Bilaspur हवाई सुविधा जन संघर्ष समिति का अखंड धरना जारी, प्रतिनिधिमंडल दिल्ली भेजने वरिष्ठ नागरिक मंच की घोषणा

बिलासपुर।हवाई सुविधा जन संघर्ष समिति का अखंड धरना आंदोलन को चलते हुए आज 56वें दिन बिलासा वरिष्ठ नागरिक मंच, लायंस क्लब सेवा एवं जूना बिलासपुर दुर्गोत्सव समिति के पदाधिकारी धरने पर बैठे। वरिष्ठ नागरिक मंच ने हवाई सुविधा की मांग के लिए दिल्ली जाने के लिए स्वयं के व्यय पर प्रतिनिधि मण्डल भेजने की घोषणा की। आज की सभा को संबोधित करते हुये बिलासा वरिष्ठ नागरिक मंच के अध्यक्ष कन्हैय्या लाल केशरवानी व राजेन्द्र अग्रवाल ने कहा कि छत्तीसगढ राज्य निर्माण के समय बिलासपुर वालों को राज्य की राजधानी नांदघाट सिमगा क्षेत्र में बनाने का आश्वासन दिया गया था परन्तु यह झूठा वादा साबित हुआ।सीजीवालडॉटकॉम के व्हाट्सएग्रुप से जुडने के लिए यहाँ क्लिक कीजिये

आज 19 साल बाद भी बिलासपुर को रायपुर के उपनिवेश के रूप में बनाये रखकर यहां का रोजगार व्यवसाय बढने नही दिया जा रहा है। इस आंदोलन को मंच पूरा समर्थन करता है और समिति के प्रतिनिधि मण्डल के साथ दिल्ली जाने के लिए भी तैयार हैं। लायंस क्लब सेवा के डाॅ.के.के.श्रीवास्तव और निलेश वर्मा ने कहा कि बिलासपुर अंचल के हजारों परिवारों के बच्चे पुणे-हैदराबाद-बैंगलौर-दिल्ली में रह रहे है और वे अपने परिवार से मिलने नहीं आ पाते इसलिए बिलासपुर में महानगरों तक सीधी हवाई सेवा बहुत जरूरी है।

जूना बिलासपुर दुर्गोत्सव समिति के संदीप गिरीपुंजे और विरेन्द्र गुप्ता ने अपना वक्तव्य देते हुये कहा कि बिलासपुर में एसईसीएल, रेल्वे जोन, एनटीपीसी, केन्द्रीय विश्वविद्यालय और हाई कोर्ट है। संभवतः यह देश में अकेला शहर है जहां इतने प्रमुख कार्यालय होने के बाद भी एक चालू हवाई अड्डा नही है।

सभा को संबोधित करते हुए लायंस क्लब सेवा की रीता राजगीर और महेश अग्रवाल ने कहा कि बिलासपुर एयरपोर्ट का 4सी केटेगरी में विकास के लिए केवल रू 110 करोड की जरूरत है। इस शहर में रू 600 करोड सीवरेज प्रोजेक्ट में बहा दिया गया है तो एयरपोर्ट के लिए पैसा क्यों नही मिल रहा।

वरिष्ठ नागरिकों की ओर से पूर्व न्यायाधीश एन.डी.एक्का एवं रमेश सोनी ने लोकतंत्र को जनता के लिए जनता के द्वारा किया जा रहा षासन बताते हुये कहा कि प्रधानमंत्री मुख्यमंत्री सभी जनता के सेवक है और उन्हें न्याय करना चाहिए। सभा को अनिल गुप्ता, रविन्द्र मिश्रा, मोहन सिंह ठाकुर, डाॅ.आर.के.यादव, महेश अग्रवाल आदि ने भी संबोधित किया।वरिष्ठ नागरिक मंच की ओर से दिया गया समर्थन पत्र समिति के वरिष्ठ सदस्य राकेष शर्मा ने प्राप्त किया। सभा का संचालन पूर्व पार्षद संजय पिल्ले के द्वारा किया गया।

आज धरना आंदोलन में मोहन सिंह, महेष मुरारका, के.पी.गुप्ता,अवतार सिंह, बी.एस.ठाकुर, रमेश चन्द्र सोनी, राजेन्द्र प्रसाद वर्मा, के.के.अग्रवाल, विष्वभूशण मिश्र, सुनील दुबे, रवीन्द्र मिश्र, अश्विनी मिश्रा, रामगोपाल उपाध्याय, दिव्यांशु नामदेव, विरेन्द्र गुप्ता, रवि नामदेव, अंकित गुप्ता, नितिष गुप्ता, कमल गुप्ता, गोलू सामू, ला. गोपाल अग्रवाल, विषंभर अग्रवाल, अनिल गुप्ता, श्रवण चतुर्वेदी, संजय गुप्ता, लायन अजय वर्मा, विनोद मिश्रा, रघुराज सिंह,अशोक भण्डारी, भुट्टोराज, बद्री यादव, देवेन्द्र सिंह, पप्पू तिवारी, दिनेश निर्मलकर, संतोश पिपलवा एवं सुदीप श्रीवास्तव भी उपस्थित थे।

समिति ने आज यह घोषणा की कि 26 अक्टूबर को यह आंदोलन प्रारंभ हुआ था और 26 नवम्बर को मौन रैली निकाली गयी थीं। इसी तर्ज पर 26 दिसम्बर को शाम 6.00 बजे आंदोलन स्थल से एक ‘‘कैण्डल मार्च’’ निकाला जायेगा इस हेतु अब तक आंदोलन में भाग लिये सभी संगठनों से मार्च में शामिल होने की अपील की जाती है।अखण्ड धरना आंदोलन के 57वें दिन 21 दिसम्बर को नगर निगम चुनाव हेतु वोटिंग प्रस्तावित है इसलिए किसी विषेश संगठन के बजाय हवाई सुविधा जन संघर्ष समिति के प्रतिनिधि धरने पर बैठेगें और अखण्ड धरना आंदोलन को जारी रखेगें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *