घुरवा Archive

छत्तीसगढ़ के चार चिन्हारी नरवा, गरवा,घुरवा अउ बाड़ी ग्रामीण क्षेत्रों में आर्थिक गतिविधियाँ शुरू

नारायणपुर-छत्तीसगढ़ राज्य बनने के बावजूद यहां के मूल निवासी एवं रहवासियों को विकास का वो लाभ नहीं मिल सका, जिनके वे असली हकदार थे। गिरता हुआ भू-जल स्तर, खेती में लागत की बढ़ोत्तरी, मवेशियों के लिए चारा संकट आदि ने स्थिति को और भयावह बना दिया। साल 2019 के अंतिम माह में नई सरकार के

केन्द्रीय संयुक्त सचिव ने की नरवा, गरवा, घुरवा व बाड़ी योजना की सराहना,मोखला गोठान का अवलोकन कर फलदार पौधे का किया रोपण

♦बताया – किसानों के आय में वृद्धि करने वाली अत्यंत महत्वाकांक्षी योजना राजनांदगांव।केन्द्रीय संयुक्त सचिव एवं नीति आयोग के अंतर्गत योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए नियुक्त किए गए जिले के प्रभारी सचिव डॉ. अमित सहाय ने  छत्तीसगढ़ सरकार की विशेष प्राथमिकता वाली नरवा, गरवा, घुरवा और बाड़ी योजना की मुक्तकंठ से सराहना की है। उन्होंने इस

नरवा, गरवा, घुरवा, बाड़ी योजना के क्रियान्वयन में लापरवाही, उप संचालक कृषि को नोटिस

धमतरी।राज्य शासन की महत्वाकांक्षी योजना नरवा, गरवा, घुरवा और बाड़ी योजना के क्रियान्वयन को लेकर जिला प्रशासन बेहद संजीदा व सतर्क है। इसी तारतम्य में कलेक्टर रंजत बंसल के द्वारा आज सुबह धमतरी विकासखण्ड के ग्राम सेहराडबरी में तैयार किए गए आदर्श गौठान का निरीक्षण किया गया। इस दौरान योजना के क्रियान्वयन में लापरवाही बरतने एवं संतोषप्रद

सतही जल स्त्रोतों, जमीन की नमी बढ़ाने और भू-जल स्तर ऊंचा उठाने की जरूरत,CM भूपेश बघेल ने की ‘नरवा, गरुवा, घुरवा अउ बारी‘ की समीक्षा

रायपुर।मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मुख्यमंत्री निवास स्थित अपने कार्यालय में राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ राज्य की महत्वाकांक्षी योजना ‘नरवा, गरुवा, घुरवा अउ बारी‘ के प्रस्तावित कार्याें पर विचार मंथन किया और इस योजना के तहत अभी तक किए गए कार्याे की समीक्षा की।बैठक में प्रदेश के मुख्य सचिव सुनील कुजूर, अपर मुख्य सचिव
loading...