महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना Archive

ग्रामीण क्षेत्रों में आर्थिक गतिविधियां शुरू,मनरेगा के तहत नारायणपुर जिले के 9500 से ज्यादा मजदूरों को रोज मिल रहा रोजगार

नारायणपुर-नारायणपुर जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में आर्थिक गतिविधियां शुरू हो गयी है। महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी (मनरेगा) के तहत मजदूरों को कोरोना से बचाव की पूरी सावधानी और सुरक्षा बरती जा रही है। ग्रामीणांे की रोजी-रोटी के साथ ही उनकी आर्थिक स्थिति में भी सुधार हो रहा है। नकदी हाथ में आने से

मनरेगा के मजदूरों को जारी किए जाएंगे सामान्य और विशेष श्रेणी के जॉब कार्ड

रायपुर।महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) के तहत पंजीकृत मजदूर परिवारों के लिए पात्रता के अनुसार सामान्य श्रेणी और विशेष श्रेणी के परिवार रोजगार कार्ड(जॉब कार्ड) जारी किए जाएंगे। केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा मनरेगा में काम करने वाले मजदूरों के लिए  परिवार रोजगार कार्ड के लिए प्रदेश को इंडक्टिव फ्रेमवर्क जारी किया

सूखा प्रभावित 96 तहसीलों में मनरेगा श्रमिक परिवारों को मिलेगा 200 दिनों का रोजगार

रायपुर।केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय ने छत्तीसगढ़ सरकार के प्रस्ताव पर सूखाग्रस्त घोषित 96 तहसीलों की विभिन्न जनपद पंचायतों के गांवों में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) के तहत 50 अतिरिक्त दिनों का रोजगार देने की स्वीकृति प्रदान कर दी है। इसे मिलाकर राज्य में महात्मा गांधी नरेगा के तहत पंजीकृत परिवारों को

Social Media का कितना हो रहा इस्तेमाल,कलेक्टर-एसपी कान्फ्रेंस में सरकारी योजनाओं के साथ इसकी भी होगी समीक्षा

रायपुर।मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की अध्यक्षता में 23 और 24 अक्तूबर को रायपुर में जिला कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों की राज्य स्तरीय कान्फ्रेंस होगी।जिसमे मुख्यमंत्री मंत्रालय में सबसे पहले 23 अक्टूबर को कलेक्टर्स कान्फ्रेस लेंगे जो सुबह 11 बजे शुरू होगी।सीएम अगले दिन 24 अक्टूबर को सुबह 11 बजे से दोपहर 1.30 बजे तक जिला

अकलवारा बनेगा ‘खुले में शौचमुक्त’ गांव

गरियाबंद। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह लोक सुराज अभियान के तहत अपने दूसरे पड़ाव में सोमवार को गरियाबंद जिले के छुरा विकासखंड के ग्राम अकलवारा पहुंचे और वहां पीपल की छांव में चौपाल लगायी। मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों की मांग पर अनेक सौगातें दी। मुख्यमंत्री के निर्देश पर कोटरी नाला जलाशय का पानी अंतिम छोर के गांव तक