समस्या एक…शिकायत दूसरी बार…स्थानीय लोगों ने फिर घेरा जिला कार्यालय…कहा पुराने स्थान पर ही दिया जाए पट्टा

बिलासपुर— नगर निगम में शामिल होने के बाद देवरीखुर्द के लोग पिछले चौबिस घंटो में दूसरी बार स्थायी पट्टा मांगने जिला कार्यालय पहुंचे। इस बार ग्रामीणों की अगुवाई भाजपा नेता बीपी सिंह ने की। बीपी सिंह ने बताया कि तीन दशक से ग्रामीण लोग अरपा तट पर निवास कर रहे हैं। लेकिन सरकार ने नोटिस जारी किया है कि नदी के तट से 100 मीटर दूरी पर ही पट्टा दिया जाएगा। यदि ऐसा किया गया तो सैकड़ों परिवार बेघर बार हो जाएंगे। शासन से गुहार है कि नियमों में संशोधन कर स्थानीय लोगों को बेघरबार होने से बचाए।

                     चुनाव नजदीक है। लगातार शिकायतों का दौर भी शुरू हो गया है। एक दिन पहले कांग्रेस नेता की अगुवाई में देवरीखुर्द के निवासियों ने स्थायी पट्टे की मांग लेकर जिला कार्यालय पहुंचे। दूसरे दिन भाजपा नेता बीपी सिंह भी स्थायी पट्टा की मांग को लेकर ग्रामीणों के साथ जिला कार्यालय का घेराव किया। स्थानीय लोगों की अगुवाई कर रहे बीपी सिंह ने बताया कि यदि शासन के नियमों का पालन किय गया तो अरपा तट पर बसे सैकड़ों परिवार बेघरबार हो जाएंगे।

                                             जिला कलेक्टर के अधिकारी को बीपी सिंह ने जानकारी दी कि देवरीखुर्द के सैकड़ों परिवार अरपा तट से महज दस मीटर की दूरी पर तीन दशक ने घर बनाकर रहते हैं। सरकार ने एलान किया है कि नदी के तट से 100 मीटर की दूरी पर ही अवैध कब्जा धारियों को पट्टा दिया जाएगा। ऐसी सूरत में निश्चित रूप से गरीबों के साथ अन्याय होगा।

              भाजपा नेता ने बताया कि साल 2002 में तात्कालीन मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने गरीबों को फोटो वाला स्थायी पट्टा दिया था। पट्टा मिलने के बाद लोगों ने पक्क घर बनाया। बाद में भाजपा शासन काल में दो सौ से अधिक पट्टों का वितरण डॉ.रमन सिंह ने किया। लेकिन वर्तमान सरकार ने जोगी काल के पट्टे को निरस्त किया। साथ ही पंचायस ने भाजपा सरकार के काल में दिए गए पट्टों का वितरण नहीं किया। मामले को लेकर जनता में भारी नाराजगी है।

                 ग्रामीणों ने बताया कि सभी लोग गरीब परिवार से हैं। बड़ी मुश्किल से दो जून की रोटी मिलती है। यदि बनाए गए घर से बेघर किया गया तो जीना मुश्किल हो जाएगा। बेहतर हो कि सरकार फिर से उसी स्थान पर पट्ट बनाकर दे। इससे गरीब लोग परेशान होने से बच जाएंगे।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...