बिलासपुर—तेरा तुझको अर्पण…बहुत सरल पंक्ति है…जीवन का मंत्र भी। जब जानने समझने लायक हुए…तब से आज तक इस मंत्र को पढ़ते और सुनते आ रहे हैं…जिसने इसे गुना…उसको परम शांति मिली…आरती की थाल उठाकर जब कहते हैं कि…प्रभु तेरा तुझको अर्पण…सुनने वाले का मन असीम आनंद में डूब जाता है। मन गर्व से भर जाता