मेरा बिलासपुर

बड़ी खबर..कमीशन के चक्कर में 21 लाख की आनलाइन ठगी..गिरोह के चार आरोपी राजस्थान से गिरफ्तार..पुलिस कप्तान ने बताया..अकाउण्ट में जमा लाखों रूपया फ्रीज

 
बिलासपुर— एन्टी क्राईम और तोरवा पुलिस ने संयुक्त अभियान चलाकर ठगी के रैकेट का पर्दाफाश किया है। मामले की जानकारी पत्रकार वार्ता के दौरान वरिष्ठ पुलिस कप्तान ने दी है। पुलिस कप्तान ने बताया कि संयुक्त पुलिस टीम ने ठगी के रैकेट के चार सदस्यों को राजस्थान से गिरफ्तार किया है। आरोपियों से करीब दो लाख रूपए बरामद किया गया है। इसके अलावा ठगी को अंजाम देने में प्रयोग किए गए एक नग लेपटॉप, 4 नग मोबाईल , 8 विभिन्न बैंको के एटीएम कार्ड समेत एक पेटीएम कार्ड और चेक बुक आरोपियों से जब्त किया गया है।
 
                    बिलासागुड़ी में पत्रकार वार्ता में पुलिस कप्तान पारूल माथुर ने आनलाइन ठगी को अंजाम देने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है। पुलिस कप्तान पारूल माथुर ने रबताया कि गिरोह  के सदस्यों को संयुक्त पुलिस टीम ने राजस्थान में 5 दिनों का कैम्प लगाकर धर दबोचा है। चारो आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने आरोपियों के बैंक खातो में फ्रीज किया है। फ्रीज किए गए खाते में करीब 16 लाख 52 हजार रूपयों से अधिक हैं। इसके अलावा आरोपियों के खाते में जमा 4,46,000 रूपयों को होल्ड भी कराया गया है। 
 
पकड़े गए आरोपियों का पता ठिकाना और नाम
1) राहुल सुथार पिता दिनेश सुथार उम्र 19 साल साकिन थाना पाली जिला राजस्थान
.2). राजकुमार उर्फ राजू सिंधी पिता कन्हैयालाल सिंधी उम्र 38 साल साकिन भिनय राजस्थान
3) हेमराज बैरवा पिता राजकुमार बैरवा उम्र 25 साल निवासी भिनय राजस्थान
4) दीपेश वैष्णव उर्फ दीपू पिता गोविंदादास उम्र 19 साल निवासी लम्बारे राजस्थान
 
इस तरह हुआ ठगी का शिकार
 
                             पुलिस कप्तान पारूल माथुर नेर बताया कि साईधाम तोरवा थाना क्षेत्र निवासी अमलेश लहरी ने रिपोर्ट दर्ज कराया कि कमीशन में अधिकतम राशि का झांसा देकर एएसएमई मॉल कंपनी में पैसे जमा किया।शिकायत में अमलेश ने बताया कि अधिक कमीशन पाने के चक्कर में 21 लाख 53 हजार रूपये जमा किया।
 
       अज्ञात आरोपियो ने मोबाईल पर टेलीग्राम एप के माध्यम से लिंक भेजा। आरोपियों ने मेंटोर रामा एप डाउनलोड कराया।  कमीशन का लालच देकर 21 लाख 52 हजार रूपयों का ठगी किया। इसके अलावा आरोपियों ने दो करोड रूपये देने का झांसा देकर 10 लाख रूपये जमा कराना चाहा।
 
पांच दिन राजस्थान में कैम्प
 
                    पीड़ित अमलेश की शिकायत को गंभीरता से लिया गया। अपराध दर्ज होने के बाद आरोपियों की  गिरफतारी को लेकर टीम का गठन कर राजस्थान भेजा गया। एसीसीयू और तोरवा की टीम ने तकनीकी साक्ष्य के सहारे खाता धारक आरोपियों का पता लगाया।  
 
 खाता को किया गया फ्रीज
 
                राजस्थान में टीम ने पांच दिन कैम्प में अलग अलग स्थानो से 4 आरोपियो को धर दबोचा। आरोपियों से ठगी में उपयोग किए गए सामान को बरामद किया गया। साथ ही नगदी रकम जब्त किया गया है। आरोपियों के बैंक खाते में जमा राशिक को फ्रीज करायागया। गिरफ्तार किए गए सभी आरोपियों के विधिसम्मत कार्रवाई को अंजाम दिया गया है।
 
इनका विशेष योगदान
 
 संपूर्ण कार्यवाही में एसीसीयू प्रभारी हरविंदर सिंह, थाना प्रभारी तोरवा उत्तम कुमार साहू तत्कालीन थाना प्रभारी तोरवा फैजुल होदा शाह, उप निरीक्षक प्रभाकर तिवारी, अजय वारे,धर्मेन्द्र यूपन शांत कुमार साहू,, सहायक उप निरीक्षक विदेशी साहले प्रधान आरक्षक अशोक कश्यप, महिला आरक्षक शकुंतला साहू का विशेष योगदान रहा।

गांधी जी के दो हथियार..सत्य अहिंसा से कराया देश को आजाद..न्यायधीश ने कहा..आजादी के 75 साल बाद भी हो रहा अधिकार का हनन..
Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS