(शशिकान्त कोंहर) बिहार के सिवान में हिन्दुस्तान समाचार पत्र के पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या के मामले की सीबीआई जांच की घोषणा से पत्रकारों को बहुत अधिक खुश होने की जरूरत नहीं है।और न उन्हे कोई ऐसी खुशफहमी ही पालनी चाहिये कि सीबीआई के धार खो चुके अफसर इस मामले में दूध का दूध और पानी