पर्यावरण को बचाने स्कूली बच्चों की अनूठी पहल,भंडेरा का भविष्य सुधारने निकली भावी पीढ़ी

बालोद-शा. उ. मा. वि . भँडेरा डोंडी लोहारा के स्कूली बच्चों ने पर्यावरण संरक्षण को लेकर जागरूकता अभियान का चला कर बताया कि प्लास्टिक और पालीथिन का अंधाधुंध प्रयोग आज मानवजाति और सजीव जगत को भयंकर मुसीबत की ओर धकेल रही है। इस पर नियंत्रण के साथ-साथ इसका उचित तरीके से निपटान एक प्रमुख समस्या बनी हुई है, जिसमे पूरे विश्व के वैज्ञानिक और पर्यावरणविद लगे हुए हैं।सीजीवालडॉटकॉम के व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने यहां क्लिक कर

इस गम्भीर समस्या के सम्पूर्ण निदान का रास्ता तलाशने के लिए भँडेरा स्कूल की छात्र-छात्राएं अपने शिक्षकों के मार्गदर्शन में ग्राम भँडेरा के विभिन्न वार्डो,घरों,छोटे-बड़ दुकानों,अस्पताल,पोस्ट आफिस, बाज़ार, मंदिर,सोसायटी अन्न भंडार आदि ऐसे जगहों का स्थल निरीक्षण किया जिन जगहों पर सर्वाधिक प्लास्टिक और पॉलीथिन का उपयोग होता है। इनके इस शोधकार्य में विद्यालय की गाइड प्रभारी कैशरीन बेग ने मार्गदर्शन प्रदान करते हुए ग्राम के सरपंच परदेशी राम गावरे व अन्य जिम्मेदार व्यक्तियों से इन छात्र-छात्राओं की मुलाकात कराकर इन बाल वैज्ञानिकों के शोधकार्य की जानकारी दी। विद्यालय की शिक्षक नंदा सोनी भी इस कार्य मे सहयोग प्रदान की।

इन बाल वैज्ञानिकों ने गांव से निकलने वाले समस्त प्रकार के कचरों के उचित निपटान की प्रक्रिया को देखा और लोगो को समझाया गांवों में जैविक खाद बनाने की प्राचीन परंपरा को पर्यावरण का पोषक बताया, इसके साथ ही प्लास्टिक के अधिक उपयोग के खतरों से लोगो को आगाह किया और बताया कि प्लास्टिक पालीथिन का रिसाइकल कर पुनः इसका स्वरूप परिवर्तन या पुनः उपयोग करना ही पर्यावरण के लिये हितकर है,इसे यूँ ही जमीन पर फेंकना या जला देने से अत्यंत ख़तरनाक परिणाम प्राप्त होते हैं। 

बताते चले कि इसी भँडेरा शा उ मा वि की दो छात्राएं योगेश्वरी और पूजा का चयन राज्य स्तरीय बाल विज्ञान कांग्रेस 2019 के लिए चयन हुआ है।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...