बिलासपुर– मुंगेली में 22 जनवरी को प्रदेश के लिए नहीं भूलने वाला इतिहास लिखा जाएगा। इसकी चर्चा दशकों-दशकों तक होगी। हो सकता है कि बाद में इसे मुहावरों, लोकोक्तियों और हाना में सदियों तक दुहराया जाए। ठीक ऐसे ही–जिस तरह हसन का पायजामा आज मुहावरों में सदियों से दुहराया जा रहा है। मुंगेली जिले के