इंडिया वाल

Basant Panchami- बसंत पंचमी के दिन से इन राशि वालों की खुल जाएगी किस्मत

Basant Panchami।बसंत ऋतु को ऋतुओं का राजा माना जाता है। यह पर्व बसंत ऋतु के आगमन का सूचक है। इस अवसर पर प्रकृति के सौंदर्य में अनुपम छटा का दर्शन होता है। पेड़ों के पुराने पत्ते झड़ जाते हैं और बसंत में उनमें नयी कोपलें आने लगती हैं। माघ महीने की शुक्ल पंचमी को बसंत पंचमी होती है तथा इसी दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत होती है। Basant Panchami के दिन भगवान श्रीविष्णु, श्री कृ्ष्ण-राधा व शिक्षा की देवी माता सरस्वती की पूजा पीले फूल, गुलाल, अर्ध्य, धूप, दीप, आदि द्वारा की जा जाती है।

Basant Panchami पूजा में पीले व मीठे चावल व पीले हलुवे का श्रद्धा से भोग लगाकर पूजा करने की परम्परा है। माता सरस्वती बुद्धि व संगीत की देवी है। Basant Panchami के दिन को माता सरस्वती के जन्मोत्सव के रुप में भी मनाया जाता है। यह पर्व ऋतुओं के राजा का पर्व है। इन दिन से बसंत ऋतु से शुरु होकर, फाल्गुन माह की कृ्ष्ण पक्ष की पंचमी तक रहता है। यह पर्व कला व शिक्षा प्रेमियों के लिये विशेष महत्व रखता है।

Basant Panchami-एक किंवदन्ती के अनुसार इस दिन ब्रह्मा जी ने सृ्ष्टि की रचना की थी। यह त्यौहार उतर भारत में पूर्ण हर्ष- उल्लास से मनाया जाता है। एक अन्य पौराणिक कथा के अनुसार इस दिन भगवान श्री राम ने माता शबरी के झूठे बेर खाये थे। इस उपलक्ष्य में बसन्त पंचमी का त्यौहार मनाया जाता है। Basant Panchami को अबूझ मुहूर्तों में शामिल किया जाता है। Basant Panchami के दिन शुभ कार्य जिसमें विवाह, भवन निर्माण, कूप निर्माण, फैक्ट्री आदि का शुभारम्भ, शिक्षा संस्थाओं का उद्धघाटन करने के लिये शुभ मुहूर्त के रुप में प्रयोग किया जाता है।

BREAKING-पूरे देश में 31 मई तक बढ़ाया गया Lockdown,पढ़िये गृह मंत्रालय से लॉकडाउन-4 पर नई गाइडलाइन

सिंह –
Basant Panchami-नये योजना से कार्य करने से सफलता अवष्य प्राप्त होगी…
नये लोगों से व्यवहारिक दूरी बनाये रखना उचित होगा….
असंभावित हानि से बचने के लिए के निम्न उपाय करने चाहिए –
ऊॅ कें केतवें नमः का जाप कर दिन की शुरूआत करें…
सूक्ष्म जीवों की सेवा करें…
धनु –
आत्मविष्वास आज फायदेमंद होगा…
कार्यक्षेत्र में सकारात्मक बदलाव भी दे सकता है….
एलर्जीक चीजों से बचें….
शनि से उत्पन्न कष्टों की निवृत्ति के लिए –
‘‘ऊॅ शं शनिश्चराय नमः’’ का जाप कर दिन की शुरूआत करें,
काले वस्त्र का दान करें…
मकर –
धार्मिक स्थल की यात्रा के योग….
जीवनसाथी को स्वास्थगत कष्ट…
मंगल के दोषों की निवृत्ति के लिए –
ऊॅ अं अंगारकाय नमः का एक माला जाप करें..
मसूर की दाल, गुड दान करें…
मीन –
आज घर पर मेहमान आने के योग….
घरेलू व्यवस्था गड़बड़ हो सकती है…
बजट बिगड़ने से मानसिक तनाव…
गुरू के लिए निम्न उपाय करें-
ऊॅ गुं गुरूवे नमः का जाप करें…
कुल पुरोहित, ब्राह्ण्य को यथासंभव दान दें,

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS