिल है।नीरजा सिन्हा निगम सभापति अशोक विधानी की पत्नी पूजा विधानी की सगी बहन हैं। नीरजा सिन्हा रेलवे परिक्षेत्र महिला मोर्चा की अध्यक्ष हैं। इसके अलावा श्रीनिवास राव ऊर्फ श्रीनू भी ओबीसी वार्ड त्रिपुरी सुंदरी नगर से चुनाव की दावेदारी कर रहे हैं। श्रीनू राव वर्तमान में वार्ड क्रमांक 63 के पार्षद हैं। संगठन में उपाध्यक्ष पद पर काम कर रहे हैं। यदि ओबीसी वर्ग को लेकर किसी प्रकार का विवाद नहीं हुआ तो नीरजा और श्रीनू के बीच कोई चेहरा भाजपा से वार्ड क्रमांक 70 प्रत्याशी होगा। सुशील यादव भी टिकट की दावेदारी कर रहे हैं। सुशील यादव संगठन में युवा मोर्चा के उपाध्यक्ष पद पर हैं।

                                    कांग्रेस सदस्य और कट्टर समर्थक टेलर मास्टर अब्दुल खान का नाम टिकट दावेदारों में शामिल हैं। जानकारी पर विश्वास करें तो अब्दुल खान को वरिष्ठ कांग्रेस नेता अशोक अग्रवाल का अंध भक्त माना जाता है। अब्दुल को पूरा विश्वास है कि टिकट मिलेगी। रेलवे ब्लाक कांग्रेस अध्यक्ष अजय यादव रेलवे ब्लाक कांग्रेस के अध्यक्ष हैं। युवा चेहरा होने के साथ वार्ड में विखरे कांग्रेसियों को एक करने का काम किया है।  अजय यादव को कांग्रेस प्रदेश महामंत्री अटल श्रीवास्तव का आशीर्वाद भी हासिल है। समर्थकों का कहना है कि सब कुछ ठीक रहा तो अजय यादव चुनाव जरूर लड़ेंगे।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...