हवाई सुविधा जन संघर्ष समिति आंदोलन के 3 वर्ष पूरे, समिति व सभी संगठनों ने 4C पूर्ण विकसित एयरपोर्ट के लिए संघर्ष जारी रखने का ऐलान किया

बिलासपुर। हवाई सुविधा जन संघर्ष समिति के महा धरना आंदोलन को आज 3 साल पूरे हो गए। 26 अक्टूबर 2019 को राघवेंद्र राव सभा भवन प्रांगण में इस आंदोलन की शुरुआत हुई थी। पिछले 3 सालों में किसी न किसी रूप में यह आंदोलन लगातार जारी रहा। इस बीच 1 मार्च 2021 को सफलता का एक पड़ाव 3C वीएफआर एयरपोर्ट शुरू हुआ और वर्तमान में दिल्ली समेत चार शहरों के लिए यह सुविधा उपलब्ध है। हालांकि नाइट लैंडिंग और बोइंग विमान के लायक एयरपोर्ट को बनाने के लिए समिति का आंदोलन जारी है।

आज धरना के 3 साल पूरे होने पर धरना स्थल पर एक बड़ा कार्यक्रम समिति ने आयोजित किया।जिसमें सभी वक्ताओं में 4c एयरपोर्ट बनने तक इस संघर्ष को जारी रखने का संकल्प लिया। इस दौरान सभी ने अब तक के संघर्ष को याद करते हुए केंद्र और राज्य सरकार से बिलासपुर एयरपोर्ट के विकास के लिए सभी आवश्यक कार्य स्वीकृत करने की मांग की। आज के प्रोग्राम में मीडिया के साथियों का सम्मान कार्यक्रम भी रखा गया।जिन्होंने सतत रूप से इस जनहित की मांग पर सार्थक भूमिका निभाई। कार्यक्रम में अंचल शर्मा और युगल शर्मा की टीम द्वारा देशभक्ति की गीतों का कार्यक्रम प्रस्तुत कर समा बांध दिया।

समिति के द्वारा आगे के आंदोलन की रूपरेखा भी रेखांकित की गई। गौरतलब है कि एक पूर्ण विकसित एयरपोर्ट के लिए नाइट लैंडिंग सुविधा जरूरी है। वही बोइंग और एअरबस विमान को उतरने के लिए रनवे की लंबाई 2500 मीटर जरूरी है। वर्तमान में बिलासपुर एयरपोर्ट के रनवे की लंबाई 1500 मीटर है।इसको बढ़ाने के लिए जिस भूमि की जरूरत है वह अभी सेना के पास है।जिससे भूमि की वापसी की मांग समिति कर रही है। वर्तमान में पंद्रह सौ मीटर रनवे पर ही नाइट लैंडिंग सुविधा को राज्य सरकार ने मंजूर किया है। जिस कार्य को अभी किया जाना है।

आज के कार्यक्रम में संसदीय सचिव रश्मि सिंह ,विधायक धर्मजीत सिंह, महापौर रामशरण यादव ,अटल श्रीवास्तव, योग आयोग सदस्य रविंद्र सिंह, पूर्व विधायक चंद्र प्रकाश बाजपेई, सभापति शेख नजीरुद्दीन, पत्रकार गण वीरेंद्र गहवई ,सुरजीत सिंह, राजेश अग्रवाल, अखिल वर्मा, राजेश दुआ, उमेश मौर्य, जितेंद्र थवाईत, विनोद कुशवाहा ,संदीप परिहार, संजीव ठाकुर,कमल दुबे,भास्कर मिश्रा, पार्षद स्वर्णा शुक्ला, राजेश शुक्ला ,यतीश गोयल ,सीमा पांडे ,वरिष्ठ अधिवक्ता आशीष श्रीवास्तव, लकी यादव ,वीरेंद्र गौरहा, हिमांशु शर्मा ,देवाशीष धारा, गोपी राव, जय प्रकाश मित्तल, अनिल तिवारी और समिति के सदस्यों में देवेंद्र सिंह, बद्री यादव, महेश दुबे, विजय वर्मा, समीर अहमद, राकेश, शर्मा अनिल गुलहरे, सी एल मीणा ,शेख अल्फाज, नरेश यादव ,किशोरी लाल गुप्ता ,कमल सिंह ठाकुर ,कमलेश दुबे ,अनिल गुलहरे ,सुधांशु मिश्रा ,अखिलेश बाजपेई ,संत कुमार नेताम, प्रकाश बहोरानी, राघवेंद्र सिंह डॉ मोटवानी ,रमेश लालवानी, लकी अली ,ईशाक खान और सुधीप श्रीवास्तव आदि सदस्य उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *