डीएफओ Archive

तिवारी को हटाए जाने पर लिपिक संघ में खुशी…राघवेन्द्र रायपुर अटैच

मुंगेली/बिलासपुर— मुंगेली डीएफ़ओ राघवेन्द्र तिवारी को लिपिकों से पंगा लेना महंगा पड़ गया। लिपिक संघ के दवाब में शासन ने ना चाहते हुए भी राघवेन्द्र तिवारी को मुंगेली से रायपुर कार्यालय अटैच कर दिया है। राघवेन्द्र तिवारी 1989 आईएफस अधिकारी हैं। उनके कार्यशैली को लेकर मुंगेली वन विभाग में गहरी नाराजगी थी। खासकर वनमण्डल लिपिक

कांग्रेसियों ने निकाली शव यात्रा…सीसीएफ का फूंका पुतला…मांगी नौकरी

बिलासपुर—यूथ कांग्रेस ने सीसीएफ कार्यालय के सामने बी.आनन्द बाबू का पुतला दहन किया। मृतक दिनेश रजक के परिवार के लिए नौकरी और मुआवजे की मांग की। इसके पहले यूथ कांग्रेस नेताओं ने राजेन्द्र नगर चौक से सीसीएफ बी.आनन्द बाबू की शव यात्रा निकाली। शव यात्रा में यूथ कांग्रेस के दर्जनों नेताओं के अलावा मृतक के

डीएफओ से तू-तू,मै-मै,…यूथ कांग्रेसियों ने कहा…सरकार पीड़ित परिवार को दे नौकरी

  बिलासपुर— सीसीएफ की गाड़ी से घायल दिनेश रजक की सिम्स में इलाज के दौरान मौत हो गयी। रजक का करीब डेढ़ महीना इलाज किम्स में चला। इसके बाद पन्द्रह दिन पहले उसे सिम्स में भर्ती किया गया। लेकिन उसने दो महीने तक जिन्दगी से दो-दो हाथ कर हार मान ली। परिजनों ने दिनेश रजक

सीएम ने दिया डीएफओ के खिलाफ जांच का आदेश

बिलासपुर–मुख्यमंत्री डाॅ. रमन सिंह मुंगेली जिले के लोरमी विकासखण्ड  के अखरार गांव में आयोजित समाधान शिविर में शामिल हुए। खुड़िया निवासी महिला की शिकात पर डीएफओ मुंगेली के खिलाफ जांच का आदेश दिया है।                   समाधान शिविर में ग्राम खुड़िया की महिला ने सीएम को बताया कि वन विभाग ने तेंदुपत्ता संग्रहण में पारिश्रमिक भुगतान

फिर…एक कर्मचारी ने लगाया प्रताड़ना का आरोप

बिलासपुर— दैनिक वेतनभोगी एक कर्मचारी ने सवाल किया है कि डीएफओ और सीसीएफ आखिर मेरे नियमितिकरण में क्यों टांग अड़ा रहे हैं। बताएं…आखिर वे चाहते क्या हैं। मै उनकी मांग को पूरा करने का प्रयास करूंगा। लेकिन मुझे और मेरे परिवार को जांच के नाम पर वेवजह परेशान ना करें। नियमितिकरण में बाधा ना बनें।

वनसमितिः खाली पेट, जंगल की सेवा..ना बाबा ना

बिलासपुर— वन विकास और वनप्रबंधन समिति के अध्यक्ष और सैकड़ों लोगों ने वनमण्डलाधिकारी कार्यालय का घेराव किया। समिति के सदस्यों ने आलाधिकारियों पर आठ महीने से वेतन लंबित रखने और प्रताड़ना का आरोप लगाया। कर्मचारियों ने बताया कि सोची समझी रणनीति के तहत डीएफओ और सीसीएफ कर्मचारियों को परेशान कर रहे हैं।                                  वन विभाग

डीएफओ और सीसीएफ होंगे मौत के जिम्मेदार

बिलासपुर—वनमण्डल बिलासपुर बांका बीट गार्ड ने सीसीएफ,डीएफओ और अन्य अधिकारियों पर प्रताड़ना का आरोप लगाया है। परेशान कर्मचारी ने सोशल मीडिया में अपनी पीड़ा को जाहिर किया है। जितेन्द्र ने बताया कि यदि मेरी मौत होती है तो इसकी जिम्मेदारी वनण्डलाधिकारी पैकरा और सीसीएफ बी.आनंद बाबू होंगी। दोनो के अलावा फारेस्ट विभाग के अन्य अधिकारियों

वनसुरक्षा समिति का आरोप…जंगल के दुश्मन हैं वन अधिकारी

बिलासपुर— वन सुरक्षा समितियों ने जंगल सुरक्षा करने से इंकार कर दिया है। वन सुरक्षा समितियां वन प्रबंधन समिति के सहयोग में काम करती है। समिति के सदस्य जंगलों की रक्षा के साथ शिकारियों पर नजर रखते है। जंगलों की हिफाजत करने वन प्रबंधन समितियों का गठन साल 1995 के आस पास तात्कालीन दिग्विजय सिंह

कानन पेण्डारी दैवभो कर्मचारियों ने मांगा वेतन

बिलासपुर–श्रमिक कल्याण संघ के बैनर तले कानन पेण्डारी के फारेस्ट विभाग दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों ने आज  वनमण्डलाधिकारी का घेराव किया। लम्बित वेतन को जल्द जल्द दिए जाने की मांग की। इस दौरान दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों ने डीएफओ के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की।                         कानन पेण्डारी दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों ने बताया कि करीब

फॉरेस्ट अफसर सुस्त,अधर मे लटके कई प्रोजेक्ट

बिलासपुर।बिलासपुर वन वृत के डीएफओ सात आठ महीने बाद रिटायर्ड हो जाएंगे। इसलिए विकास के काम में हाथ नहीं डालना चाहते हैं। जाहिर सी बात है कि यदि काम करेंगे तो उंंगलियां उठेंगी। उंगलियों से बचने डीएफओ हाइबरनेशन प्रक्रिया का पालन कर रहे हैं। सात आठ महीने किसी प्रकार के विवाद से बचना चाहते हैं।

संकट में खोंदरा का संरक्षित जंगल और जीव…

बिलासपुर—बहुत पुरानी कहावत है– चोरों ने काट लिया वन..राजा को खबर तक नहीं…। यह कहावत कहीं सटीक बैठती हो या नहीं बैठती हो..लेकिन बिलासपुर रेंज के खोंदरा सर्किल पर सौ प्रतिशत सटीक बैठती है। खोंदरा संरक्षित वन क्षेत्र है। जंगल की कटाई ही नहीं बल्कि अनाधिकृत प्रवेश भी वर्जित है। बावजूद इसके जब तब शिकार