भड़का आक्रोश..रेलवे प्रबंधन को 1 सप्ताह का अल्टिमेटम ..मंच संयोजक ने कहा..अब हम नहीं..रेलवे करेगा निवेदन

बिलासपुर—रद्द यात्री गाड़ियों को बहाली की मांग को लेकर सर्व नागरिक मंच ने आज रेलवे जोन कार्यालय का जंगी प्रदर्शन किया। बरसते पानी में भी नागरिक टस से मस नहीं हुए। इस दौरान मंच के नेताओं ने भाषण भी दिया। रेलवे प्रबंधन पर जमकर आरोप भी लगाया। प्रदर्शनकारियों ने कहा कि बिलासपुर ने जोन को संघर्ष से हासिल किया है। आज यही जोन नागरिकों के लिए दुख का कारण भी बन गया है।  

                   सर्व नागरिक मंच के बैनर तले आज बिलासपुर के नागरिकों ने रेलवे जोन महाप्रबंधक कार्यालय का घेराव किया। सर्व नागरिक मंच के नेताओं ने बताया कि पिछले डेढ़ साल से दर्जनों यात्री गाड़ियों को रेलवे प्रबंधन ने निरस्त कर दिया है। चलने वाली गाड़ियां भी समय पर नहीं पहुंच रही है। रेलवे ने ऐतिहासिक स्टेशनों पर गाड़ियों का स्टॉपेज बंद कर दिया है। सवाल उठता है कि क्या हमने इसलिए ही जोन के लिए संघर्ष किया है। 

              बरसते पानी में दोपहर 12. बजे से दोपहर 2. बजे तक महाप्रबंधक कार्यालय का नागरिकों ने  घेराव किया। मौके से कोई भी टस से मस नहीं हुआ। इस दौरान सभी ने जमकर  नारेबाजी भी की। 

                            प्रदर्शन के बाद नागरिक सुरक्षा मंच के 8 सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल की जी.एम. की अनुपस्थिति में सीपीटीएम यशवंत कुमार चौधरी से बैठक हुई। प्रतिनिधि मंडल ने अधिकारी के सामने तीन सूत्रीय मांग को पेश किया। प्रतिनिधि मण्डल ने यशवंत चौथरी को बताया कि ट्रेन रद्ध होने से जनता में आक्रोश है। रद्द यात्री ट्रेनों का जल्द से जल्द परिवहन किया जाए। रायगढ़ से राजनांदगांव -बिलासपुर, कटनी – कोरबा और रायपुर के बीच चलने वाली सभी लोकल गाड़ियों को किसी भी सूरत में बहाल करें।

                 इसके अलावा  लेट लतीफी को तत्काल बंद किया जाए। सीपीटीएम यशवंत कुमार चौधरी ने प्रतिनिधि मंजल के सामने रेल प्रशासन का पक्ष रखा। उन्होने बताया कि सुधार कार्य आवश्यक होने के कारण ट्रेनों का परिवहन रोका गया है। आश्वासन दिया कि विलम्ब से चलने वाली सभी ट्रेनों को समय पर चलाने का प्रयास किया जा रहा है। स्थानीय पैसेंजर और मेमू ट्रेनों को नियमित चलाया जाएगा। प्रयास होगा कि रद्ध की गई सभी ट्रेनें एक सप्ताह के अंदर प्रारम्भ हो जाएंगी।

                      मंच के संयोजक अमित तिवारी ने बताया कि एक सप्ताह के भीतर यदि तीन सूत्रीय मांग को गंभीरता से नहीं लिया गया तो आंदोलन का विस्तार किया जाएगा। आंदोलन इतना उग्र होगा कि जिसकी लोगों को उम्मीद नहीं है। माल लदान गाड़ियों को सख्त के साथ रोका जाएगा। हमने बहुत निवेदन और आवेदन किया। अब बिलासपुर की जनता नहीं बल्कि रेलवे प्रबंधन को निवेदन के लिए मजबूर होना पड़ेगा।

                                            आंदोलन को समर्थन करने पहुंचे प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता अभय नारायण राय ने कहा कि रेलवे जोन की तानाशाही और मनमानी बढ़ती जा रही है। अभय ने आरोप लगाया कि रेल प्रबंधन ने प्रतिनिधि मण्डल से मिलने नहीं दिया। बहुत जल्द निर्वाचित प्रतिनिधियों और सामाजिक संगठनों को जोड़कर, रेलवे के खिलाफ रेलवे के खिलाफ चरणबद्ध आंदोलन किया जाएगा।

        आज के आंदोलन में अमित तिवारी, अभय नारायण राय सहित प्रमुख रूप से अकबर खान, तैयब हुसैन, जावेद मेमन, रेलवे परिक्षेत्र पार्षद सांई भास्कर, इब्राहिम खान, रवि ठाकुर, युवा कांग्रेस के जय किशन राजू यादव, प्रबल चौबे, सिद्धार्थ तिवारी, विक्की यादव, छोटू ठाकुर, लल्लन बोले, मैडी राव, धनंजय सोनकर, प्रेम सोना, ओम जगत, दादा भाई, आयुष यादव, छोटू यादव, रियांशु राजपूत, राजा यादव, इमरान खान, रिहान, गुलाम खान, विशाल, वासु नामदेव, धीरज साहू, राजा व्यास, राज बंजारे, नानू भाई सहित सैकड़ों कार्यकर्ता उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.