बिलासपुर ( भास्कर मिश्र )।  कुछ गांवों को इंजेक्ट कर बिलासपुर बना दिया गया । बचपन से आज तक बिलासपुर में बहुत बदलाव हुआ है। वर्तमान स्वरूप देने में रेलवे का बहुत बड़ा योगदान है। रेलवे ने बिलासपुर को बहुआयामी संस्कृत का गढ़ बनाया है। अधिकारियों में अनिर्णय की स्थिति ने बिलासपुर को नुकसान पहुंचाया