मेरा बिलासपुर

उप चुनावः आज पिटारा में बन्द होगा भाग्य..कुदुदण्ड में हमेशा रहा कांग्रेस का दबदबा…2 बार भाजपा को भी मिली जीत

1983 में पहली बार वार्ड चुनाव..निर्दलीय प्रत्याशी सैय्यद सईद की जीत

बिलासपुर—निगम उप चुनाव परिसीमन के बाद और पहले वार्ड क्रमांक 16  विष्णुनगर में हमेशा कांग्रेस का कब्जा रहा। अब तक कुल सात बार पार्षद चुनाव में कांग्रेस ने पांच और भाजपा ने दो बार जीत हासिल किया है। तीन बार निर्दलियों ने चुनाव जीता है। जीतन वाले सभी निर्दलीय कांग्रेस से बगावत कर चुनाव मैदान उतरे और बाद में कांग्रेस में ही शामिल हो गए। इस बार आठवां चुनाव होगा। भाजपा नेत्री निधी जैन के बाद खाली वार्ड सीट से बेटी श्रद्धा जैन ने मोर्चा संभाला है। श्रद्धा का मुकाबला कांग्रेस प्रत्याशी अनिता हिमांशु कश्यप से है।

              आज यानि 9 जनवरी को विष्णुनगर वार्ड 16 का मतदान शुरू हो गया है। शाम पांच बजे तक तीनो प्रत्याशियों का भाग्य पिटारा में बन्द हो जाएगा। एक निर्दलीय को मिलाकर कुल 3 प्रत्याशी आमने सामने है। भाजपा से स्वर्गीय पार्षद निधि जैन की बेटी श्रद्धा जैन मैदान में है। कांग्रेस से अनिता हिमांशु कश्यप और निर्दलीय प्रत्याशी शैल परमेश्वर यादव मुकाबला करेंगी।

मतदाताओं की स्थिति

वार्ड में कुल मतदाताओं की संख्या 7717 है। वार्ड में सर्वाधिक ब्राम्हण मतदाताओं की संख्या 1099 है। इसके अलावा 945 ठाकुर समाज,722 मुस्लिम समाज के मतदाता है। इसके अलावा यादव समाज के 685 और सतनामी समाज 551 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। वार्ड में काछी,मराठा, काछी समाज, सूर्यवंशी समाज, साहू समाज,वणिक समाज आदिवासी समाज,कुर्मी, धोबी, पनिका,सोनार और नाई समाज की संख्या बहुतायत है।

अब तक किसकी हुई जीत

1983 में पहली बार वार्ड चुनाव हुआ। निर्दलीय प्रत्याशी सैय्यद सईद ने निर्दलीय भन्गी यादव और कांग्रेस प्रत्याशी जगदीश खत्री को हराया। इसके बाद चुनाव नहीं हुआ। साल 1994 में भाजपा प्रत्याशी जमुना यादव ने कांग्रेस प्रत्याशी आमना खान को मात दिया। 1999 के चुनाव में कांग्रेस के बागी नेता रवि चतुर्वेदी ने कांग्रेस के अधिकृत प्रत्याशी को हराया। साल 2004 में एक बार फिर रवि चतुर्वेदी ने कांग्रेस की टिकट पर मैदान जीता। उन्होने अशोक कोरी को हराया। साल 2009 में कांग्रेस नेता परमेश्वर ने टिकट नहीं मिलने पर पत्नी को मैदान मैदान में उतारा। और निर्दलीय प्रत्याशी सहदेव कश्यप की पत्नी पर जीत हासिल किया। साल 2014 में रवि चतुर्वेदी क् छोटा भाई राकेश चतुर्वेदी ने भाजपा से टिकट नहीं मिलने पर निर्दलीय चुनाव जीता। इस बार कांग्रेस नेता परमेश्वर को हार का सामना करना पड़ा। साल 2019 में भाजपा नेत्री निधि जैन ने संगीता चतुर्वेदी को हराकर वार्ड पर कब्जा किया।

रास,डांडिया भजन कार्यक्रम के लिए कोराना गाइड लाइन जारी..प्रशासन का आदेश

                  निधि जैन के आकस्मिक निधन के बाद वार्ड में पहला उप चुनाव किया जा रहा है। इस बार अपनी सीट को बचाने के लिए भाजपा ने निधि जैन की बेटी श्रद्धा जैन को मैदान में उतारा है। दूसरी तरफ कांग्रेस नेता का पूरा प्रयास है कि अनिता के हाथों वार्ड पर एक बार फिर कब्जा किया जाए। हमेशा की तरह एक बार फिर कांग्रेस से बागी परमेश्वर ने अपनी पत्नी शैल को मैदान में उतारकर आक्रोश जाहिर किया है।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS