बहंगी छठ मैया के जाए…गाकर डूबते सूर्य को दिया अर्घ्य,सुहागिनों ने वेदी बनाकर की पूजा

रामानुजगंज (पृथ्वीलाल केशरी) छठ महापर्व का तीसरा दिन कन्हर नदी के घाटों पर उत्सव सा नजारा देखने को मिला शाम को लाेग ढोल-नगाड़ों के साथ नाचते और गाते हुए घाटों पर पहुंचे। हजारों की संख्या में महिलाएं घाटों पर पूजा-अर्चना की। छठ व्रतियों ने बहंगी छठ मैया के जाए…गाकर अस्ताचलगामी यानी डूबते हुए सूरज को अर्घ्य दिया। छठ गीतों से माहौल में चार चांद लग गए। पूजा घाट पर पूर्व गृह मंत्री रामविचार नेताम एवं पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती पुष्पा नेताम अपने सहयोगियों के साथ पहुंचे और भर्तियों के बीच प्रसाद के रूप में फल का वितरण किया। तत्पश्चात उन्होंने शुक्ला के आगे मथुरा कहते हैं छठ मैया का आशीर्वाद ग्रहण किया।

शनिवार शाम से 36 घंटे का निर्जला व्रत और छठ की मुख्य पूजा शुरू हुई थी। शनिवार की रात खरना का प्रसाद खाने के बाद से व्रती निर्जला उपवास कर रही हैं। शाम को बांस की टोकरी में फल, ठेकुआ,चावल के लड्डू आदि से अर्घ्य का सूप सजा कर व्रती अपने परिवार के साथ सूर्य को अर्घ्य दी। इसके बाद चौथे और आखिरी दिन उगते हुए सूर्य को दूसरा अर्घ्य दिया जाएगा और अर्घ्य देने के बाद व्रत का पारण किया जाएगा।

फिजा में महक रही थी ठेकुआ की खूशुब
छठी मइया को ठेकुआ का प्रसाद चढ़ाया जाता है। ऐसे में शुक्रवार की सुबह से मिट्टी के चूल्हे और आम की लकड़ी जलाकर व्रतियों द्वारा घर-घर में ठेकुआ का प्रसाद बनाया गया। देसी घी में ठेकुआ बनाने के चलते शहर में ठेकुआ की खुशबू गमक रही थी।

पुलिस और अफसर रहे मुस्तैद

जिले के कलेक्टर विजय दयाराम के.एवं पुलिस अधीक्षक मोहित गर्ग के निर्देश के बाद स्थानीय पुलिस और प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट रही। व्यस्ततम मार्गों पर चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात थी और आवागमन की व्यवस्था को सुदृढ़ करने में सहयोगी साबित हुए। एसडीएम गौतम सिंह,एसडीओपी एन.के.सूर्यवंशी, सीएमओ दीपक एक्का सहित संबंधित विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों के साथ ही शहर तथा घाटों की सुरक्षा व विधि व्यवस्था का निरीक्षण कर जायजा लेते रहे। वही अ स्थाई रूप से पुलिस सहायता केंद्र में भटके एवं बिछड़े हुए लोगों को मिलाने का कार्य देर रात्रि तक जारी रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *