रिहायशी इलाकों की दुकानदारी पर चिंता—भीषण आग हादसे के बाद– कांग्रेस नेता ने कहा–बरबाद हो जाएंगे

IMG-20170831-WA0002बिलासपुर—बिलासपुर में एक दिन पहले प्रदेश के बड़े रेडिमेड कपड़ा दुकान में लाग लगने से करोड़ों का व्यवसाय प्रभावित हुआ है। आगजनी की घटना के बाद शहरवासियों में नई चिंता और चर्चा शुरू हो गयी है। मुख्य सड़क मार्ग के दुकान में हुए हादसे के बाद रिहायशी इलाकों में बने दुकानों और खतरे की आशंका को देखते हुए आमलोगों की परेशानी बढ़ गयी है। कांग्रेस नेताओं ने रिहायशी क्षेत्रों से दुकानदारी पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है।

                    कांग्रेस नेता जसबीर गुम्बर ने बताया कि भारत होजियरी में आगजनी की घटना ना केवल दिल दहलाने वाली है। घटना ने आम लोगों को सोचने और समझने को मजबूर कर दिया है। मुख्य मार्ग की दुकान में आगजनी की घटना को नियंत्रित करने में जिला और निगम प्रशासन को पसीना छूट गया। यदि आगजनी की घटना किसी रिहायशी क्षेत्र के दुकानों में होती तो….इसकी कल्पना करते ही रोंगटे खड़े हो जाते हैं।

                                  जसबीर ने कहा कि आगजनी की घटना से सीख लेने की जरूरत है। लेकिन मामला शांत होते ही निगम प्रशासन हाथ पर हाथ रखकर बैठ जाएगा। जसबीर ने बताया कि पुराना बस स्टैण्ड के पास कश्यप कालोनी निगम के अनुसार रिहायशी क्षेत्र है। यहां महापौर और पार्षद का निवास भी है। देखते ही देखते कश्यप कालोनी प्रदेश का व्यापारिक केन्द्र बन गया है। लोगों ने घरों के सामने व्यावसायिक काम्पलेक्स बना लिया है। यहां से रोजाना करोंडों का कारोबार होता है। जहां काम्पलेक्स या दुकान नहीं है ऐसे घरों के मालिक कर्ज और लोन लेकर काम्पलेक्स और दुकान बना रहे हैं।

                   कांग्रेस नेता ने बताया कि कश्यप कालोनी धीरे धीरे व्यापार का मुख्य केन्द्र बन गया है। जूता,मोबाइल,कपड़ा,मेडिसिन समेत कई सामानों का व्यापक स्तर पर कारोबार किया जाता है। लोग दुकान बनाकर किराए पर उठा रहे हैं। इसकी शिकायत कई बार निगम और टीएनसी में हुई। बावजूद इसके प्रशासन ने शिकायतों को कभी गंभीरता से नहीं लिया।

                               जसबीर के अनुसार ऐसा कभी ना हो…फिर भी कुछ अनहोनी हो गयी तो देखते ही देखते कश्यप कालोनी का नामो निशान मिट जाएगा। कितनी जन और धन की हानि होगी…कल्पना से ही रूह कांप जाती है। गुम्बर ने कहा कि भारत का सबसे बड़ा पर्व दीपावली सिर पर है। लोग दिपावली पर्व को हर्ष और उल्लास के साथ मनाते हैं। दीपावली आते ही कश्यप कालोनी चोरी छिपे पटाखा व्यापार का केन्द्र बन जाता है। इसके अलावा सरजू बगीचा और शहर के अन्य घने रिहायशी इलाकों में फटाका का संग्रहण किया जाता है। इसकी खबर प्रशासन को रहती है। लेकिन आंख हादसे के बाद खुलती है।

सीलिंग अभियान की जरूरत

                 गुम्बर ने कहा कि शहर को स्मार्ट सिटी बनने का लायसेंस मिल गया है। लेकिन स्मार्ट सिटी बनाने के लिए बिलासपुर जिला प्रशासन और अन्य जिम्मेदार विभागों को कठोर कदम उठाने की जरूरत है। दिल्ली की तात्कालीन मुख्यमंत्री शिला दीक्षित की तर्ज पर बिलासपुर में भी सीलिंग अभियान चलाया जाना चाहिए। अभियान के बाद कश्यप कालोनी ही नहीं बल्कि शहर के तमाम घने आबादी वाले क्षेत्रों में व्यापार पर रोक लगाया जाना चाहिए। रिहायशी क्षेत्र में व्यवसाय करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाए।

                                    गुम्बर के अनुसार जनहित में शासन और प्रशासन को कठोर कदम उठाने की खस्त जरूरत है। हो सकता है कि कुछ लोगों को प्रशासन की कार्रवाई कुछ कठोर लगे….लेकिनवोट बैंक की राजनीति से उठकर सरकार को कठोर कदम उठाने ही होगा। यदि ऐसा नहीं किया गया तो भविष्य में भीषण हादसा होने से इंकार भी नहीं किया जा सकता है। सरकार की यही वोट बैंक सरकार गिराने की कारण भी बनेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *