बिलासपुर—  महिलाओं ने ठाना और मस्तूरी विकासखण्ड का अनुसूचित जाति बहुल ग्राम देवगांव को जिले का सबसे अमन पसंद गांव बना दिया। हमेशा विवादों में रहने वाला देवगांव शराब और जुआ का अड्डा हुआ करता था। मामूली सी बातों पर एक दूसरे के खून का प्यासा होना यहां के लिए कोई बड़ी बात नहीं थी।