हमार छ्त्तीसगढ़

Bilaspur Airport: बोईंग-एयरबस बड़े विमान उतर सके इसके लिए ७०० मीटर रनवे विस्तार की मांग

Bilaspur Airport/हवाई सुविधा जन संघर्ष समिति ने बिलासपुर कलेक्टर से अपील की है कि ४ जून को मतगणना पौंआ होते साथ प्राथमिकता के आधार पर सेना से वापस होने वाली २८७ एकर जमीन का तुरंत सीमांकन कराये अन्यथा बारिश शुरू होने पर सीमांकन कार्य ३ माह के लिए बंद हो जाएगा। समिति ने कहा की इस जमीन को हासिल किये बगैर रनवे का विस्तार नहीं हो सकता। 

Join Our WhatsApp Group Join Now

हवाई सुविधा जन संघर्ष समिति समिति ने कहा कि १५०० मीटर का बिलासपुर एयरपोर्ट का रनवे ४६ डिग्री तापमान में एटीआर ७२ -६०० जैसे छोटे विमान के लिए भी पर्याप्त नहीं है और यही कारण है कि बिलासा बाई केंवट एयरपोर्ट में आये दिन विमान से यात्री उतारने की घटना होती है या विमान को शाम ६ बजे तक रोका जाता है ।

जिससे तापमान काम हो और विमान फुल लोड में उड़ान भर सके। समिति हालांकि अलाइंस एयर की इस मांग से सहमत नहीं है कि रनवे का केवल ३०० मीटर विस्तार किया जाए क्योकि एयरपोर्ट पर बोईंग और एयरबस जैसे १८० सीटर विमान उतरने के लिए काम से काम २२०० मीटर का रनवे चाहिए।

इसलिए समिति की मांग है कि रनवे का विस्तार कम से कम ७०० मीटर कर लम्बाई २२०० मीटर तक बढ़ाई जाए, बार बार और टुकड़ो में काम होने से अनावश्यक विलम्ब होगा।

हवाई सुविधा जन संघर्ष समिति ने लोकसभा चुनाव परिणाम की घोषणा के बाद प्रस्तावित “हवाई सुविधा मार्च ” जो कि रायपुर में घडी चौक से सी एम् हाउस तक होना है , को करने की घोषणा को दोहराया है। इसके लिए विभिन्न संगठनों से जुड़े लोगों और नागरिको को रायपुर चलने के लिए संपर्क किया जा रहा है। समिति “हवाई सुविधा मार्च “की तिथि शीघ्र घोषित करेगी।   

हवाई सुविधा जन संघर्ष समिति का महा धरना आज भी जारी रहा और आगमन के क्रम से सर्व श्री अरुण सिंगरौल., समीर अहमद, अशोक भंडारी, चित्रकांत श्रीवास, विजय वर्मा, बद्री यादव, केशव गोरख, शाहबाज़, दीपक कश्यप, रशीद बक्श मनोहर खटवानी, मोहन जायसवाल, टिकेश प्रताप सिंह, शैलेन्द्र यादव, देवेंद्र सिंह ठाकुर, अभय नारायण, अक़ील अली, मोहसिन अली, संतोष पीपलवा, आशुतोष शर्मा, शैलेश शर्मा, प्रेम दास मानिकपुरी , राकेश दुबे और सुदीप श्रीवास्तव आदि शामिल हुए.

                   

Shri Mi

पत्रकारिता में 8 वर्षों से सक्रिय, इलेक्ट्रानिक से लेकर डिजिटल मीडिया तक का अनुभव, सीखने की लालसा के साथ राजनैतिक खबरों पर पैनी नजर
Back to top button
close