संध्या आरती में जिला पंचायत सभापति ने किया शिरकत..कहा..तिलक परंपरा का करना होगा पालन..एकदन्त से मांगा..अमन चैन का वरदान

बिलासपुर—हर तरफ गणेश स्थापना और पूजा पाठ की धूम है। जगह जगह भक्तगण गणेश स्थापित कर पूजा पाठ करते नजर आ रहे है। नेता  से लेकर समाज सेवक गणेश पंडाल पहुंचकर एकदंत का आशीर्वाद ले रहे हैं। इसी क्रम में गणेश चतुर्थी के पावन पर्व जिला पंचायत सभापति अंकित गौरहा ने उच्चभठ्ठी पहुंचकर शक्ति गणेश उत्सव में शिरकत किया। आरती कर क्षेत्र के विकास और खुशहाली के लिए भगवान लम्बोदर से आशीर्वाद मांगा।
 
                      इन दिनों शहर और आस – पास क्षेत्रों में गणेश उत्सव का माहौल है। जगह जगह गणेश प्रतिमा स्थापित कर भक्त पूजा पाठ में लीन है। देर शाम होते आम और खास सभी लोग भगवान एकदन्त के दरबार पहुंचकर खुशहाली की कामना कर रहे हैं। मोदक चढ़ाकर लोगों के बीच प्रसाद का भी वितरण कर रहे हैं। 
 
       इसी क्रम में जिला पंचायत सभापति अंकित गौरहा ने समर्थकों के साथ उच्चभठ्ठी स्थित शक्ति गणेश उत्सव कार्यक्रम में शिरकत किया। कार्यक्रम में आम और खास के साथ ही स्थानीय गणमान्य लोगों ने भी शिरकत किया।
 
           जिला पंचायत सभापति ने विधि विधान से आरती कार्यक्रम में शामिल होकर भगवान लम्बोदर की आराधना की। साथ ही बिलासपुर के समग्र विकास के साथ ही पार्वती नन्दन से क्षेत्र में अमन चैन का आशीर्वाद मांगा। 
 
               उपस्थित लोगों को जिला पंचायत सभापति ने संबोधित किया। उन्होने सभी को कोरोना प्रोटोकाल का कड़ाई से पालन करने की बात कही। गौरहा ने इस दौरान गणेश उत्सव मनाने का उद्देश्य और इतिहास पर प्रकाश डाला। अंकित ने बताया कि गणेश उत्सव मनाने का नाता हमारे आजादी से जुड़ा है। लोगों को एकजुट करने महान क्रांतिकारी नेता बाल गंगाधर तिलक ने गणेश उत्सव का आगाज किया। पहली बार पुणें में बालगंगाधर तिलक प्रयास से गणेश उत्सव का सामुहिक रूप से पर्व मनाया गया। यहीं से आजादी की पुख्ता बुनियाद रखी गयी।
 
              गौरहा ने कहा..आज भी हम सामुहिक रूप से पर्व मनाते हैं। लेकिन एकता की भावना कहीं दिखाई नहीं देती है। दरअसल गणेश उत्सव के बहाने हम एक स्थान पर होकर भाईचारे की भावना को पुख्ता करते हैं। हमे बाल गंगाधर तिलक के उद्देश्यों को आगे बढ़ाना है। जाति धर्म मनमुटाव और अलगाव के रास्ते को मिटाना है। तब ही हमें भगवान गणेश का आशीर्वाद हासिल होगा। हमें सबसे पहले इंसान बनना होगा। और मानवता की अलख को जन जन तक फैलाकर कौमी एकता की मशाला को जलाकर रखना होगा।
 
             कार्यक्रम में उच्चभट्टी सरपंच नारायण साहू,भागवत यादव,पूर्व सरपंच भागवत यादव अजय यादव,उदय यादव,राजेश श्रीवास,अमर दास,आचार्य संतोष शर्मा,तेजराम साहू,पूर्व सरपंच निर्मला यादव,बसंत गुप्ता, समिति अध्यक्ष सतीश यादव,पंच चमेली यादव,मंदाकनी राज समेत स्थानीय गणमान्य लोगों ने शिरकत किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *