बिलासपुर— बहुत उम्दा शेर है…हम क्या करने आए थे…और क्या कर बैठे… जी हां शायरी का यह आधा हिस्सा कांग्रेसियों पर सटीक बैठती है। अरपा बचाओ यात्रा के तीसरे दिन कांग्रेसियों में खदबद शुरू हो गयी है। दबी जुबान में कांग्रेस के कई पदाधिकारी और अरपा को लेकर संजीदा नेताओं ने कहना शुरू कर दिया