अटल ने कहा..दम हो तो..धरमलाल सांसद निधि का रूपया मांगे..सुप्रीम कोर्ट की फटकार से खुली नींद ..प्रधानमंत्री ने आनन फानन में किया एलान

बिलासपुर—- प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष अटल श्रीवास्तव ने विधानसभा नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक के बयान पर जमकर हृमला किया है। अटल ने धरमलाल कौशिक के विधायक निधि वापस किये जाने के बयान पर कहा कि क्या नेता प्रतिपक्ष सांसद निधि वापस करने को लेकर भी प्रधानमंत्री को पत्र लिखेंगे। इस बात का भी जवाब उन्हें देना चाहिए।

                          प्रदेश उपाध्यक्ष अटल श्रीवास्तव ,शहर अध्यक्ष प्रमोद नायक और प्रदेश प्रवक्ता अभय नारायण राय, प्रदेश संयुक्त महामन्त्री राजेन्द्र शुक्ला ने प्रेस नोट जारी कर नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक पर हमला किया है। जानकारी देते चलें कि एक दिन पहले धरमलाल कौशिक ने विधायक निधि की वापसी की मांग की है। बयान के बाद कांग्रेस नेताओं ने धरमलाल कौशिक को जमकर आड़े हाथ लिया है। कांग्रेस नेताओं ने कहा कि क्या नेता प्रतिपक्ष सांसद निधि भी लौटाए जाने की मांग करेंगे।

             अटल ने कहा कि छत्तीसगढ़ भूपेश सरकार ने 18 से अधिक आयु वर्ग को एक मई से मुफ्त में वैक्सीनशन करवा रही है। इसमें भी केंद्र सरकार की मंशा छत्तीसगढ़ की जनता को परेशान करने वाली थी। जो वैक्सीन छत्तीसगढ़ को चाहिए थी उपलब्ध नही कराई जा रही है। लेकिन विधायक निधि की चिंता करने वाले  इस पर धरमलाल कौशिक मौन है। जबकि उन्हें वैक्सीन के लिए केंद्र सरकार से मांग करनी चाहिए।

               कांग्रेस ने नेताओं ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार मजबूरी में  18 वर्ष को मुफ्त को वैक्सीनशन देने की घोषणा की है। पूर्व में राज्य सरकारों के ऊपर वैक्सीनशन का भार डाल दिया गया था। जब सुप्रीम कोर्ट से फटकार मिली तो प्रधानमंत्री ने वैक्सीन राज्यों को मुफ्त में देने का एलान किया है।

              अटल श्रीवास्तव ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय ने प्रधानमंत्री केअर फण्ड की जानकारी को तलब किया था। केंद्र सरकार ने 35000 करोड़ वैक्सीनशन के लिए आबंटित किया था। लेकिन कोर्ट के सख्त रूख को देखकर रूपया खर्च होने से बच गया। जवाब देने से बचने के लिए प्रधानमंत्री को आनन फानन में मुफ्त में वैक्सीन लगाने एलान करना पड़ा है।

                कांग्रेस नेताओं  ने धरमलाल कौशिक से सवाल किया कि जब केंद्र सरकार मुफ्त में 18 वर्ष से अधिक वालों को वैक्सीनशन की जिम्मेदारी ले रही है। ऐसे में निजी अस्पतालों को वैक्सीनशन के लिए वैक्सीन क्यो बेचा जा रहा है। कोविशील्ड की कीमत 780 रुपये , कोवैक्सीन की कीमत 1410 और स्तुपनिक वी की कीमत 1145 रुपये है। इससे कालाबाजारी होगी । क्योंकि पूर्व की भांति राज्य सरकारों को वैक्सीन की आपूर्ति केंद्र से पर्याप्त मात्रा में नही की जाएगी। लोग मजबूरी में  निजी अस्पतालों में वैक्सीनशन कराएंगे।

             अटल ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष ने विधायक निधि की मांग कर जाहिर कर दिया है कि कोरोना काल मे भी छत्तीसगढ़ की जनता की उन्हें चिंता नही है। विधायक निधि की राशि को छत्तीसगढ़ सरकार कोरोना से पीड़ित गरीब ,मजदूर,किसान के इलाज में खर्च किया है। अटल ने बताया कि भूपेश सरकार नरेंद्र मोदी और भाजपा की तरह प्रति वर्ष 2 करोड़ नौकरी देने के वादे कर मुकरती नही है। न ही घोषणा वीर बनने में विश्वास करती है। क्योंकि कांग्रेस जो कहती है वो करती है।

               कांग्रेस नेताओं ने सवाल किया कि जब शिक्षा कर्मियों को गिरफ्तार कर रायपुर जेल में बंद किया गया उस धरमलाल कौशिक को चिंता नही सताई ?  भूपेश सरकार समग्र विकास के लिए संकल्पित है तो उन्हें चिंता सताने लगी है। लेकिन भाजपा को चिंतित होने की जरूरत नही है। क्योंकि 15 वर्षो में छत्तीसगढ़ के साथ हुआ है जनता अच्छी तरह से समझ चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *