अमृत महोत्सव कार्यक्रम की पिट गयी भद्द..सीईओ आदेश का सरपंच, सचिवों ने किया नजरअंदाज.. 10 गांवों से सिर्फ 8 महिलाओं ने किया शिरकत

बिलासपुर—देश इस समय आज़ादी के 75 वी वर्षगांठ को आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। जगह जगह कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। इसी क्रम में जनपद पंचायत मस्तूरी में भी प्रशासन के आदेश पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में आसपास के करीब 10 गांव की जनता आना था। लेकिन सीईओ के आदेश को किसी ने गंभीरता से नहीं लिया। नतीज खम्हरिया गांव को छोड़कर किसी गांव के लोग कार्यक्रम में नहीं पहुंचे। इस बात को लेकर पूरे दिन चर्चा विषय बना रहा। 
 
             जानकारी देते चलें कि देश इन दिनों आजादी की 75 वर्षगांठ को अमृत महोत्सव के रूप में मना रहा है। इसी क्रम में शुक्रवार को मस्तूरी,मानिकचौरा और सीपत क्षेत्र के ग्राम पंचायतों में अमृत महोत्सव कार्यक्रम आयोजन किया था। इसके लिए जनपद पंचायत मस्तूरी से भारत का अमृत महोत्सव समारोह मनाए जाने को लेकर विधिवत आदेश भी जारी किया गया। बावजूद इसके कार्यक्रम खानापूर्ति बनकर रह गया।
 
                 खम्हरिया में आयोजित कार्यक्रम में खम्हरिया के अलावा तुलरा, बनियाडीह, सोंठी, मड़ाई, कुली, कुकदा,ऊनि,बिटकुल और निरतु पंचायत की महिलाओं को शामिल होना था।  इसके लिए जनपद पंचायत मस्तूरी सीईओ कुमार सिंह ने तीन दिन पहले  आदेश जारी किया था। सभी ग्राम पंचायतों के सरपंच और  सचिवों को गांव की महिलाओं को लाने का आदेश दिया था। 
 
ना सरपंच ना सचिव
 
             शुक्रवार को निर्धारित समय दोपहर 1 बजे समाज कल्याण विभाग के अधिकारी और क्षेत्र के जिला पंचायत सदस्य नूरी दिलेन्द्र कौशिल कार्यक्रम में पहुंची। लेकिन कार्यक्रम में गिनती की ही महिलाएं नजर आयी। मौजूद सभी महिलाएं खम्हरिया रहने वाली थी। बांकी के सभी 9 गांवों में से एक भी महिलाएं कार्यक्रम में नही पहुंची।  ना ही सरपंच और सचिव  पहुंचे। 
 
               जिला पंचायत सदस्य नूरी कौशिल सभी गांवों में फोन कर कार्यक्रम में नही आने की जानकारी पता लगाया। गांव के स्थानीय लोगों ने बताया कि किसी भी महिलाओं को कार्यक्रम की जानकारी नही है। पंचायत ने मुनादी भी नही कराया है। 
 
सीईओ से कहा आयोजन फिर से कराए
 
              केंद्र सरकार से निर्देशित कार्यक्रम के फ्लॉप होने से नाराज क्षेत्र के जिला पंचायत सदस्य नूरी दिलेन्द्र कौशिल ने जनपद पंचायत सीईओ से फोन पर नाराजगी को जाहिर किया। उन्होने कहा की आपका कार्यक्रम फेल है। कार्यक्रम का आयोजन दुबारा और सूचना के साथ किया जाए। सभी पंचायत के लोगों को कार्यक्रम में शामिल होना सुनिश्चित किया जाए।
 
दो महिलाओं को मिला श्रवणयंत्र और दो को बैसाखी
 
        कार्यक्रम में उपस्थित दो महिलाओं को श्रवण यंत्र और दो को बैसाखी दिया गया।  जिन महिलाओं को पेंशन मिलना बंद हो गया था..उसे तत्काल सुधरवाया गया। कार्यक्रम में खम्हरिया सरपंच गुलाब बाई कंवर के अलावा पंचायत प्रतिनिधि उपस्थित रहे।
 
सीईओ ने बताया..सूचना सभी को दिया गया
 
         कार्यक्रम फ्लाफ होने से मायूस मस्तूरी जनपद सीईओ कुमार सिंह ने बताया कि कार्यक्रम में  विशेष रूप से महिला पेंशनधारियों को बुलाया गया। पत्र के माध्यम से सम्बंधित सभी सरपंच और सचिवों को सूचना दी गई थी। नहीं आने का कारणों का पता लगाया जाएगा। जिला में सचिवों की बैठक थी..शायद इसलिए कार्यक्रम में नहीं पहुंचे।
 
पिट गयी भद्द
                 महत्वपूर्ण कार्यक्रम में गिनती के 8- 9 महिलाएं ही पहुंची। सभी महिलाएं खम्हरिया की थी। महिलाओं को कार्यक्रम में नहीं देख जहां नूरी दिलेन्द्र कौशिल ने नाराजगी जाहिर की। वहीं अधिकारी बगलें झांकते रहे। इस दौरान सफाई भी पेश करते नजर आए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *