CM भूपेश ने कहा-मड़वा ताप विद्युत प्लांट गले में ऐसी फांस, जिसे निगलते बन रहा और न उगलते

Chhattisgarh Assembly,ts singhdeo,news,raipur,raman singh,chhattisgarh

रायपुर।मंगलवार को विधानसभा बजट सत्र में राज्य में संचालित ताप विद्युत संयंत्रों और उससे उत्पादित विद्युत का मामला उठा. मंडवा ताप संयंत्र से जुड़े सवाल पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि मड़वा गले की ऐसी फांस हैं, जिसे निगलते भी नहीं बन रहा और उगलते भी नहीं बन रहा.सदन में बीजेपी विधायक सौरभ सिंह ने यह मामला उठाया था. उन्होंने मड़वा प्लांट कहा कि इसका उत्पादन बढ़ाने से सरकार को ज्यादा फायदा होगा. इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि तेलंगाना के साथ जो एग्रीमेंट हुआ है, इसलिए बिजली देना हमारी बाध्यता है. लेकिन तेलंगाना सरकार बिजली का दो हजार करोड़ रुपये नहीं दे रही है, सिर्फ ब्याज का पैसा देती है. उन्होंने कहा कि मड़वा ताप विद्युत गृह देश का सबसे महंगा पावर प्लांट है. तेलंगाना से यदि बकाया दो हजार करोड़ रुपये मिल जाये तो उत्पादन बढ़ाया जा सकता है. लेकिन सिर्फ ब्याज का पैसा मिल रहा है.

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इसके पहले प्रदेश के ताप विद्युत संयंत्रों से उत्पादन को लेकर किए गए सवाल के जवाब में कहा कि डॉक्टर श्यामा प्रसाद मुख़र्जी ताप विद्युत गृह कोरबा पूर्व 500 मेगावाट, हसदेव ताप विद्युत गृह 840 मेगावाट, कोरबा पश्चिम विस्तार 500 मेगावाट और अटल बिहारी बाजपेयी ताप विद्युत गृह मड़वा से 1000 मेगावाट की बिजली का उत्पादन हो रहा है.

इधर नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने सवाल किया कि जन घोषणा पत्र 2018 को राज्यपाल द्वारा आत्मसात् करने का उल्लेख किया गया था.. कितनी कुल घोषणाएँ की गई थीं ? कितनी पूर्ण हो गई कितनी अपूर्ण है जो अपूर्ण है कब तक पूरी होगी?जिसपर सदन में लिखित जवाब में बताया गया कि, 36 लक्ष्य निर्धारित थे, 14 पूरी हो चुकी तथा 22 घोषणाएँ पूरी हो गई हैं।इस पर नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने 14 पूरी हो चुकी योजनाओं का ब्यौरा माँगा। इस पर जबकि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ब्यौरा बताया, जिस पर नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने यह कहते हुए आपत्ति की मुख्यमंत्री जी की पूरी बात ग़ौर से सुना.. वे जितना घोषणा गिनाएँ वे तो सात भी नहीं हुई.. हम तो 14 का ब्यौरा पूछ रहे है।इस बहस के बीच सदस्य शिवरतन शर्मा ने पूरक प्रश्न पूछा जिसके जवाब आते ही तब हंगामा हो गया जबकि शिवरतन शर्मा ने कहा“मुख्यमंत्री सदन को गुमराह कर रहे हैं”

इस पर सत्ता पक्ष ने खड़े होकर प्रतिरोध किया। वहीं विपक्ष के सदस्य भी खड़े हो गए और सदन में देर तक शोरगुल होता रहा।इस बीच नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने यह कहते हुए भाजपा विधायक दल के साथ बहिर्गमन कर दिया-“हम सवाल पूछ रहे हैं हमें जवाब नहीं दिया जा रहा है.. हम बहिर्गमन करते हैं”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *